Submit your post

Follow Us

'शुभ मंगल ज़्यादा सावधान' वाले गजराज राव ने रेकमेंड की ये 5 सीरीज़, फ़िल्म और किताबें

बैंडिट क्वीन. 1994 में आई एक लैंडमार्क मूवी. उसमें एक कैरेक्टर था, अशोक का. अगर आपने ये मूवी अपने जीवन काल में कभी भी देखी है तो आप इस कैरेक्टर को नहीं भूल सकते. इसे निभाया था, गजराज राव ने. ये उनकी पहली फ़िल्म थी. उसके बाद वो ‘ब्लैक फ्राइडे’, ‘आमिर’, ‘तलवार’, ‘ब्लैकमेल’ जैसी कई फिल्मों में नजर आए.

वेब शोज़ के कूल पापा गजराज राव को 2018 में रिलीज हुई ‘बधाई हो’ से बहुत फेम मिला. इस फिल्म में उन्होंने जीतेंदर कौशिक का रोल किया था जो अधेड़ उम्र में पिता बनने वाले हैं. ‘मेड इन चाइना’ और ‘शुभ मंगल ज़्यादा सावधान’ में भी इनका काम ख़ूब सराहा गया. एक्टिंग से इतर गजराज राव ने हज़ार के क़रीब विज्ञापन फ़िल्में डायरेक्ट की हैं.

दी लल्लनटॉप की वीडियो सीरीज़ लॉकडाउन डायरी में गजराज राव ने एडिटर सौरभ द्विवेदी से बात की.

इस दौरान उन्होंने अपनी रेकमेंडेशन भी बताईं. वो चीजें जो इन दिनों उन्होंने देखी, पढ़ी और दूसरों के लिए भी मस्ट हैं. शुरू करते हैं.

Meri Movie List Lallantop Movie Series Books Recommendation Series Copy
यहां क्लिक कीजिए और दूसरे टेस्ट की लिस्ट्स देखिए.

1. Taj Mahal 1989 (2020, वेब सीरीज़)

प्लॉट – ये तब की कहानी है जब सोशल मीडिया नहीं था, लेकिन लोग ज़्यादा सोशल हुआ करते थे. प्यार की पांच कहानियां. पांच कपल. और हर कहानी एक दूसरे की भीतर बुनी हुई. बीच में है आगरे का ताज महल. एक कहानी है प्रफेसर कपल की. नौकरी, काम भर पैसा, घर, सोशल स्टेटस सब कुछ है. प्यार गुम गया है कहीं. दूसरी कहानी है सुधीर और मुमताज की. फिलॉसफी से गोल्ड मेडलिस्ट सुधीर दर्जी का पेशा अपनाता है. पार्टनर मुमताज़ शायरी का शौक़ और चाकू दोनों रखती है. और सब्ज़ी की दुकान चलाती है. इसके बाद नई उमर की कहानियां हैं. थिएटर की ख़ब्त है, कम्युनिज्म का चस्का है. इन सबके बीच ये कहानियां ताजमहल कैसे पहुंचती हैं ये 7 एपिसोड में दिखाया गया है.

डायरेक्टर – पुष्पेन्द्र नाथ मिश्रा

एक्टर – नीरज कबी, गीतांजलि कुलकर्णी, दानिश हुसैन, अंशुल चौहान, शीबा चड्ढा.

कहां देख सकते हैं – नेटफ्लिक्स पर.

2. Panchayat (2020, वेब सीरीज़)

प्लॉट – पंचायत की कहानी है एक शहरी लड़के की. इंजीनियर है. लेकिन बाकियों की तरह मोटा पैकेज नहीं मिलता. बल्कि कोई नौकरी नहीं मिलती. प्लान B के तौर पर एक सरकारी फॉर्म भरा था. पंचायत सचिव की नौकरी का. वहां सलेक्ट हो चुका है. अब मन मारकर और अपनी बाइक बस की छत पर लदवाकर गांव पहुंचता है. पंचायत भवन. प्रधान जी के सचिव के तौर पर. बीस हज़ार की तनख्वाह है. लड़के का नाम है अभिषेक त्रिपाठी. गांव फुलेरा. ग्राम प्रधान हैं मंजू देवी. लेकिन काम धाम सब करते हैं प्रधानपति बृजभूषण दूबे. एक ऑफ़िस सहायक मिला है. विकास. गांव के उप-प्रधान हैं प्रहलाद पांडे. हर एपिसोड एक नई कहानी से शुरू होता है. इमोशनल, सोशल मैसेज, गुस्सा, फ्रस्ट्रेशन, यूनिटी, कॉमेडी, एक्शन सब कुछ बैलेंस तरीके से डालकर बघारी गई है ये सीरीज.

