Submit your post

Follow Us

हार रही है शिलाजीत

मशहूर सेक्सोलॉजिस्ट, गुप्त रोगों के पितामह और हकीम हाशमी दवाखाने वालों को रटा होता है ये नाम. उसके प्रयोग के बिना गुप्त रोगों का इलाज अधूरा है. यहां बात हो रही है उस शिलाजीत द ग्रेट की जिसे बेच कर, लोगों को मर्द बनाते बनाते स्वघोषित सेक्सोलॉजिस्ट खुद आदमी बन गए.
शिलाजीत का नाम आते ही अखबारी गुप्त रोग वाले प्रचार का वो हिस्सा घूम जाता है जिसमें एक आदमी सूखा सा दुखी सा बैठा होता है. शिलाजीत यूज करने से पहले. दूसरा सीना ताने जैसे सब बीमारियां भाग गई शिलाजीत यूज करने के बाद. ये पाई जाती है पहाड़ों में. पहाड़ की चट्टानों के बीच जो कुछ पेड़ पौधे उगे होते हैं ये भयंकर गर्मी पड़ने पर सूख जाते हैं. सूखने के बाद ये पिघल के टपकने लगते हैं वही गोंद जैसी चीज है शिलाजीत. पहाड़ो पर कठोर पत्थरों के बीच जन्म लेता है इसलिए शिला जीत कहते हैं. कहा जाता है कि शिलाजीत में लोहा, तांबा, सोना और चांदी सब भरा होता है और शरीर में इनका बैलेंस बराबर करने के लिए इसका यूज किया जाता है. यह वैसे तो शरीर में गर्मी मेनटेन करने के लिए बहुत अच्छी दवा है लेकिन इसे मर्दानगी बढ़ाने वाली दवा के नाम पर कुख्यात कर दिया गया है.

पहाड़ों से इसे खोद कर निकालना हंसी खेल नहीं है. जान की जंग है भैया. ये देखो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?