Submit your post

Follow Us

पुलवामा: शहादत के बाद मिले 55 लाख, फिर भी पैसों का मोहताज है शहीद का परिवार

14 फरवरी, 2019. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमला हुआ. सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स (CRPF) के 40 जवान शहीद हो गए. कई जवान घायल हुए. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली. सालभर हो गए इस हमले को. जांच अभी भी जारी है. शहीद होने वालों में एक नाम मनोज बेहरा का भी था. इस बरसी पर ‘इंडिया टुडे’ ने शहीद मनोज के परिवार वालों से बातचीत की है.

मनोज ओडिशा के कटक के रहने वाले थे. रतनपुर गांव के. मनोज दिसंब,  2018 में एक महीने की छुट्टी पर घर आए थे. वह अपनी बेटी का जन्मदिन मनाकर 6 फरवरी को वापस गए थे. मनोज की पोस्टिंग दूसरी बार जम्मू और कश्मीर में हुई थी. उनके पापा जितेंद्र इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए बताते हैं कि पुलवामा हमले के तुरंत बाद उन्हें कॉल किया था लेकिन उनका नंबर बंद आ रहा था.

Manoj Behra
शहीद मनोज बेहरा (फोटो: इंडिया टुडे)

इंडिया टुडे की टीम जब मनोज के घर पहुंची तो शहीद जवान के माता-पिता ने आरोप लगाया कि उनकी बहू लीलता बेहरा ने सारा पैसा मिलने के बाद उन्हें छोड़ दिया. लीलता को राज्य सरकार से 25 लाख रुपये और केंद्र सरकार से 30 लाख रुपये की आर्थिक सहायता मिली थी. इंडिया टुडे से फोन पर बात करते हुए लीलता ने कहा-

मुझे राज्य और केंद्र सरकार की ओर से 55 लाख रुपये मिले. मैं इस पैसे से अपनी बेटी को अच्छी शिक्षा देना चाहती हूं. रिलायंस फाउंडेशन की ओर से किसी भी तरह की कोई मदद नहीं मिली. मेरी बेटी जब 5 साल की हो जाएगी तो मैं सरकारी नौकरी स्वीकार कर लूंगी. मैं अपने रिश्तेदार के घर पर हूं. लोकेशन नहीं बता सकती.

Manoj Behra Father
शहीद मनोज बेहरा के पिता जितेंद्र (फोटो: इंडिया टुडे)

मनोज के पिता जितेंद्र बेहरा ने इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए बताया-

मेरी पत्नी बीमार रहती है. उसका इलाज लगातार जारी है. जब मेरा बेटा जिंदा था तब वह हमारी वित्तीय जरूरतों का ध्यान रख रहा था. अब कोई भी मदद करने वाला नहीं है.

मनोज को लेकर ग्रामीण सागरिका सिंह इंडिया टुडे से बातचीत करते हुई बताती हैं,

पूरा गांव सदमे में है. हमने कभी सोचा भी नहीं था कि मनोज के साथ ऐसा होगा. ऐसा दोबारा नहीं होना चाहिए. मनोज के माता-पिता अभी भी कष्ट में हैं. कोई सोर्स ऑफ इनकम नहीं है. उनकी जिंदगी तबाह हो गई है.


वीडियो- पुलवामा में CRPF पर हुए आतंकवादी हमले में इतने जवान कैसे शहीद हुए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.