Submit your post

Follow Us

कहानी सेक्स रैकेट क्वीन सोनू पंजाबन की, जिसपर फ़िल्मी स्टाइल से जानलेवा हमला किया गया है

24 जनवरी 2018 की सुबह एक ख़बर फ़्लैश हुई. टीवी पर ब्रेकिंग न्यूज़ चलने लगी, वेबसाइटों के नोटिफिकेशन आने लगे. ख़बर थी कि सोनू पंजाबन पर जानलेवा हमला हुआ है. तब, जब वो देर रात अपने भाई के घर से अपने घर जा रही थी. ख़बरों में आगे घटना का विवरण भी था. उसके मुताबिक़ सोनू अपने भाई और बेटे को शकरपुर में भाई के घर ड्रॉप करके अपने घर संतनगर लौट रही थी. समय अलग-अलग सोर्सेस के मुताबिक़ रात दो से चार के बीच का था. सोनू अकेली ड्राइव कर रही थी. उसके कहे अनुसार, गीता कॉलोनी के पुश्ते के पास एक कार ने उनकी होंडा सिटी को ओवरटेक करके रोका. उसमें से तीन लोग उतरे और उन्होंने सोनू पर ताबड़तोड़ तीन गोलियां चला दीं. दो गोलियां सामने का शीशा तोड़ते हुए कार की ड्राइविंग सीट के आसपास लगीं. एक गोली पैसेंजर सीट में जा धंसी. उसके बाद उन्होंने सोनू को धमकाया और फरार हो गए. उनके जाने के बाद सोनू ने पुलिस कंट्रोल रूम में कॉल किया और मामला बताया. जब ये हमला हुआ, तब सोनू परोल पर जेल से बाहर थी.

एनबीटी के मुताबिक़, मामले की जांच कर रहे पुलिस अफसर ने बताया कि जांच चल रही है. सोनू लगातार बयान बदल रही है. उनके स्टेटमेंट से हालात मेल नहीं खा रहे. गोलियां चली ज़रूर हैं लेकिन ये स्टेज्ड फायरिंग भी हो सकती है. पुलिस को हज़म नहीं हो रहा कि कोई जान से मारने के इरादे से आए, अकेले घेर भी भी लें, फिर मारे बगैर लौट जाए. बहरहाल, जांच चल रही है.

सोनू पंजाबन जैसे फ़िल्मी नाम वाली इस महिला की जान का ग्राहक कोई क्यों हैं? ऐसा क्या किया है इसने जिसकी वजह से ये जेल में है? आइए जानते हैं इन सवालों के जवाब.

# गैंगस्टर की पत्नी, गैंगस्टर की माशूक और फिर खुद अपराधी –

कहानी जानने से पहले मोटा-माटी सोनू पंजाबन की शोहरत का स्वरुप समझ लीजिए. सोनू 2017 के दिसंबर से जेल में बंद है. उसे सेक्स रैकेट क्वीन कहा जाता है. उस पर एक नाबालिग लड़की को किडनैप करने, रेप करने और बेचने का केस चल रहा है. पॉक्सो एक्ट भी लगा हुआ है. जिस्मफरोशी के धंधे में सोनू पंजाबन बड़ा नाम है. कई हिस्ट्रीशीटर्स से उसके करीबी संबंध रह चुके है. जिनमें से कुछेक तो पुलिस एनकाउंटर में मारे गए. ब्यूटी पार्लर में काम करने करने वाली लड़की से जिस्मफरोशी के धंधे की मलिका बनने तक का सोनू का सफर दिलचस्प है.

यहां पर कहानी का वो मोड़ आता है, जहां जारी समय को फ्रीज़ करके कहानी को फ्लैशबैक में ले जाना पड़ता है.

सोनू पंजाबन न तो पंजाब से है और न ही उसके माता-पिता ने उसका नाम सोनू रखा था. 1980 में हरियाणा में पैदा हुई सोनू का असली नाम गीता अरोड़ा है. किसी तरह हाईस्कूल पास करने के बाद गीता ने ब्यूटी पार्लर खोल लिया. अभी वो 17 साल की ही थी कि उसकी शादी विजय सिंह से हो गई. विजय सिंह एक हिस्ट्रीशीटर था और ये भी कहा जाता है कि गैंगस्टर श्रीप्रकाश शुक्ला का साथी था. विजय को यूपी एसटीएफ ने 2003 में एक मुठभेड़ में मार गिराया.

# सोनू ब्रदर्स से गठजोड़ –

विजय सिंह की मौत के बाद आर्थिक फ्रंट पर मुश्किलें झेलती गीता ने वेश्यावृत्ति में कदम रखा. वो कॉल गर्ल बन गई. यहां तक आते-आते गीता को पैसा, पावर की अहमियत समझ आ चुकी थी. कहने वाले कहते हैं कि इसी पावर की तलाश में वो सोनू ब्रदर्स के संपर्क में आई. दीपक सोनू और हेमंत सोनू. दोनों ही दिल्ली-एनसीआर की क्राइम दुनिया का बड़ा नाम थे. रॉबरी, मर्डर, फिरौती के कई दर्ज थे उनपर. उनका आतंक भी था और ऊंची जगह कनेक्शंस भी. गीता को उनकी पनाह अपने लिए एकदम सही जगह लगी. बेशुमार ताकत का उसका सपना ऐसा ही कोई शख्स पूरा कर सकता था. उसने बड़े भाई दीपक से शादी कर ली.

