Submit your post

Follow Us

'सच्चे हिंदू हो तो पटाखे को हाथ मत लगाना'

13.53 K
शेयर्स

पटाखा क्या है

साइज में छोटा, आवाज में दमदार जिसका मकसद सिर्फ हंगामा करना होता है, बदलाव लाना नहीं. माने पटाखे के विस्फोट से अगर इलाके का हुलिया बदल जाता है तो वो बम है पटाखा नहीं. इसलिए पटाखा मतलब तेज आवाज़. जैसे भगत सिंह ने असेंबली में फेंका था. सिर्फ आवाज़ और धुआं था उसमें.

पटाखे में क्या होता है

होता तो बहुत कुछ है. लोग माचिस की तीली का मसाला निकालकर पटाखा बना लेते हैं लेकिन मुख्य रूप से पटाखे का मसाला है बारूद. और बारूद में होता है सॉल्टपेटर, सल्फर वगैरह.

बारूद का इतिहास

देखो दावा चाहे जो करे लेकिन तमाम टेक्नोलॉजी की तरह इसकी खोज भी चीन में हुई. बिना लिखा पढ़ी वाली खोज 9वीं सदी में मानी जाती है, जब टैंग साम्राज्य हुआ करता था. लिखित फॉर्मूला 11वीं सदी का मिलता है. वहां 1040 से 1044 तक एक मिलिट्री का दस्तावेज लिखा गया ‘वूजिंग जोंग्याओ’ जिसमें पहला बारूद का फॉर्मूला मिलता है. मतलब ये भी वहीं से आया है जहां की झालर और पटाखों का विरोध हर सच्चा देशभक्त करता है.

चीन ने बारूद बनाया, मंगोलों ने फैलाया. भारत में उस वक्त तीर तलवार और भाले से लड़ाई होती थी.
चीन ने बारूद बनाया, मंगोलों ने फैलाया. भारत में उस वक्त तीर तलवार और भाले से लड़ाई होती थी.

भारत में बारूद

ये इस आर्टिकल का सबसे खास हिस्सा है. भारत में बारूद मंगोल लाए. मंगोल खाना बदोश आक्रमणकारी थे जिन्होंने तमाम दुनिया के साथ भारत के बड़े हिस्से पर भी कब्ज़ा कर लिया था. चीन पर पहले ही कब्ज़ा किए हुए थे. तो वहां से बारूद लेकर इधर आ गए थे. ये हुआ था 13वीं सदी में. 1606-07 में लिखे गए तारीख ए फरिश्ता में लिखा है कि मंगोल सरदार हलाकू खान के पास बारूद था. हलाकू 13वीं सदी में इधर आया था. हलाकू को तो जानते ही होगे. अगर अजीज नाजां की वो कव्वाली सुनी है “चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जाएगा.” उसमें एक लाइन है जिसमें हलाकू का जिक्र है-

अब न वो हलाकू है और न उसके हाथी हैं
जंगजू वो पोरस है और न उसके साथी हैं

तो जैसा कि आपने देखा बारूद मंगोल आक्रमणकारियों का लाया हुआ पदार्थ है, जिससे पटाखे बनते हैं. भारत के हिंदू राजा महाराजा इसी वजह से उनके पास टिक नहीं पाते थे क्योंकि उनके पास बारूद होता था. यहां लोग टापते रह जाते थे कि ये क्या चीज है भई. इस बारूद की वजह से हमको हजारों साल गुलाम रहना पड़ा और आप कहते हैं हमें पटाखे दगाने हैं.

पिछले साल यानी 2016 की दिवाली के बाद तीन दिन तक रही थी जहरीली धुंध
पिछले साल यानी 2016 की दिवाली के बाद तीन दिन तक रही थी जहरीली धुंध.

