Submit your post

Follow Us

ओम पुरी की इस परफॉर्मेंस के बाद जलने लगे थे नसीरुद्दीन शाह

दमदार एक्टर ओम पुरी के साथ नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा (NSD) के दिनों से साथी रहे और खुद बेजोड़ एक्टर नसीरुद्दीन शाह ने अपनी किताब And Then One Day में उनके बारे में ज़िक्र किया है. डेली-ओ ने पेंग्विन की अनुमति से उसका एक हिस्सा छापा है. उसी के एक अंश का अनुवाद हम आपको पढ़वा रहे हैं-


अपने फाइनल इयर में हम छुट्टी से लौटे. एक काबुकी प्ले ‘इबारगी’ के लिए ऑडिशन हो रहे थे. इसे जापान के एक एक्सपर्ट डायरेक्ट करने वाले थे. इस क्लासिकल फॉर्म के बारे में मेरी जानकारी उतनी ही कम थी जितनी एक 22 साल के लड़के से उम्मीद की जानी चाहिए. हमने कभी काबुकी प्ले नहीं देखा था लेकिन इस प्ले के कुछ परफॉर्मेंस की फिल्म हमने देखी थीं.

मुझे पता था कि इसे उस तरह परफॉर्म करना बहुत मुश्किल था, वो भी वोकल एक्रोबेटिक्स के साथ. मुझे इस बात का भरोसा था कि इसमें मेरा पार्ट ज्यादा होगा. मुझे बोलने में दिक्कत थी और मुझे ऐसी आवाज़ के साथ परफॉर्म करना होता था, जो भुतही फुसफुसाहट की तरह लगती थी. मुझे लगता था अगर इसे कोई कर सकता है तो वो मैं हूं. मेरे ख्याल में ये नहीं आता था कि यहां मुझसे भी काबिल एक्टर हैं और जिन्हें इसका लम्बा अनुभव है और वो मेरी तरह दिखावटी भी नहीं है.

स्कूल पहुंचते ही जो बात हमें सबसे पहले बताई गई वो ये कि केवल एक्टिंग के स्टूडेंट्स ही चुने जाएंगे. हम डायरेक्शन के स्टूडेंट थे और हमें सिर्फ ऑब्जर्व करना था और प्रोडक्शन में मदद करनी थी. मेरा और जसपाल का बहुत मन था. जसपाल ने भी खुद ही सोच रखा था कि उसकी आवाज़ अच्छी थी और उसे भी ले लिया जाएगा. और लीड रोल के लिए जिसे चुना गया वो हमारा ही क्लासमेट ओम पुरी था. जब से वो NSD में आया था, सेल्फ-इम्प्रूवमेंट में चुपचाप काम करता  था.

जब ओम ने इसे परफॉर्म किया तो मैं प्रोडक्शन के कामों से चिपक गया. मैं ऐसी एक्टिंग करने में मारा जाता और मैं सिर्फ उसे आश्चर्य और जलन से देख सकता था. रोल के लिए लालच होने के बावजूद उनकी परफॉर्म देखकर खुद को रोमांचित होने से रोकना मुश्किल था. मुझे लगा मैं वो नहीं कर सकता था जो उसने किया.

ओम उबाऊ छात्र का एक मॉडल था. इंसान के रूप में वो अनुशासित, विचारक, ध्यान देने वाला, गुणी था लेकिन जिस चीज के लिए उस पर ज्यादा ध्यान जाता था वो एक्टिंग की बजाय उसका मधुर स्वभाव था. अब उसने एक जोरदार परफॉर्मेंस दी थी तो मैं देख सकता था कि इसके लिए कोई जादुई फार्मूला नहीं था.

वो आश्चर्यजनक रूप से इतना अच्छा था कि उसने अपनी सारी एनर्जी तैयारी के लिए लगा दी थी. शुरू में मुझे उसकी इतनी गंभीरता चकित करने वाली थी और मुझे गैर ज़रूरी लगती थी. लेकिन धीरे-धीरे मुझे इसकी अच्छाइयां नज़र आने लगी और मुझे स्वीकार करना पड़ा कि स्कूल प्रोडक्शन में मेरी खुद की एक भी परफॉर्मेंस ओम की परफॉर्मेंस के बराबर नहीं थी.

अगले दिन जसपाल और शाह अल्काज़ी के ऑफिस में थे, ताकि हमें एक्टिंग कोर्स में ट्रांसफर कर दिया जाए. हम ये बर्दाश्त नहीं कर सकते थे कि बाकी के प्ले में हम एक्टिंग कोर्स में ना रहें. और जैसा डायरेक्शन के स्टूडेंट के साथ हो रहा था हमें लाइटिंग में मदद करना और बैकस्टेज के काम ही करना था. हम एक्टिंग करना चाहते थे. कम से कम मैं तो करना चाहता था और मुझे लगता था जसपाल भी यही चाहता था.

मुझे याद नहीं कि इस फैसले का कौन अगुआ था और कौन अनुयायी था. अल्काज़ी इस बात के लिए इच्छुक नहीं थे. बार-बार कह रहे थे कि हमें डायरेक्शन का कोर्स करने से ज्यादा फायदा मिलेगा. और वो सही थे, हम शायद इसमें ज्यादा सीखते लेकिन हम सीखना नहीं चाहते थे. हम एक्टिंग करना चाहते थे.

***

ओम बहुत से फिल्मकारों की नज़र में आ चुका था लेकिन गोविन्द निहलानी पहले थे जिन्होंने उसकी मैग्नेटिक पर्सनैलिटी को पहचाना और उसे आक्रोश में मौका दिया, एक चुप रहने वाले आदिवासी के रोल के लिए. मुझे और अमरीश पुरी को वकील बनना था.

मुझे बमुश्किल एक दिन का ब्रेक मिला बॉम्बे आने और शूट के लिए अलीबाग पहुंचने के लिए. स्पर्श की सहज सपनीली दुनिया से निकलकर छोटे कस्बे के करप्शन और दंभ और राजनीति से भरी आक्रोश में एक्ट करना आसान नहीं था.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!