Submit your post

Follow Us

बड़ा खुलासाः फेसबुक पर फैली गंद की करते रहिए कंप्लेंट, कोई सुनने वाला नहीं है!

जब हमने फेसबुक शुरू किया था, तब हमारा फोकस लोगों को जोड़ने पर था. हमने इसे इसलिए बनाया था कि लोगों के बीच सकारात्मक कनेक्शन कायम हो सके. लेकिन अब यह बात साबित हो चुकी है कि हम इस टूल को हेट स्पीच और लोगों के बीच गलत खबरें फैलाने और इलेक्शन में विदेशी ताकतों के दखल को रोकने में असफल रहे हैं. मैं इस कंपनी को चलाता हूं, ऐसे में सारी जिम्मेदारी मेरी है. अपने किए के लिए मैं माफी मांगता हूं. मैं आगे से बेहतर करने की कोशिश करूंगा. (11 अप्रैल 2018 को अमेरिका की हाउस कमेटी के सामने फेसबुक फाउंडर मार्क जकरबर्ग का बयान)

इसे सुन कर जैसा सब अमेरिकियों को लगा, वैसे हमको भी लगा कि बंदा सीरियस है. अपने किए की गलती मान रहा है. आगे सुधार आएगा. लेकिन हुआ वही, जिसका डर था. जकरबर्ग का बयान भी जुमला निकला. कोई पखवाड़ा ऐसा नहीं जाता, जब फेसबुक बुरी वजहों से खबरों में न रहे. कभी डाटा चोरी, कभी बिजनेस के गलत पैंतरे अपनाने के आरोप और न जाने क्या-क्या. ऐसे में लल्लनटॉप ने खुद फेसबुक की पॉलिसी को लेकर उसकी गंभीरता परखी. इसमें साथ आए द लल्लनटॉप के व्यूअर्स और रीडर्स. इस पड़ताल में कई छोटी-बड़ी बातें सामने आईं. जैसे कि क्या इतनी बड़ी-बड़ी बातें करने वाला फेसबुक अपनी ही बनाई गाइडलाइंस फॉलो करता भी है कि नहीं. जो परिणाम सामने आया आप भी जानेंः

सबसे पहले समझें कि ये कम्यूनिटी स्टैंडर्ड या गाइडलाइन क्या है

जैसा कि फेसबुक के पापा मतलब फाउंडर और सीईओ जकरबर्ग ने अमेरिकी कमेटी के सामने कहा था कि उनकी इच्छा एक साफ-सुथरा प्लेटफॉर्म बनाने की है. इसके लिए फेसबुक पर कुछ गाइडलाइंस बनाई गईं. इस मशक्कत के पीछे कोशिश थी कि फेसबुक पर सबकुछ ठीकठाक रहे. मतलब कोई किसी को गाली न बके, कुछ घिनौना फोटो शेयर न करे, किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचे आदि इत्यादि. मतलब कुल मिलाकर अच्छा माहौल कायम रहे. इन गाइडलाइंस को नाम दिया गया कम्यूनिटी स्टैंडर्ड. तय हुआ कि जो भी इन स्टैंडर्ड के खिलाफ जाए, उस पर सख्त एक्शन लिया जाए. लेकिन ये हो न सका. हमने खुद और यूजर्स ने भी हमें ईमेल के जरिए बताया कि लाख रिपोर्ट कर लो. फेसबुक पर अनगिनत कारण बता लो, लेकिन कोई एक्शन नहीं होता. फेसबुक की पूरी कम्यूनिटी गाइडलाइंस को यहां पर पढ़ा जा सकता है. इसमें सब कुछ विस्तार से उदाहरण सहित समझाया गया है कि किस हरकत को गाइडलाइन का उल्लंघन माना जाएगा और किसे नहीं. हमने इसे पढ़ा और यूजर्स के भेजे ईमेल से मिलान करने पर इस नतीजे पर पहुंचे कि फेसबुक गाइडलाइंस के उल्लंघन को बहुत गंभीरता से नहीं लेता. आप भी बानगी देखिए.

Sale(57)
फेसबुक पर मौजूद कम्यूनिटी स्टैंडर्ड में हर उस बात के बारे में बताया गया है, जिसे करना फेसबुक पर मना है.

धर्म चाहे कोई भी हो, नफरत जमकर फैली है

हमें हिंदू और मुस्लिम दोनों ही धर्मों को लेकर आपत्तिजनक बातें शेयर करने वाली पोस्ट को रिपोर्ट करने वाले यूजर्स मिले. दोनों ही तरह के यूजर्स को फेसबुक की तरफ से टका-सा जवाब मिला. सब सही है. हम नीचे दो तस्वीरें शेयर कर रहे हैं. इनमें पहली मुस्लिम धर्म पर आपत्तिजनक टिप्पणी और उसके नीचे हिंदू धार्मिक प्रतीक की बेइज्जती करने वाली तस्वीरें हैं.  हमने आपत्तिजनक चीजें या तो एडिट कर दी हैं.

