Submit your post

Follow Us

ग्रुप ऑफ डेथ के फेर में फंस जाएंगे क्रिस्टियानो रोनाल्डो?

EURO2020 बस शुरू ही होने वाला है. जैसा कि हम आपको बताते ही रहे हैं कि यह यूरोप में होने वाली फुटबॉल की सबसे बड़ी प्रतियोगिता है. अगर आप फुटबॉल फॉलो करते होंगे तो आपको पता ही होगा कि इस बार के यूरो में सबकी नज़रें ग्रुप F पर होंगी. और अगर आप फुटबॉल नहीं फॉलो करते तो कोई बात नहीं. हम आपको बताते हैं कि ग्रुप F इतना खास क्यों है.

# ग्रुप ऑफ डेथ

ग्रुप F यानी ग्रुप ऑफ डेथ. ग्रुप ऑफ डेथ माने मेले वाला मौत का कुआं. हां, कुछ-कुछ ऐसा ही. बहुत कठिन, जीतकर आगे बढ़ना आसान नहीं वाला मामला. तो ग्रुप F जो है, वो यही है. क्यों है? क्योंकि इस ग्रुप में फ्रांस, पुर्तगाल और जर्मनी एकसाथ हैं. और बची हुई तीसरी टीम है हंगरी.

फ्रांस 2018 की वर्ल्ड चैंपियन टीम है, जबकि पुर्तगाल यूरो का डिफेंडिंग चैंपियन. बची जर्मनी, तो इन्होंने 2014 का वर्ल्ड कप जीता ही था. हां ठीक है कि उसके बाद बहुत अच्छा नहीं कर पा रहे, लेकिन इनकी मजबूती से तो इनकार नहीं ही कर सकते. एक काम की बात ये भी है कि यह तीनों टीमें पिछले यूरो के सेमीफाइनल में थीं.

बच गई हंगरी, तो वे बेचारे निश्चित तौर पर सोच रहे होंगे- कहां फंसा दिया यार!

चलिए, अब देख लेते हैं इस ग्रुप के चारों देशों की टीमें

जर्मनी

गोलकीपर- मैनुअल नोएर, बर्न लेनो, केविन ट्रैप

डिफेंडर्स- एमरे चैन, मथायस गंटर, रॉबिन गोसेंस, क्रिश्चियन गंटर, मार्सेल हाल्स्टेनबर्ग, मैट हमल्स, लुकास क्लस्टरमैन, रॉबिन कोच, एंटोनियो रुडिगर, निकलस सुले

मिडफील्डर्स- सर्ज नैबरी, लियोन गोरेत्ज़का, इल्काय गुंडोवन, जोनास हॉफमैन, जोशुआ किमिख, टोनी क्रोस, जमाल मुसियाला, फ्लॉरियन नॉहाउस, लेरॉय साने

फॉरवर्ड्स- काइ हावर्त्ज़, थॉमस मुलर, केविन वॉलैंड, टिमो वर्नर

मैनेजर- योआखिम लूव

हंगरी

गोलकीपर- एडम बोगदान, डेन्स डिबुज़, पीटर गुलासी

डिफेंडर- बेंडेगुज़ बोला, एंड्रे बोटका, अत्तिला फियोला, स्कोस केकस्केस, एडम लैंग, गेर्गो लोवरेंक्सिक्स, लोइक नेगो, विली ओर्बन, अत्तिला सज़ालाई

मिडफील्डर- तमास सेसरी, डेनियल रिच, लास्ज़लो क्लेनहेइस्लर, एडम नेगी, शेफ़र डेविड, सिगर केविन, वर्गा रोलैंड

फॉरवर्ड- जानोस हैन, फ़िलिप होलेंडर, नेमांजा निकोलिक, रोलैंड सल्लाई, स्ज़ाबोल्क्स शॉन, एडम ज़ालाई

