Submit your post

Follow Us

जब कोई धोखा देता है तो ये क्यों कहते हैं कि 'असली रंग दिखा दिया'

“दिखा दिया न अपना असली रंग?”

कोई विरला ही शख्स होगा जिसने अपनी ज़िंदगी में ये बात कभी न कभी, किसी न किसी को न कही हो. किसी की बेईमानी हो, वादाखिलाफी हो या षड़यंत्र. जब-जब किसी ने उम्मीद के खिलाफ कोई हरकत की है उसके संदर्भ में ये बात ज़रूर कही गई है. लेकिन इसका मतलब क्या है? क्या धोखा देने के बाद आदमी का रंग बदल जाता है? काले/गोरे से नीला-पीला हो जाता है? नहीं. असल बात कुछ और है. आइए बताते हैं.

ये उस ज़माने की बात है जब दुनिया भर में कहीं न कहीं युद्ध होता ही रहता था. हवाई जहाज़ का अविष्कार नहीं हुआ था लेकिन पानी के जहाज़ अवतरित हो चुके थे. सो लड़ाई सिर्फ दो जगहों पर ही मुमकिन थी. ज़मीन पर और पानी में. ये कहावत पानी से ही आई है.

जंगी जहाज़ों को दूर से पहचानना उनके रंगों से ही मुमकिन होता था.
जंगी जहाज़ों को दूर से पहचानना उनके रंगों से ही मुमकिन होता था.

समंदर में होने वाले तमाम युद्धों में बड़े-बड़े जंगी जहाज़ इस्तेमाल होते थे. हर जहाज़ का अपना एक झंडा, उस झंडे की एक थीम हुआ करती थी. उस झंडे के कलर से उस पार्टी की पहचान हुआ करती थी. जिन्होंने हाहाकारी सीरियल ‘गेम ऑफ़ थ्रोन्स’ देखा होगा, वो इस बात को समझ पा रहे होंगे. ‘GOT’ में हर हाउस का एक सिजिल हुआ करता है. जिसके झंडे पर कोई विशिष्ट आकृति होती है. झंडे का विशिष्ट रंग होता है. जो उनकी पहचान होता है. ऐसे ही नौसेना के जहाज़ों का भी मामला था. उन पर फहराने वाले झंडे का रंग उनकी पहचान हुआ करती थी. इस रंग से ही झोल कर लेते थे लोग.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के हाउसेस के झंडे.
गेम ऑफ़ थ्रोन्स के हाउसेस के झंडे.

दुश्मन की रणनीति को नेस्तनाबूत करने के लिए उस वक़्त एक अनोखी युक्ति लड़ाई जाती थी. अपने झंडे का रंग छिपाकर सामने वाली पार्टी के रंग का झंडा लिया जाता. इससे होता ये कि अगली पार्टी के जहाज़ के काफी करीब तक बेरोकटोक जाने का मौक़ा मिलता. अगले वाले लोग समझते कि ये उन्हीं की पार्टी का जहाज़ है. मामला तो तब खुलता जब आने वाले हमला बोल देते. तब जा के समझ आता कि धोखा हुआ है. लेकिन तब तक देर हो चुकी होती.

यहीं से ये कहने की शुरुआत हुई कि अपना असली रंग दिखा दिया. यानी जब धोखा दे दिया तब जा के पता चला कि उनका असली रंग क्या था. झूठा रंग ओढ़कर धोखा देना और फिर असली किरदार में आना ही है ‘असली रंग दिखाना’.


ये भी पढ़े:

ये होटल, मोटल और रेस्टोरेंट में फर्क क्या होता है?

क्रिसमस के बाद वाले दिन को ‘बॉक्सिंग डे’ क्यों कहते हैं?

‘शैतान का नाम लो, शैतान हाज़िर’, ये कहावत कहां से आई?

रेलवे स्टेशनों में ये जंक्शन, टर्मिनस और सेंट्रल क्या होता है?

वीडियो: समझिए रैंकिग पर्सेंटेज और पर्संटाइल का फर्क होता क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.