Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'मिस्टर ज़करबर्ग, आपकी ज़िम्मेदारी है कि फेसबुक लोगों के लिए दुःस्वप्न न बन जाए'

392
शेयर्स

इंटरनेट की दुनिया की सबसे बड़ी खबर यह है कि फेसबुक के सीईओ मार्क ज़करबर्ग अमेरिकी सीनेट के वाणिज्य और न्यायपालिका समितियों के सामने मंगलवार को पेश हुए. सीनेट माने अमेरिका की राज्यसभा और सेनेटर माने वहां का राज्यसभा सांसद.

मार्क ज़करबर्ग वहां फेसबुक पर डेटा गोपनीयता (माने डेटा प्राइवेसी) और कैम्ब्रिज अनालिटिका मामले के भांडाफोड़ के बाद फेसबुक पर लग रहे रशियन संबंधों के आरोपों पर जवाब देने के लिए पेश हुए थे. उस दौरान जो कुछ हुआ उसे हम एक सीरीज़ में प्रस्तुत कर रहे हैं जिसकी अंतिम कड़ी में हम पूरा सार भी प्रस्तुत करेंगे. तो सबसे पहली कड़ी में पढ़ते हैं सेनेटर जॉन थ्यून ने क्या कहा –

सेनेटर चक ग्रेसिली: हम फेसबुक की सोशल मीडिया गोपनीयता और डेटा के उपयोग और दुरुपयोग पर आज की सुनवाई के लिए हर किसी का स्वागत करते हैं.

मार्क ज़करबर्ग सेनेटर चक ग्रेसिली से हाथ मिलाते हुए
मार्क ज़करबर्ग सेनेटर चक ग्रेसिली से हाथ मिलाते हुए

हालांकि अभूतपूर्व नहीं तो भी यह अद्वितीय सुनवाई तो है ही. हमारी दो समितियों में कुल मिला कर 44 सदस्य हैं. फेसबुक मानकों के हिसाब से ये एक बड़ा समूह नहीं है…

(ठहाके)

…लेकिन यह (संख्या) संयुक्त राज्य सीनेट में सुनवाई के लिए काफी है. इन परिस्थितियों के बावजूद हम चीजों को कुशलता से आगे बढ़ने के लिए अपनी पूरी कोशिश करेंगे. हम चेयरमैन और प्रत्येक समिति के रैंकिंग सदस्यों के शुरुआती बयानों से प्रारंभ करेंगे, जो कि अध्यक्ष थ्यून से शुरू होगा, और फिर श्री ज़करबर्ग के उद्घाटन वक्तव्य के लिए आगे बढ़ेंगे.

सेनेटर चक ग्रेसिली
सेनेटर चक ग्रेसिली

हम फिर पूछताछ में आगे बढ़ेंगे. गवाहों से सवाल पूछने के लिए प्रत्येक सदस्य के पास पांच मिनट होंगे.

मैं दोनों समितियों के सदस्यों को याद दिलाना चाहूंगा कि आज (जितने लोग कोर्ट में पेश होंगे) की संख्या को ध्यान में रखते हुए समय सीमा आवश्यक है और उसे सख्ती से लागू किया जाना चाहिए. यदि आप अपने तय समय से अधिक लेते हैं तो अध्यक्ष थ्यून और मैं आपको याद दिलाते रहेंगे.

अब वाणिज्य कमेटी के चेयरमैन थ्यून अपना ओपनिंग स्टेटमेंट रखेंगे.


सेनेटर जॉन थ्यून: धन्यवाद, अध्यक्ष ग्रेसिली

आज की सुनवाई असाधारण है. एक संयुक्त समिति की सुनवाई आयोजित करना असाधारण है. यह और भी असाधारण है कि संयुक्त राज्य अमरीका के लगभग आधे सीनेट के सामने एक अकेला सीईओ टेस्टीमनी दे रहा है.

सेनेटर जॉन थ्यून
सेनेटर जॉन थ्यून

लेकिन फिर, फेसबुक खुद भी कम असाधारण नहीं. 2 अरब से ज्यादा लोग हर महीने फेसबुक का इस्तेमाल करते हैं. 1.4 बिलियन लोग हर रोज इसका इस्तेमाल करते हैं – जो कि चीन को छोड़कर किसी भी देश की आबादी से अधिक और संयुक्त राज्य की आबादी के चार गुने से भी अधिक है. यह मेरे गृह राज्य दक्षिण डकोटा की आबादी के पन्द्रह सौ गुने से भी अधिक है.

इसके अलावा, लगभग 45 प्रतिशत अमेरिकी वयस्कों ने फेसबुक से कम से कम कुछ समाचार प्राप्त करने की बात कबूली है.

