Submit your post

Follow Us

रसूल मियां ने लिखा- गमकता जगमगाता है अनोखा राम का सेहरा

फिल्म डायरेक्टर अविनाश दास ने 5 जुलाई को एक फेसबुक पोस्ट लिखी है. इस फेसबुक पोस्ट में उन्होंने हिंदू-मुस्लिम एकता के पैरोकार रहे रसूल मियां का जिक्र किया है, जिनका लिखा गीत भोजपुरी गायिका चंदन तिवारी ने गाया है. आज के दौर में प्रासंगिक रसूल मियां के बारे में जानना जितना ज़रूरी है, उससे भी ज्यादा ज़रूरी है उनका लिखा हुआ पढ़ना, उसे सुनना और फिर उसे गुनना. ये पोस्ट अविनाश दास के फेसबुक वॉल से ली गई है.

Rasool miyan

सन 1857 में अंग्रेज़ों ने आख़िरी मुग़ल बादशाह को दिल्ली से खदेड़ कर रंगून भेज दिया था. इस घटना के 12 साल बाद गुजरात में गांधी पैदा हुए और 15 साल बाद गोपालगंज (बिहार) के थाना मीरगंज में रसूल मास्टर पैदा हुए. हिंदू-मुसलमान के बीच खाई चौड़ी करने में जब पूरी ब्रिटिश हुकूमत एड़ी-चोटी का ज़ोर लगाए हुए थी, मास्टर रसूल कौमी सद्भाव के गीत लिख रहे थे, आज़ादी के तराने लिख रहे थे. अदब की तारीख़ ने रसूल को भले भुला दिया हो, आज जब फिर से हमारी इस सद्भावना पर बुरी नज़र डाली जा रही है, रसूल मास्टर प्रासंगिक हो उठे हैं. भोजपुरी की युवा लोक गायिका चंदन तिवारी ने उनका एक गीत गाया है. आप भी पढ़िए और सुनिए. इसमें राग भी है और लोक भी. सीधे-सरल शब्द और आत्मा को तृप्त करने वाली लय.

चंदन तिवारी का गाया गीत यहां सुनिए

पूरी लाइनें हैं-

गमकता जगमगाता है अनोखा राम का सेहरा
जो देखा है वो कहता है रमेती राम का सेहरा

हजारों भूप आये थे जनकपुर बांध कर सेहरा
रखा अभिमान सेहरों का सलोने श्याम का सेहरा

उधर है जानकी के हाथ में जयमाल शादी की
इधर है राम के सर पर विजय प्रणाम का सेहरा

लगा हर एक लड़ियों में ये धागा बंदेमातरम का
गुंथा है सत के सूई से सिरी सतनाम का सेहरा

rasool ram

हरी, हरीओम पढ़कर के ये मालन गूंथ लायी है
नंदन बन स्वर्ग से लायी है मालन श्याम का सेहरा

कलम धो-धो के अमृत से लिखा है मास्टर ने ये सेहरा
सुनाया है रसूल ने आज ये इनाम का सेहरा

आज जब राम के मुरीदों ने रसूल जैसे मुर्शिदों को अविश्वास के कठघरे में खड़ा कर दिया है, इस गीत को बार-बार पढ़ना और बार-बार सुनना आपको इन्सानी आस्था के एक शांत और सौहार्दपूर्ण लोक में पहुंचा देगा. शुक्रिया चंदन तिवारी, आप ऐसे और गीत गाएं और क़ामयाबी की बुलंदियां हासिल करें.


ये भी पढ़ें:

लौंडा डांस के लिए विख्यात रसूल मियां को एक गांधीवादी के रूप में भी जाना जाना चाहिए

जब वह अपनी नाच मंडली लेकर असम गये तो वहां के सिनेमाघरों में ताला लटकने की नौबत आ गई थी.

भोजपुरी, जहां होली शिव पूजन से शुरू होकर सदा आनंद रहे एही द्वारे पर खत्म होती है

कल्पना पटवारी नेग नहीं जानतीं तो भोजपुरी संस्कृति सहेजने का दावा न करें

‘कल्पना से सवाल करने वाले प्रियंका चोपड़ा पर चुप क्यों हैं?’

बांधने की कोशिश की तो मर जाएगी भाषा : अविनाश दास

‘भोजपुरी गायिका कल्पना के साथ अछूत-सा बर्ताव हो रहा है’

संजू फिल्म ऑनलाइन कैसे पहुंच गई है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.