Sale(52)
मुसलमानों को बदनाम करने के लिए एक अश्लील फर्जी किताब के कवर को शेयर किया गया. लोगों के रिपोर्ट करने के बाद भी यह नहीं हटा.
Sale(55)
हिंदू धर्म के प्रतीक चिन्ह को भी गलत तरीके से दिखाया गया. लेकिन एक्शन के नाम पर बस टका-सा जवाब मिला.

फेसबुक पर गाली-गलौज, मतलब लोड नहीं लेने का

एक हिंदुस्तानी भाऊ है फेसबुक पर. फेसबुक उनकी महिमा से इतना मोहित है कि उन्हें बाकायदा नीला टीका दिया है. मतलब वह ब्लू टिक दिया है, जिसे फेसबुक पर भौकाल माना जाता है. यह सिर्फ फेसबुक के गणमान्यों को ही मिलता है. इनका अकाउंट मतलब गाली-गलौज की दुकान. तरह-तरह की और भिन्न-भिन्न तेवरों में दी गई गालियां यहां पर आपको मिल जाएंगी. पेज पर 3 लाख से ज्यादा फोलोअर्स हैं. ये इनके गाली भरे वीडियो देखते हैं और कमेंट्स में भी जमकर गाली लिखते हैं. लोग इसे रिपोर्ट करते हैं. इसके जवाब में उन्हें मिलता है कंप्यूटर जी के द्वारा दिया हुआ स्टैंडर्ड जवाब- सब ठीक है.
स्टोरी पब्लिश होने के 3 दिन बाद फेसबुक ने हिंदुस्तानी भाऊ का पेज फेसबुक से हटा लिया है.

Sale(51)
हिंदूस्तानी भाऊ नाम का पेज गाली-गलौज के सबसे बड़े अड्डे में से एक बन चुका है.

सुसाइड पोस्ट पर भी चुप्पी

सुसाइड को लेकर फेसबुक हमेशा से बहुत सख्ती करने की बात करता रहा है. उसने बाकायदा एक सेवा ही इसे समर्पित की है. वह इन्हें सख्ती से फॉलो करने और करवाने की बात करता रहा है. हाल ही में सुशांत सिंह केस में उनकी डेड बॉडी की तस्वीरों की फेसबुक पर बाढ़ आ गई. कुछ को हटाया भी गया, लेकिन लल्लनटॉप को खुद ऐसे कई फोटो अब भी फेसबुक की टाइमलाइन पर नजर आए. उन्हें रिपोर्ट भी किया गया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. हम अब तक इस फोटो के हटाए जाने का इंतजार कर रहे हैं.

Sale(53)
ये तस्वीर 18 अगस्त 2020 को फेसबुक पेज पर रिपोर्ट की गई. लेकिन यह अब भी मौजूद है.

इम्पॉस्टर यानी फर्जी अकाउंट पर फेसबुक का फर्जी एक्शन

किसी दूसरे के नाम पर फेसबुक अकाउंट बनाकर लोगों को जोड़ना इम्पॉस्टर की कटैगिरी में आता है. आसान भाषा में इसे फर्जी अकाउंट भी कह सकते हैं. हमारे पास इस तरह के ईमेल भी आए, जिनमें किसी दूसरे के नाम पर फेसबुक अकाउंट बनाकर परेशान करने की बात कही गई. इस तरह की एक ईमेल में बहन के इम्पॉस्टर या फर्जी अकाउंट बनाने की शिकायत जब यूजर ने की, तो उसे बताया गया कि सब ठीक-ठाक है और आपकी रिक्वेस्ट पूरी नहीं की जा सकती. फेसबुक अपनी पॉलिसी में इससे भी सख्ती से निपटने की बात कहता है लेकिन असल में फेसबुक पर किसी भी इम्पॉस्टर अकाउंट को बंद कराना टेढी खीर है.

Sale(56)
किसी दूसरे के नाम पर बने अकाउंट को फेसबुक से हटवाना अब भी टेढ़ी खीर बना हुआ है.

क्या कहना है इस पर फेसबुक का?

लल्लनटॉप ने बाकायदा फेसबुक को यूजर्स की इन दिक्कतों के बारे में ईमेल करके बताया है. कई दिनों के इंतजार के बाद भी फेसबुक की तरफ से हमारी ईमेल का कोई जवाब नहीं आया. इसबीच फेसबुक इंडिया के हेड अजीत मोहन ने फेसबुक पर ब्लॉग लिख कर कम्यूनिटी स्टैंडर्ड को फॉलो करने को लेकर लंबा जवाब दिया. उन्होंने माना है कि हमें फेसबुक से हेट स्पीच हटाने के लिए बहुत कुछ करना बाकी है.

वीडियो – फेसबुक ने बीजेपी नेताओं के ‘नफरती पोस्ट’ नहीं हटाने के आरोप पर अब क्या कहा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.