फेसबुक की इसी अविश्वसनीय पहुंच के चलते हम आज यहां इकट्ठा हुए हैं. हम यहां, जैसा कि आपने कहा मिस्टर ज़ुकरबर्ग, ‘ब्रीच ऑफ़ ट्रस्ट’ के चलते इकट्ठा हुए हैं.

87 मिलियन फेसबुक यूज़र्स के बारे में कैंब्रिज अनालिटिका ने जो जानकारी प्राप्त की, उसका कारण एक क्विज़ ऐप बना जो लगभग 300,000 फेसबुक यूजर्स ने इस्तेमाल किया था.

कैंब्रिज अनालिटिका के व्यवहार के बारे में बहुत सारे सवाल हैं और हम उम्मीद करते हैं कि कैंब्रिज अनालिटिका और इसी तरह की फर्मों पर भी भविष्य में सुनवाई होगी. लेकिन, जैसा कि आपने कहा है, इस घटना के फेसबुक से जुड़े न होने की संभावना नहीं है. एक तथ्य यह भी है कि फेसबुक ने अभी पिछले सप्ताह के अंत में ही ऐसी एक और फर्म को सिर्फ इसीलिए संस्पेंड किया था.

रुआंसे मार्क
रुआंसे हो रहे मार्क

आपने यह वादा किया है कि अबसे यदि फेसबुक ऐसे अन्य ऐप्स का पता लगाती है जिनकी बड़ी मात्रा में उपयोगकर्ता डेटा तक पहुंच है, तो आप उन सबपर प्रतिबंध लगा देंगे और प्रभावित लोगों को बताएंगे. यह उचित ही है, लेकिन यह 2 अरब फेसबुक उपयोगकर्ताओं के लिए पर्याप्त होगा इसकी संभावना नहीं है.

इतने सारे लोग इस घटना के बारे में चिंतित हैं इसका एक कारण यह भी है कि यह घटना बताती है कि फेसबुक कैसे काम करता है. अगर मैं बहुत सौम्य शब्दों में कहूं तो भी यह विचार ही अपने आप में परेशान करने के लिए काफी है कि हर उस व्यक्ति जिसने ऐप यूज़ करने का निर्णय लिया, उसके एवज में लगभग 300 अन्य लोगों की जानकरी आपकी सेवाओं ने चुरा ली.

और वो 87 मिलियन लोग केवल इस एक बात से तसल्ली महसूस नहीं करने लग जाएंगे वो तकनीकी रूप से इस बात पर सहम थे कि वो अपना डेटा फेसबुक को उपलब्ध करवा रहे हैं.

और यह हालिया रहस्योद्घाटन तो आग में घी की तरह काम करता है कि ग़लत इंटेंशन वाले लोग फेसबुक की डिफ़ॉल्ट गोपनीयता सेटिंग्स का इस्तेमाल तथाकथित डार्क वेब पर उपलब्ध ई-मेल पते और फोन नंबरों का मिलान करने के लिए कर रहे थे जिससे संभावित रूप से सभी फेसबुक उपयोगकर्ता प्रभावित हो रहे थे.

इन दो घटनाओं को जो बात आपस में बांधती है, वो ये कि वो लापरवाहियां जो आमतौर पर होने वाले डेटा ब्रीच में होती हैं, यहां वो संभव नहीं हैं. इसके बजाय ऐसा लगता है कि ये दोनों घटनाएं इसलिए हुईं कि कुछ लोग उस व्यवस्था का फायदा उठाने में सफल हो गए, जो आपने यूज़र्स की जानकारी इकट्ठा करने और इस्तेमाल करने के लिए बनाई थी.

मुझे पता है कि फेसबुक ने कई कदम उठाए हैं, और इन मुद्दों को दूर करने के लिए और भी कदम उठाने वाली है. लेकिन फिर कुछ लोगों ने ये भी शंका ज़ाहिर की है कि फेसबुक उपयोगकर्ताओं का डेटा थर्ड पार्टी (डेवलपर) के पास जाने से सिर्फ इसलिए बचा रही है कि वो इस डेटा के बाज़ार में इस्तेमाल पर अपनी पकड़ और मज़बूत कर सके.

सीनेट में मार्क पत्रकारों से घूरे हुए
सीनेट में मार्क पत्रकारों से घिरे हुए

हम में से अधिकांश यह समझते हैं कि यदि आप फेसबुक या गूगल या कुछ अन्य ऑनलाइन सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं तो आप मुफ्त या कम लागत वाली सेवाओं का उपयोग करने के लिए खुद की कुछ जानकारी बांट रहे हैं. लेकिन इस मॉडल को जारी रखने के लिए दोनों पक्षों का यह जानना ज़रुरी है कि इस सौदे में किसका क्या दांव में लगा है. अभी मुझे इस बात पर संशय है कि फेसबुक के उपयोगकर्ताओं के पास ऐसी जानकारी है जो उन्हें सार्थक विकल्प चुनने के लिए चाहिए.