मैनेजर- मार्को रॉसी

पुर्तगाल

गोलकीपर- एंथोनी लोपेज, रुई पेट्रीसियो, रुई सिल्वा

डिफेंडर- होआओ कंचेलो, रफाएल गरेरो, होजे फोंटे, नूनो मेंडेस, रुबेन डियास, पेपे, नेल्सन सेमेडो

मिडफील्डर- विलियम कावाल्यो, डनीलो, ब्रूनो फर्नांडेस, गोंसालो गेडेस, होआओ मुनटीनियो, रुबेन नेवेस, सर्जियो ओलिवेरा, होआओ पल्हिन्हा पोटे, रेनाटो सांचेस, बर्नार्डो सिल्वा

फॉरवर्ड- होआओ फेलिक्स, डिओगो योटा, क्रिस्टियानो रोनाल्डो, आंद्रे सिल्वा, राफा सिल्वा

मैनेजर- फर्नांडो सांतोस

फ्रांस

गोलकीपर- ह्यूगो लॉरिस, माइक मिन्यो, स्टीव मंडंडा

डिफेंडर- लुकस डाइन, लियो डुबुआ, लुकस हनांडेज़, प्रेसनेल किमपेम्बे, युल कुंडे, क्लेमेंट लेंगलेट, बेंजामिन पवा, रफाएल वरान, कर्ट ज़ूमा

मिडफील्डर- किंग्सले कोमैन, एनगोलो कांटे, थॉमस लमा, पॉल पोग्बा, एड्रियन राबियो, मूसा सिसोको, कोहंतान टॉलिसो

फॉरवर्ड- विसम बेन यडर, करीम बेंजेमा, ओस्मान डेम्बेले, ओलिविए जीरू, अंतुआन ग्रीज़मन, किलियान एमबाप्पे, मार्कस थुरम

मैनेजर- दिदिए देशौं

# दिग्गजों का क्या होगा?

पिछले यूरो में फ्रांस ने फाइनल तक का सफर तय किया था, जहां उसे अपने ही मैदान पर पुर्तगाल से हार का सदमा झेलना पड़ा था. वहीं जर्मनी को सेमीफाइनल में फ्रांस ने 2-0 से हराकर बाहर किया था. जबकि हंगरी को बेल्जियम ने 4-0 से मात दी थी. अबकी बार दिदिए देशौं पहले ऐसे इंसान बनना चाहेंगे जिन्होंने खिलाड़ी के साथ-साथ एक मैनेजर के तौर पर भी वर्ल्ड कप और यूरो जीते हैं.

फ्रांस के पास अनुभवी और युवा दोनों खिलाड़ियों का एक बेहतरीन मिश्रण है. डिफेंस में फ्रांस के पास एक बहुत ही सक्षम यूनिट है जिसकी अगुवाई गोलकीपर एवं कप्तान ह्यूगो लॉरिस करेंगे. मिडफील्ड की कमान संभालने के लिए एनगोलो कांटे काफी है. कांटे फ्रांस के लिए निश्चित तौर पर तुरुप का इक्का है.

और इनके साथ पॉल पोग्बा के जुड़ते ही यह सोने पर सुहागा हो जाता है. फ्रांस के पास ग्रीज़मन और एमबाप्पे के रूप में फुटबॉल जगत के 2 बड़े सनसनीखेज फॉरवर्ड है. वे विपक्षी टीम द्वारा दिए किसी भी मौके को भुनाने में सक्षम है. साथ ही 5 साल बाद इंटरनेशनल मैच खेलने के लिए बुलाए गए फॉरवर्ड करीम बेन्ज़मा भी अपनी रियल मैड्रिड की घातक फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे.

इधर कोच योआखिम लूव का जर्मनी के साथ यह आखिरी टूर्नामेंट होगा. जर्मनी एक ऐसी टीम है जिसके पास कई बेहतरीन युवा खिलाड़ी हैं. अगर टीम का तालमेल सही बैठ गया तो ये बड़ी-बड़ी टीमों को छकाने के काबिल है| युवा के साथ अनुभवी खिलाड़ियों में थॉमस मुलर, इल्काय गुंडोवन और मैनुअल नोयर हैं.