डायरेक्टर –  दीपक मिश्रा

एक्टर – रघुबीर यादव, नीना गुप्ता, जितेंद्र कुमार, फैज़ल मलिक, चंदन रॉय, बिस्वपति सरकार

कहां देख सकते हैं – एमेजन प्राइम पर

3. Parasite (2019, कोरियाई फ़िल्म)

प्लॉट – पैरासाइट का मतलब होता है परजीवी. दूसरों के भरोसे रहने वाले जीव. ऐसे ही कुछ जीवों की कहानी है ये कोरियाई फ़िल्म. ये जीव पूंजीवादी व्यवस्था में ‘इंसान’ वाली कैटेगरी में फिट नहीं बैठते. अपने सेमी बेसमेंट में हर दिन जिंदा रहने की नई ट्रिक खोजते लोगों की एक फ़ैमिली. किम फ़ैमिली. पिता किम की-तेक है. अपनी गरीबी में ख़ुश है. पत्नी चांग सुक है जो बच्चों के लिए सुख की तलाश में दिन रात काम करती है. बेटा की-वू और बेटी की-जुंग. दोनों दिमाग़ से तेज़ हैं. एक दिन की-वू का एक दोस्त ट्यूशन पढ़ाने का मौक़ा लेकर आता है. यहीं से इस परिवार की एंट्री होती है एक ऐसे आलीशान घर में जो किसी का भी सपना होता है. चार लोगों का एक परिवार इस घर में रहता है. जो अपने बेटे के बर्थडे के लिए कैम्पिंग करने बाहर जाता है. लेकिन अचानक वापस लौट आता है. इसके बाद शुरू होता है इस फ़िल्म का असली सफ़र.

डायरेक्टर – बॉन्ग जून हो. उनकी इस फिल्म ने 2020 के ऑस्कर में कई इतिहास बनाए. ऑस्कर के इतिहास की ये पहली विदेशी भाषा की फिल्म बनी जिसने बेस्ट पिक्चर का अवॉर्ड जीता. ‘पैरासाइट’ ने सबसे ज्यादा ऑस्कर भी जीते.

कहां देख सकते हैं – एमेजन प्राइम पर.

4. Reel India (क़िताब)

किस बारे में है – अंग्रेज़ी में लिखी ये क़िताब भारत में सिनेमा के असर के बारे में है. लेकिन सिनेमा मतलब बम्बई नहीं. बल्कि सहारनपुर और अमरोहा जैसे वो कस्बाई शहर जिनके बारे में शायद ही कभी बात होती हो. बम्बई में किसी स्टार का हेयर स्टाइल कैसे उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में कहानियां पैदा करता है, या किसी स्टार का कोई फैशन कैसे किसी छोटे शहर की पूरी पीढ़ी को बदल के रख देता है, इस तरह के विषयों पर फ़िल्म बात करती है. सिनेमा को चाहने वाले लोगों के लिए ज़रूरी बताई गई है ये क़िताब.

लेखक – नम्रता जोशी

प्रकाशक – Hachette Book Publishing India

कीमत – 279 रुपए

नम्रता जोशी की लिखी क़िताब REEL INDIA के साथ गजराज राव
नम्रता जोशी की लिखी क़िताब REEL INDIA के साथ गजराज राव

5. परसाई रचनावली (क़िताब)

किस बारे में है – हिंदी में लिखी व्यंग्य कथाएं हैं. रेखाचित्र, रिपोर्ताज, संस्मरण और चिट्ठियां. हिंदी साहित्य की कई विधाओं का कॉकटेल. हरिशंकर परसाई के लिखे वो चुटीले और गहरे सटायर जिन्हें लोग आज भी याद करते हैं. इन छोटी-छोटी कहानियों का असर तुरंत दिमाग़ पर चढ़ता है और फिर लम्बे वक़्त तक बना रहता है. इसलिए पढ़ने वाले इन तक बार-बार लौट के जाते हैं. परसाई के व्यंग्य से कोई नहीं बचा है. तब के दौर में सटायर को आर्ट के तौर पर लिया जाता था. फ़ेसबुक इन्स्टा थे नहीं और नहीं थी कोई ट्रोल सेना. इसलिए परसाई ने लिखा और ख़ूब लिखा. इतना तीखा और इतना असरदार लिखा कि ज़माना याद रखता है उन्हें.

लेखक – हरिशंकर परसाई

प्रकाशक – राजकमल प्रकाशन समूह

कीमत – 2700 रुपए में 6 खंड का पूरा सेट.

हरिशंकर परसाई की रचनाओं को 6 खण्डों में समेटे हुए परसाई रचनावली जिसकी तरफ़ गजराज राव बार-बार लौटते हैं
हरिशंकर परसाई की रचनाओं को 6 खण्डों में समेटे हुए परसाई रचनावली जिसकी तरफ़ गजराज राव बार-बार लौटते हैं

इस रेकमेंडेशन लिस्ट के अलावा भी अगर कुछ देखना, पढ़ना चाहते हैं तो हमारी सीरीज़ ‘मेरी मूवी लिस्ट‘ की बाकी कड़ियां भी पढ़ें.


Video: गजराज राव के साथ ‘लॉकडाउन डायरी’ का पूरा एपिसोड

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.