Submit your post

Follow Us

'ऐ मेरे वतन के लोगों' किस डब्बी पर लिखा गया था जान लिया तो खोपड़ी भन्ना जाएगी

ऐ मेरे वतन के लोगों…
तुम खूब लगा लो नारा

ये शुभ दिन है हम सब का
लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर
वीरों ने है प्राण गंवाए

कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर न आये…

आजादी के पहले और बाद में कई देशभक्ति गीत बने. देश का, जवानों का बहुत बखान किया गया. लेकिन कुछ कमी जरूर रह गई होगी. जिसे कवि प्रदीप के लिखे इस गाने ने पूरा कर दिया. भारत-चीन युद्ध के शहीदों को याद करते हुए लिखे गए इस गीत को लता ने पहली बार 27 जनवरी, 1963 को दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में गाया था. ये गीत समय के साथ बहुत ही खास होता चला गया. इसने लोगों को बहुत भावुक किया. इस बात को लेकर कि बॉर्डर पर खड़े सेना के जवान अपने देशवासियों के लिए कितना त्याग करते हैं. उन्हीं की बदौलत हम अपने घरों में निश्चिंत होकर बैठते हैं.

हम अपने सैनिकों के लिए इस भाव को यूं महसूस कर पाते हैं तो रामचंद्र नाराणयजी द्विवेदी की वजह से जोकवि प्रदीप के नाम से जाने गए. 6 फरवरी, 1915 को कवि प्रदीप मध्य प्रदेश के बड़नगर में जन्मे थे. निधन 11 दिसंबर 1998 को मुंबई में हुआ था.

कवि प्रदीप के साथ लता मांगेशकर.
कवि प्रदीप के साथ लता मंगेशकर.

उनके लिखे इस गीत ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ के बनने का किस्सा बहुत मजेदार है.

1962 में इंडिया-चाइना वॉर के बाद सेना के जवानों को आर्थिक मदद देने के लिए हमारे फिल्म जगत के लोग भी आगे आए. ‘मदर इंडिया’ (1957) फेम डायरेक्टर मेहबूब खान ने एक फंड रेज़र आयोजित किया ताकि पैसे जमा किए जा सकें. ये कॉन्सर्ट 27 जनवरी 1963 को होने वाला था. इसकी गेस्ट लिस्ट बहुत लंबी और हाई प्रोफाइल थी. इसमें प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, राष्ट्रपति एस. राधाकृष्णन, दिलीप कुमार और देव आनंद समेत बॉलीवुड के बहुत सारे लोग मौजूद रहने वाले थे.

कॉन्सर्ट के लिए भारतीय फिल्मों के सभी मशहूर संगीतकारों को अपने एक-एक देशभक्ति गाने के साथ बुलाया गया, जो वो उस दिन गाने वाले थे. लिस्ट में नौशाद, शंकर-जयकिशन, मदन मोहन और सी. रामचंद्र जैसे नाम शामिल थे. सभी अपनी फिल्म के गानों के साथ तैयार थे लेकिन रामचंद्र के पास कोई गाना नहीं था. ऐसे में वो मशहूर कवि प्रदीप के पास पहुंचे और उनसे एक गाना लिखने की गुज़ारिश की. लेकिन प्रदीप ने मजाकिया अंदाज़ में झटकते हुए कहा कि ‘फोकट का काम हो तो आते हो’. लेकिन बाद में प्रदीप से गाना लिखने का वादा लेकर रामचंद्र वहां से चले गए.

प्रदीप एक दिन ऐसे ही माहिम बीच पर टहल रहे थे. उनके दिमाग में एक लाइन कौंधी और फट से एक पूरा पैरा तैयार हो गया. अब टहलने आदमी बैग लेकर तो जाता नहीं है. बगल के एक राहगीर से पेन मांगा और अपने सिगरेट का डिब्बा फाड़कर उलट दिया और लिखने लगे. यहां से शुरुआत हो गई. घर पहुंचे और गाना खत्म किया. कुल सौ पैराग्राफ तैयार हो गए थे. रामचंद्र आए और पहला पैरा देखकर ही गाना पसंद कर लिया. जरूरत भर लिया और बाकि कवि के पास रहने दिया.