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में पटाखों की बिक्री पर बैन लगा दिया है. एक नवंबर तक दिवाली बीत जाएगी, फिर आराम से दगाना लेकिन इस बैन से सबसे ज्यादा आहत दिल्ली से बाहर वाले हैं. समुद्र में एक जीव होता है जो आगे भी चल लेता है और पीछे भी. पटाखा बैन का विरोध करने वाले वही हैं. मतलब हर साल ये खुद चाइनीज़ झालरों का और पटाखों का विरोध करते थे तो कुछ नहीं था, इस साल सुप्रीम कोर्ट ने हर तरह के पटाखे बैन कर दिए तो भावनाएं आहत हो गईं.

विडंबना ये है कि इनको लगता है हिंदू त्योहार के साथ ज़्यादती हुई है. ये सिर्फ हिंदुत्व बचाना चाहते हैं, हिंदू नहीं. क्योंकि जहरीली ऑक्सीजन सोखकर हिंदू कहां बचने वाला है.

इनका एक तर्क ये है कि जब साल भर एसी चलाते हैं, गाड़ियां चलाते हैं, सिगरेट पीते हैं तो एक दिन में पटाखों से क्या नुकसान हो जाएगा. यही तब भी विरोध कर रहे थे जब दिल्ली में पॉल्यूशन कम करने के लिए केजरीवाल ने ऑड ईवन लागू किया था. दूसरी बात ये है कि एसी, गाड़ी, सिगरेट आदमी की मर्जी है. वो चाहे पिए, चलाए या नहीं. लेकिन पटाखे चलेंगे तो उसकी हवा में सांस सबको लेनी पड़ेगी. पिछले साल दिल्ली से चार दिन धुंध नहीं छटी थी. अस्थमा के मरीजों की जान पर बन जाती है और अस्थमा हिंदू मुसलमान देखकर तो होता नहीं.

एक और फनी लॉजिक देते हैं कि बकरीद पर बकरे कटने पर बैन क्यों नहीं कराते? यानी इनके अंदर का इंसान जाग गया है इसलिए ये बकरों को बचाना चाहते हैं. फिर बचे हुए बकरों, गायों, कुत्तों को पटाखों के जानलेवा शोर से एडवेंचर सिखाना चाहते हैं. अमा जानवरों को तुम्हारे एडवेंचर में दिलचस्पी नहीं है, उन्हें बचाकर टॉर्चर करना बंद करो.

एक तो विदेशी आक्रांताओं के बनाए हुए बारूद का धुंआ पिलाकर हिंदुओं को मार रहे हो और कह रहे हो कि हिंदुत्व की रक्षा कर रहे हैं. चम्मच भर पानी लो और…

अब पटाखे छोड़ो और अपराधियों के छक्के छुड़ाने वाले दो अफसरों की बातें सुनो जो उन्होंने लल्लनटॉप शो में कहीं.


ये भी पढ़ें:

मंदिर का दरवाजा खोलते ही केरल में इतिहास बन गया, वजह सुकून देने वाली है

एक नाइजीरियन को पीट-पीटकर अधमरा करने से चोरी रुक जाएगी?

गुजरात का यह मंदिर कैसे सूबे की सियासत का सबसे बड़ा अखाड़ा बन गया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

आज से KBC ग्यारहवां सीज़न शुरू हो रहा है. अगर इन सारे सवालों के जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

क्विज: कौन था वह इकलौता पाकिस्तानी जिसे भारत रत्न मिला?

प्रणब मुखर्जी को मिला भारत रत्न, ये क्विज जीत गए तो आपके क्विज रत्न बन जाने की गारंटी है.

ये क्विज़ बताएगा कि संसद में जो भी होता है, उसके कितने जानकार हैं आप?

लोकसभा और राज्यसभा के बारे में अपनी जानकारी चेक कर लीजिए.

संजय दत्त के बारे में पता न हो, तो इस क्विज पर क्लिक न करना

बाबा के न सही मुन्ना भाई के तो फैन जरूर होगे. क्विज खेलो और स्कोर करो.

बजट के ऊपर ज्ञान बघारने का इससे चौंचक मौका और कहीं न मिलेगा!

Quiz खेलो, यहां बजट की स्पेलिंग में 'J' आता है या 'Z' जैसे सवाल नहीं हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.