Submit your post

Follow Us

ग़ज़ल कहने का सलीक़ा सिखाते हैं वसीम

5
शेयर्स

प्रोफेसर जाहिद हसन वसीम का हैप्पी बड्डे है आज. लिखने पढ़ने और गजलों के शौकीन हो तो इनको वसीम बरेलवी के नाम से जानते हो. आज ही की तारीख में सन 1940 में उर्दू शायरी के इस चिराग में रौशनी आई. बरेली में ही, जो इनका ननिहाल है. चलो इस बेहतरीन शायर का जन्मदिन सेलिब्रेट करते हैं उनकी गजलों के साथ.

vasim1

रुहेलखंड यूनिवर्सिटी में उर्दू में पोस्ट ग्रेजुएशन किया. कॉलेज के टॉपर रहे. फिर बरेली कॉलेज में हुए उर्दू के प्रोफेसर. रुहेलखंड यूनिवर्सिटी में वापसी हुई. पहले टॉपर छात्र थे. रिटायर हुए डीन की पोस्ट पर जाकर. ये उनका एकेडमिक और प्रोफेशनल करियर था. अब बात उनकी गजलों की.

कौन सी बात कहां, कैसे कही जाती है
ये सलीक़ा हो, तो हर बात सुनी जाती है

जैसा चाहा था तुझे, देख न पाए दुनिया
दिल में बस एक ये हसरत ही रही जाती है

एक बिगड़ी हुई औलाद भला क्या जाने
कैसे मां-बाप के होंठों से हंसी जाती है

कर्ज़ का बोझ उठाये हुए चलने का अज़ाब
जैसे सर पर कोई दीवार गिरी जाती है

अपनी पहचान मिटा देना हो जैसे सब कुछ
जो नदी है वो समंदर से मिली जाती है

पूछना है तो ग़ज़ल वालों से पूछो जाकर
कैसे हर बात सलीक़े से कही जाती है

वसीम साहब का रोल अहम है, हिंदुस्तान की हिंदी उर्दू शायरी को दुनिया भर में फैलाने के लिए. खास तौर से अपने पड़ोसी पाकिस्तान में. संगीत और कला पर सरहदों का जोर चलता नहीं है. फनकार का कलेजा धड़कता रहता है कि वो कैसे अपने फन का जादू दुनिया के कोने कोने में बिखेर दे. लेकिन पाकिस्तान से जो हमारा रिश्ता है वो किसी से छिपा तो नहीं. जब उसकी बात होती है तो सिर्फ सरहद पर सीज फायर, बम, AK47, नवाज शरीफ से चल कर हिना रब्बानी खार तक. आर्ट को सरहदों में जकड़न महसूस होती है. वो निकलने को उकताया करता है.

vasim3vasim3

सन 2007 में भारत पाकिस्तान के रिश्तों में मजबूती लाने की पहल की गई. एक मुशायरा ऑर्गनाइज किया गया. जिसका लाइव प्रोग्राम 52 देशों में चल रहा था. टीवी के जरिये. वसीम बरेलवी ने वहां लोगों से हाल चाल लिया. फिर बातचीत शुरू करते हुए कहा हमारे यहां बच्चे भी आपके अहमद फराज और कतील शिफाई के कायल हैं. लेकिन यहां कितने लोग निकलेंगे महादेवी वर्मा और निराला को पढ़ने वाले. आप अंग्रेज, फ्रेंच रशियन राइटर्स को पढ़ सकते हो. हिंदी कवियों को भी ट्राई करो. उस आयोजन के बाद वहां गोपालदास नीरज, अशोक चक्रधर और कुंवर बेचैन को इनवाइट किया गया.

vasim4

वसीम का दुनिया से सीधा साबिका है. सीधे बात करते हैं. आम आदमी के लिए शेर और गजल लिखते हैं. वसीम बरेलवी को लल्लन की तरफ से हैप्पी बड्डे.

vasim2

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

इस क्विज़ में परफेक्ट हो गए, तो कभी चालान नहीं कटेगा

बस 15 सवाल हैं मित्रों!