Submit your post

Follow Us

सिलाई होती है कि थान कच्चा होता है जो बादल फट पड़ता है?

दो अक्टूबर ड्राय डे होता है. गांधी जी पैदा हुए थे इसलिए. लेकिन हैदराबाद वाले 2 अक्टूबर, 2017 को सूखे नहीं रह पाए. ऐसा ज़ोर का पानी गिरा कि जो जहां था वहीं ठिठका रहा. बारिश और अंधड़ की वजह से कितनों की कारें टूट-फूट गईं, फसल चौपट हुई, इमारतें धंस गईं. कैब वाली कंपनियों इत्तू से रास्ते के लिए डेढ़-डेढ़ हज़ार मांगे. इस सब में सात लोगों की जान तक चली गई. सब खेला पांच घंटे में निपट गया. इसलिए हैदराबाद का मौसम विभाग कह रहा है जो आसमान से गिरी वो ‘बारिश’ बस नहीं थी. बादल फटा था बादल.

बादल फटने का साधारण मतलब आज जानते हैं, बहूहूहूहूत सारी बारिश होना. इसके आगे का जो आप नहीं जानते, आज जान लीजिए.

‘बादल फटना’ ही क्यों कहते हैं?

बादल में कोई सिलाई नहीं होती जो उधड़ जाए, न उसका कपड़ा कमज़ोर थान का होता है जो ज़ोर पड़ने पर फट जाए. ये आज सामन्य जीके है. लेकिन हमेशा नहीं था. एक वक्त था जब पब्लिक मानती थी कि बादल गुब्बारे जैसा होता है जो कभी फट पड़ता है तो ताबड़तोड़ बारिश होने लगती है. फिर एक दिन एक सयाने ने बादलों पर रिसर्च की और बताया कि बादल भाप के बने होते हैं. बादल फिर गुब्बारे नहीं माने गए. लेकिन ‘बादल फटना’ जो नाम पड़ा था, पड़ा रह गया.

केदारनाथ हादसे के पीछे भी बादल फटना ही वजह थी
केदारनाथ हादसे के पीछे भी बादल फटना ही वजह थी

कब कहते हैं कि बादल फट पड़ा?

बादल फटना और बारिश दोनों में आसमान से पानी गिरता है. फर्क होता है पानी की मात्रा का, माने क्वांटिटी का. कंफ्यूज़न नहीं हो, इसलिए सयाने लोगों ने तय कर रखा है कि एक घंटे के अंदर 100 एमएम या उस से ज़्यादा पानी बरस जाए तो उसे बादल फटना या क्लाउड-बर्स्ट कहा जाए. 100 एमएम माने लगभग चार इंच. अब ये इंच-एमएम का खेला मैं यहां नहीं बता रहा, बहुत देर हो गई है. बाद में स्टोरी करूंगा तो लिंक एम्बेड कर दूंगा. या वीडियो लगा दूंगा.

लेकिन बादल फटता कैसे है?

बादल में बहुत बड़ी-बड़ी बूंदें बन जाएं तो बादल फटने का चांस पैदा होता है. औसत से बड़ी बूंदें तब बनती हैं, जब बादल की बूंदे नीचे टपकने के बजाय ऊपर उठने लगें. अब आप कहेंगे कि न्यूटन पर सेब तो नीचे की ओर गिरा था, तो बूंदें ऊपर कैसे उठ जाती हैं. तो बात ये है कि जब गर्म हवा तेज़ी से ऊपर उठती है, तो कई बार बादलों की बूंदों को अपने साथ ऊपर उठा लेती है. ये बूंदें ऊपर तैर रही बूंदों से मिल कर और बड़ी हो जाती हैं. और जब बूंदें बादल में अटके रहने के लिए बहुत भारी हो जाती हैं, तो बरस पड़ती हैं.

बादल फटने के बाद आई बाढ़ में ढेर सारा मलबा भी बहकर आता है. असल नुकसान इसी से होता है. (फोटोःपीटीआई)
बादल फटने के बाद आई बाढ़ में ढेर सारा मलबा भी बहकर आता है. असल नुकसान इसी से होता है. (फोटोःपीटीआई)

गर्म हवा के ऊपर उठने लायक स्थितियां पहाड़ी इलाकों में ज़्यादा बनती हैं. इसलिए बादल फटने की घटनाएं भी ज़्यादातर पहाड़ी इलाकों में ही होती हैं. लेकिन पहाड़ों का बादस फटने पर कॉपीराइट नहीं है, मैदानी इलाकों में भी बादल फट जाते हैं.

बचने का कोई इंतज़ाम है?

बादल फटने के बाद कितना नुकसान होता है, ये हम सब जानते हैं. तो अब सवाल बचा कि बादल फटने के बारे में वॉर्निंग वगैरह का इंतज़ाम हो सकता है कि नहीं. लेकिन इसका तय जवाब नहीं है. क्योंकि बादल फटने लायक मौसम बहुत जल्दी-जल्दी बन-बिगड़ जाता है. इसे पकड़ने के लिए कई राडार हमेशा तैयार रखने होंगे, जो बहुत खर्चीला होगा. इसके बाद भी गैरंटी नहीं रहेगी. तो बात यहां आकर ठहरती है कि जिन इलाकों में बादल फटने की घटनाएं होती रहती हों, वहां पब्लिक और प्रशासन अपनी ओर से तैयारी रखे कि अगर बादल फट पड़ें तो क्या कदम उठाए जाएंगे.


देखें लल्लनटॉप बुलेटिन- क्या आपकी हमारी ज़िंदगी की कीमत बस माथे पर लिखा ये नंबर है?


और पढ़ेंः

तूफान समंदर में उठता है तो उसे नाम कौन देता है?

बाढ़ रोकने का राज़ हमारे पुरखों ने किस्से कहानियों में छुपा रखा है

एक कहानी रोज़: अरुण प्रकाश की कहानी ‘जल प्रांतर’

आसमान से प्यार करने वाली वो औरत, जो उसी में खो गई

सावन में जब सैंया परदेस जाने की धमकी देते हैं, तो जानिए प्रियतमा क्या कहती है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.