हालांकि इस टीम में कई कमियां है, जिसमें डिफेंस का लगातार कमजोर प्रदर्शन प्रमुख है. जर्मनी की मिडफील्ड ही इसकी ताकत है. जोशुआ किमिख एक प्रतिभावान युवा खिलाड़ी हैं, जिन्हें अनुभवी टोनी क्रोस और इल्काय गुंडोवन का साथ मिलेगा. फॉरवर्ड लाइन में उन्हें एक घातक स्ट्राइकर की कमी महसूस होगी लेकिन काइ के रूप में वे एक फॉल्स 9 खिला सकते हैं. चेल्सी के लिए खेलते हुए काइ ने इस भूमिका में बेहतरीन प्रदर्शन किया है.

# क्या करेंगे Ronaldo

अब बारी है रोनाल्डो की टीम पुर्तगाल की. स्क्वॉड देखकर एक बात तो साफ है- ये 2016 की पुर्तगाल नहीं है. आज पुर्तगाल एक अधिक प्रतिभाशाली और एकजुट टीम है. ये अपने तालिस्मान के बिना भी एक मजबूत टीम बनकर खेल सकती है. क्रिस्टियानो रोनाल्डो फॉरवर्ड लाइन से टीम का नेतृत्व करेंगे और इसमें उनका साथ देने के लिए डिएगो योटा और ब्रूनो फर्नांडेज़ दोनों मौजूद रहेंगे.

इसके अलावा इनके पास बर्नार्डो सिल्वा, होआओ फेलिक्स एवं आंद्रे सिल्वा भी होंगे. टीम की मिडफील्ड थोड़ी कमजोर दिखती है. और इसकी भरपाई करने के लिए टीम के डिफेंस को काफी मेहनत करनी पड़ेगी. डिफेंस में रुबेन डियास और पेपे की एक मजबूत दीवार रहेगी जिनकी सहायता करने के लिए होआओ कंचेलो और रफाएल गरेरो होंगे.

अंत में बात हंगरी की करें तो इस टीम का इस ग्रुप से निकल पाना बहुत ही मुश्किल है. इस टीम में जर्मन क्लब आरबी लाइपज़िग के खिलाड़ियों का प्रभुत्व है. इसमें प्रमुख हैं विली ओर्बन और गोलकीपर पीटर गुलासी. हालांकि इनको साथी खिलाड़ी डोमिनिक सोबोस्जलाई की कमी खलेगी जो चोट के कारण पहले ही बाहर हो चुके हैं. इनके अलावा एडम ज़ालाई हंगरी की फॉरवर्ड लाइन की अगुवाई करेंगे.

प्रेडिक्शन

अगर सब ठीक रहा तो फ्रांस और पुर्तगाल निश्चित रूप से नॉकआउट्स में जाएंगे. फिर भी जर्मनी को एकदम नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. रूल्स के मुताबिक अपने ग्रुप में तीसरे स्थान पर रहने वाली 4 सबसे बढ़िया टीमों के पास भी आगे बढ़ने का एक और मौका रहेगा. यह एक बहुत ही रोमांचक ग्रुप है जिसमें उपविजेता टीम को नॉकआउट्स में इंग्लैंड का सामना करना पड़ सकता है. वहीं विजेता को ड्रॉ के हिसाब से एक मजबूत टीम मिलने की आशंका है. एक बड़े टूर्नामेंट में अंतिम ग्रुप में शामिल होने से किसी भी टीम की स्थिति और जटिल हो जाती है.


इस कॉपी की रीसर्च हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे अमित जाखी ने की है.


EURO 2020 ग्रुप A प्रीव्यू: इस बार कितनी आसान होगी इटली की राह?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.