Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ इंडिया का ये बहुत बड़ा मैच फ़िक्स किया गया था

4.84 K
शेयर्स

“सक़लैन मुश्ताक़ ने एक गेंद फ़ेंकी थी मुझे. शॉर्ट बॉल थी. मैंने उसे पुल मारा और सिंगल निकाला. जब मैंने वो रन बनाया तो मैंने सोचा कि इस गेंद को मैं दूसरी तरीके से मार सकता था और मुझे चार रन मिलते. अभी सिर्फ एक मिला. फिर जब मैं आखिरी दो गेंदें खेलने पहुंचा तो श्रीनाथ ने मुझसे कहा कि इस गेंद को मारने की कोशिश करना. ऐसी कोशिश करो कि गेंद कनेक्ट हो जाये. मुश्ताक़ ने मुझे वही गेंद फ़ेंकी. मैंने उस पर वही शॉट मारा, जो मैंने सोचा था. अच्छा कनेक्ट हुआ. उसको मारने के बाद जो फीलिंग आई, मैं समझ गया था कि चार रन मिलेंगे.”

12 साल का दर्द. उस दर्द का एक इलाज. एक शॉट. दर्द देने वाले का नाम – जावेद मियांदाद. इलाज देने वाले का नाम – हृषिकेश कानितकर. महाराष्ट्र का लबड़हत्था बल्लेबाज.

जावेद मियांदाद ने 1986 में चेतन शर्मा को आख़िरी गेंद पर छक्का मारा था. मारने से पहले पूछा भी था ‘तेरा रूम किधर है? उधर ही मारूंगा.’ जावेद मियांदाद की वो चोट इंडियन क्रिकेट वैसे ही लेकर टहल रहा था जैसे एक घोड़ा अपनी पीठ पर गरम कर दिए गए लोहे की मुहर की छाप लिए घूमता है. उस एक पाप का प्रायश्चित करवाया कानितकर ने. 18 जनवरी साल 1998. सचिन तेंदुलकर जिस समयकाल में प्रलय ला रहे थे. उनका खेल, खेल नहीं ताण्डव का रूप ले चुका था. उस मौसम में वर्ल्ड रिकॉर्ड 314 रन चेज़ कर लिए गए थे. मैच में सौरव और सचिन ने वो शुरुआत दी जिसे आज-कल के हिसाब से भी एक तेज़ शुरुआत कहा जा सकता है. पहला विकेट इनिंग्स की 50वीं गेंद पर गिरा. सचिन 26 गेंद में 41 रन बनाकर कैच आउट हुए थे.

इसके बाद सौरव गांगुली और रॉबिन सिंह ने मामला संभाला. रॉबिन 83 गेंद पर 82 रन बनाकर निबटे. दूसरा विकेट 250 रन पर गया. गांगुली अभी भी जुटे हुए थे. अज़हर, जडेजा और सिद्धू सिंगल डिजिट में वापसी कर चुके थे. दादा, अभी दादा नहीं बने थे, 138 गेंद पर 124 रन बनाकर गए. “मैं इसे अपनी सबसे अच्छी इनिंग्स मानता हूं.” बाद में सौरव का यही कहना था.

कट टु लास्ट ओवर. आख़िरी 2 गेंद. जीतने को 3 रन. इसके पहले श्रीनाथ ने लगातार 2 डबल और एक सिंगल लेकर मामला यहां तक पहुंचाया था. गेंद मुश्ताक़ के हाथ में. हल्की छोटी गेंद. कानितकर घुटनों पर. आड़ा बल्ला और मैदान में शोर. ऐतिहासिक शोर. सभी चीख रहे थे. श्रीनाथ ने कानितकर को भींचा हुआ था. प्लेयर्स मैदान पर दौड़ कर आये. सभी बेतहाशा खुश थे. सचिन को अज़हर को खींच कर गले लगाते हुए देखा जा सकता था. 

मगर एक आदमी था जो इतनी खुशी में भी उतना खुश नहीं दिख रहा था. ऐसा हमने धोनी को करते देखा है मगर धोनी को अभी आना था. मोहम्मद अजहरुद्दीन. सोचा गया कि ये उसकी कूलनेस है. मगर सच कुछ और ही था. मई 2000 में तहलका मैगज़ीन ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया. मनोज प्रभाकर ने कपड़ों में कैमरे छुपा कर लोगों से उनकी बातचीत रिकॉर्ड की. उन टेप्स को रिलीज़ किया गया.

उस टेप में दिखती हैं अंजू महेन्द्रू. अंजू एक फिल्म ऐक्ट्रेस थीं. उस टेप में हुई बातचीत ऐसी है:

अंजू: “उन्होंने (पाकिस्तान ने) 315 बना दिए थे. उस दिन तो अज़हर की मां मर गयी थी. वो कप भी ले रहा था तो उसके हाथ ऐसे-ऐसे हिल रहे थे.” (हाथ कांपते हुए दिखाती हैं) 

प्रभाकर: “उस टूर्नामेंट में… जीते थे जबकि हम… एक ही आदमी नाखुश नज़र आ रहा था उस दिन…”

अंजू: “अज़हर. वो कानितकर ने चौका मार दिया. वो बेचारे बच्चे को क्या मालूम. वो चौका लग गया तो जीत गए हम.”

हृषिकेश कानितकर ने वो मैच जो जिताया था, असल में वो हम हारने वाले थे. क्यूंकि वो मैच पहले ही फ़िक्स हो चुका था. कानितकर ने जो किया वो अजूबा था. हारा हुआ मैच जिताया. उसे लग रहा था कि अब वो हीरो बन जायेगा. लेकिन उसे ड्रॉप कर दिया गया. और वो इंडियन टीम में कभी भी अपनी जगह में नहीं बना सका. 2015 में कानितकर ने रिटायरमेंट लिया.


ये भी पढ़ें:

अज़हर गया, थैली में छः लाख रुपये लेके आया और दे दिए

क्या इस महिला क्रिकेटर ने शेन वॉर्न की ‘बॉल ऑफ़ द सेंचुरी’ जैसा कमाल किया है?

आशीष नेहरा रिटायर भले ही हो गए हैं मगर उनकी कहानी इंस्पायर करती रहेगी

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

गेम ऑफ थ्रोन्स लिखने वाले आर आर मार्टिन का जनम दिन है. मौका है, क्विज खेल लो.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

इन 10 सवालों के जवाब दीजिए और KBC 9 में जाने का मौका पाइए!

अगर ये क्विज जीत लिया तो केबीसी 9 में कोई हरा नहीं सकता

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.