Submit your post

Follow Us

13,800 पन्नों की चार्जशीट से पुलवामा हमले की ये बातें पहली बार सामने आईं

14 फरवरी, 2019 को पुलवामा हमला हुआ था. हमले की ज़िम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी. अब नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) को कुछ और अहम और इनडेप्थ जानकारियां मिली हैं. जैसे कि हमले का प्रमुख हैंडलर कौन था? कहां से था? किस तरह इस बड़ी घटना को अंजाम दिया गया, वगैरह. ‘इंडिया टुडे’ मैग्ज़ीन ने 14 सितंबर के अंक में इस पर डिटेल स्टोरी पब्लिश की है. इसमें बताई गई ज़रूरी बातों को संक्षेप में जानने की कोशिश करते हैं.

हालिया डेवलपमेंट, प्रमुख हैंडलर का नाम

एनआईए ने 25 अगस्त को पुलवामा हमले से संबंधित चार्जशीट दाख़िल की. जम्मू की एक स्पेशल कोर्ट में. 13,800 पन्नों की चार्जशीट. कुल 19 लोग हैं, जिन पर हमले के लिए उकसाने, मदद करने और हमले को अंजाम देने के आरोप हैं. हमलावरों की इस टीम की अगुवाई कर रहा था 22 साल का पाकिस्तानी उमर फारूक.

उमर जैश का प्रमुख हैंडलर था. बम बनाने में एक्सपर्ट. उमर पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद इब्राहिम अतहर का बेटा था. अतहर का हाथ 1999 के कंधार विमान हाईजैक में था. तब उमर तीन साल का था. बाद में जब 2000 में मौलाना मसूद अजहर ने जैश-ए-मोहम्मद की स्थापना की, तो अतहर वहां भी मसूद के साथ रहा. जब उसका बेटा उमर 20 साल का हुआ, तभी से उसे आतंकी गतिविधियों के प्रशिक्षण दिलाने लगा था.

हमले के करीब 15 दिन पहले उमर ने आरडीएक्स के अलावा करीब 200 किलो की दो आईईडी (शक्तिशाली विस्फोटक) तैयार की थीं. उसने इतने शातिर तरीके से योजना तैयार की थी कि हमले के तुरंत बाद उसका नाम भी सामने नहीं आया. ये अलग बात है कि 29 मार्च, 2019 को वो बडगाम में सुरक्षा बलों के साथ हुई एक मुठभेड़ में मारा गया. मौत के बाद उसका पुलवामा हमले से संबंध सामने आया है.

‘इंडिया टुडे’ के नीलांजन दास के तैयार किए इस इन्फोग्राफिक से समझिए कि पुलवामा हमले में किस आतंकी की क्या भूमिका थी.

Mastermind 1
हमले के मास्टरमाइंड. (ग्राफिक सोर्स – India Today)
Mastermind 2
हमले को अंजाम देने वाले. (ग्राफिक सोर्स – India Today)

जांच की पहली कड़ी

उमर फारूक की मौत के बाद सुरक्षा बलों के हाथ उसका फोन लगा. एनआईए इस फोन में दर्ज सभी जानकारियों का बारीकी से अध्ययन करना चाहती थी. लेकिन जम्मू-कश्मीर की अदालतों से फोन का पूर्ण अधिकार लेने और जानकारियां निकालने में एनआईए को महीनों लग गए. दिसंबर, 2019 में फोन की जानकारियां टटोली गईं, तो आईईडी बनाने वाले लोगों की डिटेल्स, तस्वीरें, पाकिस्तान में बैठे उमर के आकाओं से चैट्स वगैरह हाथ लगीं.

एनआईए के आईजी अनिल शुक्ला, जम्मू कश्मीर पुलिस अधीक्षक राकेश बलवाल, पुलिस उपमहानिरीक्षक सोनिया नारंग और इनकी टीमों ने मिलकर कड़ी से कड़ी जोड़ी. और अब इन्हीं कोशिशों के आधार पर इतनी लंबी-चौड़ी चार्जशीट फाइल की गई है.

अप्रैल, 2018 में उमर ने भारत में घुसपैठ की थी. इसके बाद कैसे-कैसे घटनाक्रम चला, देखिए.

Timeline
टाइमलाइन. (ग्राफिक सोर्स – India Today)

कैसे बना हमले का प्लान

उमर फारूक ने अपने दो आतंकी साथियों- समीर और आदिल के साथ मिलकर हमले के लिए आईईडी असेंबल किए. जब सारे विस्फोटक तैयार हो गए, तो तीनों ने एक प्रोपगेंडा वीडियो भी तैयार किया, जिसमें आदिल बता रहा है कि वो सुसाइड बॉम्बर क्यों बना. फिर ये वीडियो पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं को भेजा. हमले के बाद ये वीडियो जारी किया गया.

14 फरवरी को बशीर ने पता लगाया कि सीआरपीएफ की बसों का काफिला एनएच-44 से निकलेगा. बशीर और आदिल कार से एनएच-44 की तरफ निकले. यहां तक पहुंचने के उनके पास तीन रास्ते थे. दो पर नाकाबंदी थी, लिहाजा वे तीसरे कच्चे रास्ते से निकले. हाइवे से एक किमी पहले बशीर गाड़ी से उतर गया.

…और धमाका

कुछ ही देर में सीआरपीएफ की 76वीं बटालियन का काफिला हाइवे पर आया. 78 गाड़ियां थीं. आदिल ने पांचवीं गाड़ी से अपनी गाड़ी भिड़ा दी और डैशबोर्ड पर लगा डेटोनेशन स्विच दबा दिया.

जोरदार विस्फोट हुआ. आवाज़ मीलों दूर तक सुनी जा सकती थी. सड़क पर काफी गहरा गड्ढा हो गया. देश में हुए सबसे भीषण आतंकी हमलों में से एक.

डेढ़ साल बाद अब आगे क्या?

मामला अब जम्मू की अदालत में है. एनआईए वहां चार्जशीट, साक्ष्य पेश करेगी. पाकिस्तान की संलिप्तता साबित की जाएगी. भारत इन साक्ष्यों का उपयोग फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) के सामने भी कर सकता है. पाकिस्तान का नाम ब्लैक लिस्ट में जुड़वाने के लिए.

जांच कुछ अहम सवाल भी खड़े करती है. जैसे कि तमाम दावों के बाद भी जैश के आतंकी भारत में घुसने, रहने और इतना बड़ा हमला करने में कामयाब हो गए, कैसे? लोकल लेवल पर उन्हें घर से लेकर ट्रांसपोर्ट तक तमाम कामों में मदद मिली, कैसे? इन सवालों के लिए जवाब ढूंढना भी निश्चित ही जांच एजेंसियों की प्राथमिकताओं में होगा.


पुलवामा हमला: आरडीएक्स और विस्फोटक कहां से आए, नई जानकारी सामने आयी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.