Thelallantop

गांधी की हत्या के बाद पहली FIR किसने कराई थी?

30 जनवरी, 1948 को दिल्ली के बिड़ला हाउस में नाथूराम गोडसे ने गांधी की हत्या कर दी. इस दौरान कई लोगों ने इस हत्या को देखा था. बाद में इन लोगों ने गवाही भी दी.

एक आदमी था. नाम था गांधी. मोहनदास करमचन्द गांधी. फिलहाल हथियार है. सत्ता का भी. विपक्ष का भी. मरा तो दुनिया का कलेजा बैठ गया. भारत को तो काठ मार गया हो जैसे. सालों साल सिसकते रहने के बाद लोग गाहे-बगाहे उदास होते रहे. और अपना काम करते रहे. सियासत ने करवट बदली. सत्ता ने ईमान का चौसर सजाया और गांधी को ‘स्वादानुसार’ बांट लिया. फिर क्या था. गांधी हर जगह आ गए. चौराहों पर मूर्ति बनकर. कहावतों में मजबूरी बनकर. किताबों में महात्मा बनकर. नोटों पर तस्वीर बनकर. बस, गांधी इरादों में नहीं आ सके. समय उन्हें इरादों में लाने का है. आज 30 जनवरी है. आज ही 1948 में उनकी हत्या हो गई थी. हमने गांधी की हत्या के पांच चश्मदीदों की एक सूची तैयार की है, जिसमें नाथूराम गोडसे भी है.

AIR में कार्यरत के डी मदान अब भी गांधी को याद करते हैं. फोटो: आर्काइव

1. के डी मदान 

‘रेडियो वाले बाबू’

के डी मदान ऑल इंडिया रेडियो में कार्यरत थे. गांधी की प्रार्थना सभा को रिकॉर्ड करके हेड ऑफिस भेजते थे, जो हर रात साढ़े 8 बजे आकाशवाणी से प्रसारित होती थी. वो रोज की तरह आकाशवाणी भवन से बिड़ला हाउस (अब गांधी स्मृति) के लिए निकले. दोपहर साढ़े तीन बजे पंहुच गए. प्रार्थना सभा. वहां रोज शाम पांच बजे से छ: बजे तक सभी धर्मों की सभा होती थी. गांधी 5:10 बजे तक आ ही जाते थे. उस दिन थोड़ी देर हुई क्योंकि पटेल अपनी बेटी मनुबेन के साथ मिलने आए थे. रोज़ की तरह गांधी जब सभा स्थल की तरफ आ रहे थे, गांधी को कहा गया कि कठियावाड़ (गांधी का गांव) से आए दो लोग उनसे मिलना चाहते हैं. गांधी ने मना करते हुए कहा कि सभा के अंत में मिलेंगे.

केडी मदान बताते हैं कि वह अपने इक्विपमेंट सेट करके बैठे ही थे कि उन्हें पहली गोली की आवाज़ आई. उन्हें लगा कि दसेक दिन पहले जो पटाखा छूटा था वैसा ही कुछ हुआ है. (20 जनवरी को प्रार्थना सभा के समय ही एक देसी और कम क्षमता वाला बम चलाया गया था. इसे मदन लाल पाहवा नाम के एक शख्स ने चलाया था. जो 17 जनवरी को गोडसे के साथ था और जिसे उसी प्रार्थना सभा में गांधी ने माफ कर देने की अपील की थी.) वो कुछ समझ पाते तभी दूसरी गोली चली. वो आवाज की तरफ भागे और उनके पंहुचते ही तीसरी गोली चली. गांधी गिरे हुए थे उनके सिर के नीचे आभा का हाथ था. गोली मारकर नाथूराम गोडसे ने हाथ जोड़ा और फिर हाथ ऊपर उठाकर पुलिस-पुलिस चिल्लाने लगा. बाद में गोडसे ने अपने भाई गोपाल को बताया था कि उसने चिल्लाना शुरू किया ताकि यह सब कोई अगर देखे तो समझ जाए कि यह योजना बनाकर और जानबूझकर किया गया काम था. आवेश में आकर नहीं. गांधीजी मदान को ‘रेडियो वाला बाबू’ कहकर बुलाते थे.

