Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ इंडिया का ये बहुत बड़ा मैच फ़िक्स किया गया था

6.35 K
शेयर्स

“सक़लैन मुश्ताक़ ने एक गेंद फ़ेंकी थी मुझे. शॉर्ट बॉल थी. मैंने उसे पुल मारा और सिंगल निकाला. जब मैंने वो रन बनाया तो मैंने सोचा कि इस गेंद को मैं दूसरी तरीके से मार सकता था और मुझे चार रन मिलते. अभी सिर्फ एक मिला. फिर जब मैं आखिरी दो गेंदें खेलने पहुंचा तो श्रीनाथ ने मुझसे कहा कि इस गेंद को मारने की कोशिश करना. ऐसी कोशिश करो कि गेंद कनेक्ट हो जाये. मुश्ताक़ ने मुझे वही गेंद फ़ेंकी. मैंने उस पर वही शॉट मारा, जो मैंने सोचा था. अच्छा कनेक्ट हुआ. उसको मारने के बाद जो फीलिंग आई, मैं समझ गया था कि चार रन मिलेंगे.”

12 साल का दर्द. उस दर्द का एक इलाज. एक शॉट. दर्द देने वाले का नाम – जावेद मियांदाद. इलाज देने वाले का नाम – हृषिकेश कानितकर. महाराष्ट्र का लबड़हत्था बल्लेबाज.

जावेद मियांदाद ने 1986 में चेतन शर्मा को आख़िरी गेंद पर छक्का मारा था. मारने से पहले पूछा भी था ‘तेरा रूम किधर है? उधर ही मारूंगा.’ जावेद मियांदाद की वो चोट इंडियन क्रिकेट वैसे ही लेकर टहल रहा था जैसे एक घोड़ा अपनी पीठ पर गरम कर दिए गए लोहे की मुहर की छाप लिए घूमता है. उस एक पाप का प्रायश्चित करवाया कानितकर ने. 18 जनवरी साल 1998. सचिन तेंदुलकर जिस समयकाल में प्रलय ला रहे थे. उनका खेल, खेल नहीं ताण्डव का रूप ले चुका था. उस मौसम में वर्ल्ड रिकॉर्ड 314 रन चेज़ कर लिए गए थे. मैच में सौरव और सचिन ने वो शुरुआत दी जिसे आज-कल के हिसाब से भी एक तेज़ शुरुआत कहा जा सकता है. पहला विकेट इनिंग्स की 50वीं गेंद पर गिरा. सचिन 26 गेंद में 41 रन बनाकर कैच आउट हुए थे.

इसके बाद सौरव गांगुली और रॉबिन सिंह ने मामला संभाला. रॉबिन 83 गेंद पर 82 रन बनाकर निबटे. दूसरा विकेट 250 रन पर गया. गांगुली अभी भी जुटे हुए थे. अज़हर, जडेजा और सिद्धू सिंगल डिजिट में वापसी कर चुके थे. दादा, अभी दादा नहीं बने थे, 138 गेंद पर 124 रन बनाकर गए. “मैं इसे अपनी सबसे अच्छी इनिंग्स मानता हूं.” बाद में सौरव का यही कहना था.

कट टु लास्ट ओवर. आख़िरी 2 गेंद. जीतने को 3 रन. इसके पहले श्रीनाथ ने लगातार 2 डबल और एक सिंगल लेकर मामला यहां तक पहुंचाया था. गेंद मुश्ताक़ के हाथ में. हल्की छोटी गेंद. कानितकर घुटनों पर. आड़ा बल्ला और मैदान में शोर. ऐतिहासिक शोर. सभी चीख रहे थे. श्रीनाथ ने कानितकर को भींचा हुआ था. प्लेयर्स मैदान पर दौड़ कर आये. सभी बेतहाशा खुश थे. सचिन को अज़हर को खींच कर गले लगाते हुए देखा जा सकता था. 

मगर एक आदमी था जो इतनी खुशी में भी उतना खुश नहीं दिख रहा था. ऐसा हमने धोनी को करते देखा है मगर धोनी को अभी आना था. मोहम्मद अजहरुद्दीन. सोचा गया कि ये उसकी कूलनेस है. मगर सच कुछ और ही था. मई 2000 में तहलका मैगज़ीन ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया. मनोज प्रभाकर ने कपड़ों में कैमरे छुपा कर लोगों से उनकी बातचीत रिकॉर्ड की. उन टेप्स को रिलीज़ किया गया.

