Submit your post

Follow Us

ग्राउंड रिपोर्ट ईडरः जहां के लोग एक पहाड़ बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं

ईडरियो गढ़ जीत्या रे
आनंद भयो आनंद भयो

ईडर का गढ़ जीत लिया, अब मैं खुश हूं.

ईडर साबरकांठा की एक तहसील और एक विधानसभा सीट है. ईडर के गढ़ में ऐसा क्या है, जिसे जीत लेने पर आनंद के होने का गाना चल पड़ा?

ईडर केवल एक तरफ से थोड़ा सा खुला है. बाकी तरफ से पहाड़ से घिरा. जिस तरफ से खुला है, उधर दो दरवाजे थे. बाकी तरफ पहाड़ के होने की वजह से किले पर जीत आसान नहीं थी. इसी वजह से यहां किसी मुश्किल काम को ईडर का गढ़ जीतने की उपमा दी गई.
फेमिनिज़म की दृष्टि से इस पर आपत्ति हो सकती है लेकिन यहां ये शादियों में भी गाया जाता है.

थोड़ा पहाड़ चढ़ने पर किला आता है. कोई रोक-टोक नहीं. कोई देख-भाल नहीं. दीवारों पर नाम और नामों के बीच प्रेम प्रदर्शन करने वाली आकृतियां.

किले की दीवारों पर खुरच कर कई सारी आकृतियां गढ़ दी गई हैं (फोटोः अमितेश सिन्हा / दी लल्लनटॉप)
किले की दीवारों पर खुरच कर कई सारी आकृतियां गढ़ दी गई हैं (फोटोः अमितेश सिन्हा / दी लल्लनटॉप)

यहां से ठीक ऊपर ऊंचे पहाड़ पर एक और किले जैसा कुछ दिखता है. ये रूठी रानी का महल है. यहां के लोग बताते हैं कि यहां के एक राजा की एक रानी ने कहा कि वो अंबाजी में होने वाली आरती देखने के बाद ही खाना खाएंगी. अंबाजी यहां से 70 किलोमीटर दूर. तो उनका इंतजाम उस ऊंचे पहाड़ पर किया गया. कुछ लोगों के मुताबिक आरती के बाद अंबाजी में मशाल जलती और यहां भी मशाल जलती. दोनों तरफ के लोग जलती मशाल देखकर मैसेज सेंड/रिसीव का टिक लगता और फिर रानी खातीं. कुछ लोग कहानी को थोड़ा रियल बनाते हैं. उनके मुताबिक हर 10-15 किलोमीटर पर ऐसा इंतजाम था और मशाल जलती देखकर अपनी मशाल जलाकर आगे दिखाई जाती.

थोड़ा पहाड़ चढ़ने पर किला आता है. कोई रोक-टोक नहीं. कोई देख-भाल नहीं. दीवारों पर नाम और नामों के बीच प्रेम प्रदर्शन करने वाली आकृतियां.

किले के अलावा ईडर के पहाड़ों में पुराने मंदिर, जैन मंदिर और दरगाह जैसी दसियों चीजें हैं. (फोटोः अमितेश सिन्हा / दी लल्लनटॉप)
किले के अलावा ईडर के पहाड़ों में पुराने मंदिर, जैन मंदिर और दरगाह जैसी दसियों चीजें हैं. (फोटोः अमितेश सिन्हा / दी लल्लनटॉप)

लेकिन यहां के लोग कहते हैं कि कुछ साल बाद हो सकता है कि यहां पहाड़ के नाम पर कुछ न बचे.

क्यों?

माइनिंग

किस चीज की माइनिंग?

ग्रेनाइट की. यहां के पहाड़ों में ग्रेनाइट भरा पड़ा है.

अवैध माइनिंग?

राजा के वारिसों ने सब लीज़ पर दे दिया है, लेकिन माइनिंग की परमिशन तो लोकल शासन-प्रशासन देता है.

माइनिंग से दिक्कत क्या है?

वीडियो देखें- गुजरात में माइनिंग से कभी भी खत्म हो जाएगी ये ऐतिहासिक विरासत

ये इस जगह की ऐतिहासिक विरासत है. किले के अलावा इन्हीं पहाड़ों में पुराने मंदिर, जैन मंदिर और दरगाह जैसी दसियों चीजें हैं.
ईडर में तमाम लोग इस माइनिंग के खिलाफ एक साथ खड़े दिखते हैं. जबकि बाकी मुद्दों पर बातचीत में वो बंटे दिखते हैं. मसलन भाजपा ने कितना काम कराया जैसे सवालों पर कुछ के जवाब आते हैं कि बहुत काम कराया है, तो कुछ लोग कहते हैं कि कुछ काम नहीं कराया है, ईडर के भीतर सड़कें बहुत खराब हैं, 1-1 घंटे का जाम लग जाता है.

ऐसा नहीं है कि ये सीट कोई राजनीतिक उपेक्षा झेल रही हो. यहां से रमनलाल वोरा विधायक हैं. रमनलाल विधानसभा अध्यक्ष भी हैं. वो भाजपा का दलित चेहरा कहे जाते हैं. लेकिन इस बार उन्हें सुरेंद्रनगर की दसाडा सीट से लड़ाया जा रहा है. कहा जा सकता है कि दसाडा से कांग्रेस के दलित चेहरे नौशाद सोलंकी के खिलाफ उन्हें उतारा जा रहा है. लेकिन यहां के कई लोग मानते हैं कि माइनिंग कर रहे लोगों से उनके ताल्लुकात की वजह से उन्हें यहां से हटाया गया है. वो 1995 से यहां से लगातार जीत रहे थे. ये भी बताया गया कि 1995 से लगातार जीतने के बावजूद उन्हें यहां का नहीं माना जाता है, उनका यहां घर भी नहीं हैं.

ईडर में अभी तक भाजपा और कांग्रेस में से किसी ने अपने कैंडीडेट का ऐलान नहीं किया है. लोग कहते हैं कि रिजल्ट काफी कुछ कैंडीडेट के ऐलान के बाद तय होगा.

चुनाव के नतीजे आने के बाद कोई न कोई पार्टी जरूर गाएगी, लेकिन ईडर का गढ़ बचाने वाले कब तक गा पाएंगे…

ईडरियो गढ़ जीत्या रे
आनंद भयो आनंद भयो


गुजरात चुनाव-2017 की लल्लनटॉप कवरेज पढ़ेंः

मेहसाणा ग्राउंड रिपोर्टः जहां सरकार जानवर चराने की ज़मीन लेकर निजी कंपनी को दे देती है
गुजरात, जहां एक रानी ने एक हिंदू राजा के चलते जौहर किया
गुजरात में देवी पूजक समाज की हालत विकास का मुंह चिढ़ाती है
बीजेपी गुजरात में जीते या हारे, नरेंद्र मोदी ये रिकॉर्ड ज़रूर बना लेंगे
बीजेपी गुजरात में जीते या हारे, नरेंद्र मोदी ये रिकॉर्ड ज़रूर बना लेंगे
नरेंद्र मोदी की लाइफ की पूरी कहानी और उनकी वो विशेषताएं जो नहीं पढ़ी होंगी

Video: जो नमक बनाते हैं उनके बच्चों से मिलिए

Video: पद्मावती के जौहर और विलेन खिलजी की कहानी सुनी होगी, अब ये सुनिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?