गांधी की हत्या के बाद आभा ने अपना पूरा जीवन चरखा कातने की ट्रेनिंग देने में समर्पित कर दिया.

2. आभा बेन

गांधी जिनके कंधों के सहारे प्रार्थना सभा में आए. 

आभा गांधी के भतीजे कनु गांधी की पत्नी थीं. 1940 में 12 वर्ष की उम्र में आभा अपने पिता के कहने पर आश्रम आयीं और गांधी के आखिरी दिन तक साथ रहीं. एक इंटरव्यू में आभा बताती हैं कि बापू, मां भी थे. गांधी के साथ रहने के दौरान ही उनकी शादी कनु गांधी से हुई. आभा बताती हैं कि 30 जनवरी को सुबह उठने के बाद गांधी ने अपने सारे काम किए, अख़बार पढ़ा और नहाने चले गए. नहाने के बाद बकरी का दूध, उबली सब्ज़ियां, वगैरह खाया और फिर लोगों से मिलने लगे. शाम को सरदार पटेल आने वाले थे. आए. और फिर बातचीत में देर हो गई.

आभा गांधी को बुलाने गईं मगर पटेल को देखकर कह नहीं सकी. थोड़ी देर बाद आभा को लगा कि गांधी स्वयं नहीं उठेंगे तो उनकी घड़ी सामने रख दी. घड़ी देखकर गांधी ने मज़ाक में कहा कि इस देरी का कारण आभा तुम हो और इसलिए इसका पाप तुम्हें पड़ेगा. फिर गांधी मुंह-हाथ धोने चले गए. फिर एक तरफ से आभा का सहारा लेकर वह प्रार्थना सभा में जाने लगे. आभा कहती हैं कि तभी एक आदमी अचानक कूदकर आया तो उन्हें लगा कि पैर छूने आ रहा है. आभा ने उसे किनारे हटने को कहा तभी उसने गोली चला दी. बापू का पूरा वजन उन पर आ गया और वह गिर गईं. बापू ने ‘हे…राम’ कहा और फिर शांत पड़ गए. वहां से आभा और मनु बेन को चरखा संघ ले जाया गया और फिर अगले दो सालों तक देश भर में घूम-घूम कर उन्होंने चरखा चलाने और सूत कातने की ट्रेनिंग दी. इसके बाद का जीवन आभा ने सौराष्ट्र में बिताया.

रघुनाथ नायक की पत्नी को 2017 में ओडिशा के सीएम ने 5 लाख रुपये और सम्मान दिया था.

3. रघुनाथ नायक

बिड़ला भवन के माली, जिन्होंने गवाही भी दी.

रघुनाथ नायक उड़ीसा (ओडिशा) के रहने वाले थे. कलकत्ता में स्थित बिड़ला हाउस के माली थे. कुछ समय बाद उन्हें दिल्ली के बिड़ला हाउस बुला लिया गया. तब से वहीं रहे. गांधी 1947 में जब शाहदरा से दिल्ली लौटकर आए तो उन्हें पटेल के आग्रह पर बिड़ला हाउस लाया गया. तब से रघुनाथ, गांधी के प्रिय हो गए. 30 जनवरी को गांधी की हत्या करने के बाद गोडसे हाथ उठाकर पुलिस-पुलिस चिल्लाने लगा. और फिर लगभग दो मिनट के बाद जब उसके पास कोई नहीं आया तो वह बाहर की तरफ बढ़ा और तभी रघुनाथ नायक ने उसे पकड़ लिया. लोग गोडसे को पीटने लगे. गोडसे ने भागने का प्रयास भी नहीं किया. रघुनाथ ने गांधी की हत्या को देखा और फिर उनकी ही गवाही पर नाथूराम को फांसी की सजा हुई. गांधी के पड़पोते तुषार गांधी की किताब ‘लेट अस किल गांधी’ में इसका ज़िक्र है. गांधी की हत्या के बाद रघुनाथ दिल्ली से वापस ओडिशा लौट आए मगर कोर्ट की सुनवाई के लिए वह दिल्ली आते-जाते रहे. राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद ने रघुनाथ नायक को फरवरी, 1955 में 500 रुपये का पुरस्कार दिया था. उनकी मृत्यु 1983 में हो गई.