आज मौजूद दोनों पक्षों (टेक कंपनियां और उपयोगकर्ता) में मेरे कई सहयोगी हैं. अतीत में वो टेक कंपनियों द्वारा खुद को रेग्युलेट करने के प्रयासों को टालते रहे हैं, लेकिन यह जल्द बदल सकता है.

अभी पिछले महीने ही कांग्रेस में मौजूद दोनों पार्टियों (रिपब्लिकन और डेमोक्रैट) ने बढ़-चढ़कर उस प्रस्ताव के पक्ष में वोट किया था जिसके तहत अभियोजन पक्ष और पीड़ित उन वेबसाइट्स पर कार्रवाई कर सकें जो जानबूझकर सेक्स ट्रैफिकिंग को सुगम बनाती हैं. टेक समुदाय के लिए ये एक वेक-अप कॉल होना चाहिए.

हम जानना चाहते हैं कि फेसबुक और अन्य कंपनियां उनके प्लेटफ़ॉर्म पर जो कुछ हो रहा है उसकी ज़्यादा ज़िम्मेदारी लेने के लिए क्या प्लान कर रही हैं. और इसमें ज़्यादा देर ठीक नहीं.

आप उपयोगकर्ताओं के डेटा की सुरक्षा कैसे करेंगे? आप अपने द्वारा किए गए बदलावों के बारे में उपयोगकर्ताओं को कैसे सूचित करेंगे? और बजाय कि आपको महीनों या सालों बाद हानिकारक आचरण पर जवाब देने के लिए मजबूर किया जाए, आप इसे तुरंत कैसे रोकेंगे?

Mark - 3

मिस्टर ज़करबर्ग, आप और आपके द्वारा बनाई गई कंपनी, आपके द्वारा लिखी गई इबारत ‘अमेरिकन ड्रीम’ का प्रतिनिधित्व करते हैं. कई लोग आपको मिसाल मानते हैं. 

इसीलिए आपकी ये ज़िम्मेदारी बनती है कि यह ‘ड्रीम’ फेसबुक उपयोगकर्ताओं के लिए एक दुःस्वप्न न बन जाए. आप इसे कैसे निभाते हैं, ये आप पर है.

यह सुनवाई उन सभी लोगों से बात करने का एक मौका है, जो फेसबुक में विश्वास करते हैं और साथ ही उनसे भी, जिन्हें फेसबुक पर गहरा संदेह है. हम सुन रहे हैं, अमेरिका सुन रहा है, और शायद पूरी दुनिया भी सुन रही है.

ग्रेसी: धन्यवाद.


ये भी पढ़ें: 

कैंब्रिज अनालिटिका : फेसबुक के ज़रिए आपका वोट कैसे प्रभावित किया जाता है?

कांग्रेसी नेताओं की छोले भटूरे की प्लेट का सच जानेंगे तो सोशल मीडिया छोड़ देंगे

‘गदर-2’ आ गई: हीरो का डायलॉग है- ‘सलमान खान ज़िंदाबाद, शाहरुख खान ज़िंदाबाद!’

ट्रैफिक सब-इन्स्पेक्टर मंजू ने अपनी शादी के कार्ड पर ट्रैफिक के नियम छपवाए हैं

और कितनी सदियों तक हम अस्पताल की ऐसी तस्वीरें देखते रहेंगे?

मुस्लिम लड़के के हिंदू लड़की से रेप करने की घटना का सच क्या है?


Video देखें:

वायरल वीडियो के ज़माने में ऐसी हरकत करोगे, तो वही होगा जो इस आदमी के साथ हुआ

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Facebook CEO Zuckerberg appeared at Senate to discuss data privacy and Russian involvement on his social network – 1 (Speech of John Thune)

कौन हो तुम

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल खेलते हैं.

कितनी 'प्यास' है, ये गुरु दत्त पर क्विज़ खेलकर बताओ

भारतीय सिनेमा के दिग्गज फिल्ममेकर्स में गिने जाते हैं गुरु दत्त.

इंडियन एयरफोर्स को कितना जानते हैं आप, चेक कीजिए

जो अपने आप को ज्यादा देशभक्त समझते हैं, वो तो जरूर ही खेलें.

इन्हीं सवालों के जवाब देकर बिनिता बनी थीं इस साल केबीसी की पहली करोड़पति

क्विज़ खेलकर चेक करिए आप कित्ते कमा पाते!

सच्चे क्रिकेट प्रेमी देखते ही ये क्विज़ खेलने लगें

पहले मैच में रिकॉर्ड बनाने वालों के बारे में बूझो तो जानें.

कंट्रोवर्शियल पेंटर एम एफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एम.एफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद तो गूगल कर आपने खूब समझ लिया. अब जरा यहां कलाकारी दिखाइए

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.