अब इसे गवाने की कवायद शुरू हुई. लता उस समय की टॉप सिंगर थीं लेकिन रामचंद्र से उनकी बातचीत बंद थी. ऐसे में आशा भोसले से रिहर्सल शुरू करवा दिया गया. लेकिन प्रदीप चाहते थे कि ये गाना लता ही गाएं. इसके लिए प्रदीप ने लता से गुज़रिश की और लता मान गईं. और बात तय हुई कि ये लता-आशा का ड्यूएट होगा. आशा ने अगले दिन म्यूज़िक डायरेक्टर को फोन करके कह दिया कि उनकी तबीयत थोड़ी नासाज़ है, इसलिए वो दिल्ली नहीं जा पाएंगी. अब ये गाना सोलो लता का हो गया.

ये गाना पहले आशा और लता का ड्यूएट होने वाला था, लेकिन आशा की तबियत खराब होने के कारण इसे लता ने अकेले गाया.
ये गाना पहले आशा और लता का ड्यूएट होने वाला था. आशा की तबीयत खराब होने के चलते लता ने सोलो गाया. 

कॉन्सर्ट वाला दिन आया और महफिल सज गई. रफी ने फिल्म ‘लीडर’ से ‘अपनी आज़ादी को हम’ गाया और मजमा लूट लिया. फिर लता का नंबर आया. उन्होंने शुरू किया ही था कि स्टेडियम में सन्नाटा पसर गया. गाना खत्म होने को आया और ‘जय हिंद, जय हिंद. जय हिंद की सेना’ गूंजने लगा. लोग बौखलाकर इधर-उधर देखकर उस कोरस वाली आवाज़ को ढ़ूंढ़ने लगे. रामचंद्र चाहते थे कि जब कोरस गाया जाए तब आवाज गूंजें इसलिए उन्होंने अपने कोरस सिंगर्स को पर्दे के पीछे छुपाकर रखा था. ऐसा लगे कि पूरा हिंदुस्तान एक साथ गा रहा है. उनकी ये जुगत काम कर गई.

गाना पूरा होने के बाद महबूब खान लता के पास आए और कहा कि उन्हें पंडित जी बुला रहे हैं. ये सुनकर लता के कान खड़े हो गए. उन्हें लगा कि उनसे कोई गलती हो गई है. लता नेहरू जी के पास पहुंचीं और देखा नेहरू आंखों में आंसू लिए खड़े थे. उन्होंने उनसे कहा ‘लता, तुमने आज मुझे रुला दिया’. इसके बाद लता की सांस में सांस आई. ये बात लता ने अपने एक इंटरव्यू में बताई थी. लता ने बताया कि ये गाना वो तकरीबन 100 से ज़्यादा कॉन्सर्ट में गा चुकी हैं.

गाना खत्म करने के बाद नेहरू से मिलतीं लता.
गाना खत्म करने के बाद नेहरू के साथ लता.

ये भी पढ़ें: 
जब जावेद अख़्तर को शबाना से प्यार हुआ तो उनकी पहली पत्नी ने जो किया वो रुला देने वाला था
उस इंडियन डायरेक्टर की 5 बातें जिसने हॉलीवुड में फिल्म बनाकर ऑस्कर जीता
वो म्यूज़िक डायरेक्टर जो अपने संगीत को बचाने के लिए फिल्म डायरेक्टर बना
किस्से उस कॉमेडियन के जिसका नाम मशहूर स्कॉच ब्रांड के ऊपर रखा गया था
इस एक्ट्रेस की आइफोन ऐप बनाने से लेकर बॉलीवुड हीरोइन बनने तक की कहानी बहुत दिलचस्प है

Video: विराट कोहली और अनुष्का शर्मा की शादी की तस्वीरें

Video: पद्मावती और राजपूत करणी सेना पर ऋषि कपूर को ज़रूर सुनिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?