4. नंदलाल मेहता

मामले में पहली FIR कराने वाले प्रार्थना सभा के श्रोता.

पक्के गांधीवादी नंदलाल मेहता गांधी की हत्या के चश्मदीद थे. वह कनॉट प्लेस पर रहते थे. प्रार्थना सभा में नियम से पंहुच जाते थे. समय से पहले भी. उस रोज़ भी वो वहीं थे. गांधी की हत्या की पहली FIR नंदलाल मेहता ने लिखाई थी. रात लगभग 9:45 बजे दर्ज हुई इस FIR में नंदलाल मेहता ने कहा कि प्रार्थना सभा के लिए निकल रहे गांधी सीढ़ियों से छह-सात कदम आगे बढ़े ही थे कि एक आदमी, जिसका नाम बाद में नारायण विनायक गोडसे मालूम हुआ, ने गांधीजी पर दो या तीन फीट के फासले से पिस्तौल दाग दी. गांधी के पेट और छाती से खून निकलने लगा. बेहोशी की हालत में उठाकर उन्हें एक कमरे में ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई. उर्दू में लिखी गई यह FIR अब दिल्ली के नेशनल म्यूजियम में सुरक्षित रखी है. यह केस तुगलक रोड थाने में धारा 302 के तहत दर्ज़ किया गया था.

गोडसे ने कहा था कि गांधी ने मरने से पहले ‘आह..ह’ कहा था, ‘हे…राम’ नहीं.

5. नाथूराम गोडसे

गांधी का हत्यारा और 30 जनवरी की तारीख़.

नाथूराम 29 जनवरी की रात दिल्ली पंहुचा. साथ में थे नारायण आप्टे और विष्णु करकरे थे. सुबह उठकर नाथूराम ने मूंगफली खाने की ज़िद की. आप्टे बड़ी मशक्कत से मूंगफली ले आया. 30 जनवरी को शाम तक वेटिंग रूम में रहने के बाद नाथूराम ने बाकी तीनों के साथ कनॉट प्लेस के लिए एक तांगा लिया. वहां से बिड़ला भवन के लिए दूसरा तांगा. बिड़ला भवन से थोड़ा पहले ही उतरकर सब पैदल ही आगे बढ़े. पहुंचा तो देखा कि लोग आ रहे हैं, गांधी अभी नहीं आए हैं. थोड़ी ही देर में गलियारे में गांधी आते दिखे. एक तरफ आभा थीं और दूसरी तरफ मनुबेन. गांधी को आते देख गोडसे ने सामने से आकर प्रणाम किया. प्रार्थना सभा के लिए देर हो रही थी. आभा नाराज़ होकर गोडसे को किनारे हटने को कहती हैं. इतने में गोडसे गोली चला देता है. लोग पीछे हट जाते हैं. मिनट भर के लिए कोई हलचल नहीं हुई तो गोडसे ने हाथ उठाकर ‘पुलिस पुलिस’ चिल्लाना शुरु किया. तीसरी गोली मारने के बाद जब कोई आगे नहीं आ रहा था तो गोडसे बाहर की तरफ निकलने लगा और तभी उसे बिड़ला भवन के माली रघुनाथ नायक ने पकड़ा. नाथूराम गोडसे के भाई गोपाल गोडसे की किताब ‘गांधी वध क्यूं’ में गोडसे का बयान है कि गांधी ने मरने से पहले ‘आह..ह’ कहा था, ‘हे…राम’ नहीं.

ये स्टोरी हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे शाश्वत ने की है.

 

वीडियो देखें :

Read more!

Recommended