उस टेप में दिखती हैं अंजू महेन्द्रू. अंजू एक फिल्म ऐक्ट्रेस थीं. उस टेप में हुई बातचीत ऐसी है:

अंजू: “उन्होंने (पाकिस्तान ने) 315 बना दिए थे. उस दिन तो अज़हर की मां मर गयी थी. वो कप भी ले रहा था तो उसके हाथ ऐसे-ऐसे हिल रहे थे.” (हाथ कांपते हुए दिखाती हैं) 

प्रभाकर: “उस टूर्नामेंट में… जीते थे जबकि हम… एक ही आदमी नाखुश नज़र आ रहा था उस दिन…”

अंजू: “अज़हर. वो कानितकर ने चौका मार दिया. वो बेचारे बच्चे को क्या मालूम. वो चौका लग गया तो जीत गए हम.”

हृषिकेश कानितकर ने वो मैच जो जिताया था, असल में वो हम हारने वाले थे. क्यूंकि वो मैच पहले ही फ़िक्स हो चुका था. कानितकर ने जो किया वो अजूबा था. हारा हुआ मैच जिताया. उसे लग रहा था कि अब वो हीरो बन जायेगा. लेकिन उसे ड्रॉप कर दिया गया. और वो इंडियन टीम में कभी भी अपनी जगह में नहीं बना सका. 2015 में कानितकर ने रिटायरमेंट लिया.


ये भी पढ़ें:

अज़हर गया, थैली में छः लाख रुपये लेके आया और दे दिए

क्या इस महिला क्रिकेटर ने शेन वॉर्न की ‘बॉल ऑफ़ द सेंचुरी’ जैसा कमाल किया है?

आशीष नेहरा रिटायर भले ही हो गए हैं मगर उनकी कहानी इंस्पायर करती रहेगी

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

साउथ अफ्रीका की हरी जर्सी देख कर शिखर धवन को हो क्या जाता है!

बेबी को बेस, धवन को साउथ अफ्रीका पसंद है.

क्या आखिरी एपिसोड में टॉम ऐंड जेरी ने आत्महत्या कर ली?

टॉम ऐंड जेरी में कभी खून नहीं दिखाया गया था, सिवाय इस एपिसोड के.

क्विज: आईपीएल में डिविलियर्स सबसे पहले किस टीम से खेले थे?

भीषण बल्लेबाज़ एबी डिविलियर्स के फैन होने का दावा है तो ये क्विज खेलके दिखाओ.

क्विज़: योगी आदित्यनाथ के पास कितने लाइसेंसी असलहे हैं?

योगी आदित्यनाथ के बारे में जानते हो, तो आओ ये क्विज़ खेलो.

देशों और उनकी राजधानी के ऊपर ये क्विज़ आसान तो है मगर थोड़ा ट्रिकी भी है!

सारे सुने हुए देश और शहर हैं मगर उत्तर देते वक्त माइंड कन्फ्यूज़ हो जाता है

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो डुगना लगान देना परेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

रजनीकांत के फैन हो तो साबित करो, ये क्विज खेल के

और आज तो मौका भी है, थलैवा नेता जो बन गए हैं.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

न्यू मॉन्क

जब पृथ्वी का अंत खोजने के लफड़े में लापता हुए शिव के 1005 साले!

दुनिया का अंत खोजने के चक्कर में नारद को मिला ऐसा श्राप कि सुट्ट रह गए बाबा जी.

कृष्ण की 16,108 पत्नियों की कहानी

पत्नी सत्यभामा की हेल्प से पहले किया राक्षस का काम तमाम. फिर अपनी शरण में ले लिया उसकी कैद में बंद लड़कियों को.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

जब एक-दूसरे को मारकर खाने लगे शिव के बच्चे

ब्रह्मा जी ने सोचा कि सृष्टि को आगे बढ़ाने की ज़िम्मेदारी शंकर जी को सौंप दी जाए. पर ये फैसला गलत साबित हुआ.

शिव-पार्वती ने क्यों छोड़ा हिमालय पर्वत?

जब अपनी ही मां से नाराज हुईं पार्वती.

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

स्वयंवर से पहले ही एक दूजे के हो चुके थे शिव-पार्वती

हिमालयपुत्री पार्वती ने जन्म के कुछ समय बाद ही घोर तपस्या शुरू कर दी. मकसद था-शिव को पाना.

इस ब्रह्मांड में कैसे पैदा हुआ था चांद!

चांद सी महबूबा और चंदा मामा का गाना गाने से पहले ये तो जान लो. कि चंद्रमा बना कैसे.

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.