दीपक से शादी तो कर ली लेकिन वो ज़्यादा दिन चल नहीं पाई. 2004 का अंत आते-आते दीपक का भी एनकाउंटर हो गया. आसाम में हुई एक मुठभेड़ में दीपक जान से गया और गीता हेमंत की शरण में आ गई. कहते हैं कि हेमंत ही वो शख्स था जिसने गीता को सबसे ज़्यादा प्रभावित किया. गीता ने हेमंत से शादी की और बदकिस्मती से वो भी नहीं चली. 2006 में दिल्ली गुड़गांव बॉर्डर पर हुए एक एनकाउंटर में हेमंत भी अपने दो साथियों के साथ मारा गया.

यहां ये मेंशन करना ज़रूरी है कि दिल्ली की क्राइम बिरादरी दबी ज़ुबान में कुछ और भी कहती है. ये कि गीता अरोड़ा ने दीपक और सोनू के आतंक के दम पर पहले अपना प्रॉस्टिट्यूशन का कारोबार फैलाया और बाद में खुद ही मुखबिरी करके उन्हें मरवा डाला. बहरहाल ऐसी बातें साबित तो की नहीं जा सकती इसलिए हम उसपर कुछ नहीं कहेंगे. हां ये ज़रूर है कि हेमंत सोनू की मौत के बाद गीता ने अपना खुद का नाम सोनू रख लिया और उसके आगे पंजाबन लगा लिया. यूं दुनिया को मिली सोनू पंजाबन.

# कैब सर्विस जैसा सेक्स रैकेट –

सोनू पंजाबन ने अपने धंधे में खूब तरक्की की. उसका धंधा किसी बदनाम रोड के प्राचीन कोठे से नहीं संचालित होता था. बल्कि नई तकनीक के सारे साधन इस्तेमाल करके ऑर्गनाइज़्ड तरीके से होता था. जिस तरह कैब कंपनियों के पास खुद की एक भी कार न होने के बावजूद वो टैक्सी सर्विस का बड़ा नाम बन जाती हैं, उसी तरह सोनू पंजाबन भी बिना किसी कोठे की मालकिन बने करोड़ों का फ्लेश ट्रेड कामयाबी से चलाती थी. दर्जनों दलाल और अनगिनत फ्री लांसिंग वाली कॉलगर्ल्स उसके पे रोल पर थे. वो क्लायंट से मनमाने पैसे लेती, लड़कियों-दलालों को फिक्स रकम देती और बाकी खुद रख लेती. उसका ज़्यादातर काम तो पहले फोन से और व्हॉट्सऐप क्रांति के बाद वीडियो कॉल से हो जाया करता था. इसके अलावा वो लड़कियों को कम कीमत में खरीद कर ऊंचे दामों पर बेच भी दिया करती थी.

सोनू पंजाबन का नेटवर्क दिल्ली के अलावा कोलकाता, मुंबई, पंजाब, राजस्थान तक फैला हुआ था. उसकी गिरफ्तारी के वक़्त उसकी प्रॉपर्टी सौ करोड़ के लगभग आंकी गई थी. उसके पास पांच हज़ार से लेकर पचास हज़ार तक की हर रेंज की कॉलगर्ल उपलब्ध हुआ करती थी. जिनमें स्कूल-कॉलेज की लड़कियां, एयर हॉस्टेसेस और टीवी एक्ट्रेसेस तक शामिल थीं.

उससे मिलने वाले बताते हैं कि सोनू पंजाबन की पर्सनालिटी में एक अथॉरिटी है, एक दबंगई है. यूं तो वो बड़ी मिलनसार है लेकिन खफा होने पर अपने हरियाणवी में लहजे में चुनिंदा दिल्ली वाली गालियां भी देती है.

# वो मामला जिसने जेल पहुंचाया –

यूं तो सोनू 2008 में भी गिरफ्तार हुई थी और जेल के दर्शन कर आई थी. सेक्स रैकेट चलाने का वो केस भी उस पर चल रहा है और वो ज़मानत पर बाहर है. 2017 के दिसंबर में वो एक बार फिर गिरफ्तार हुई. इस बार मामला तगड़ा था. 16 साल की एक लड़की का मामला था. इस लड़की को भगाकर लाया गया था. उसके बाद उसे टॉर्चर किया गया, ड्रग्स दिए गए और जबरन वेश्यावृत्ति कराई गई. तकरीबन 12 बार ख़रीदा-बेचा गया. लखनऊ, रोहतक, दिल्ली जैसी कई जगहों पर.

जहां-जहां क्लायंट के पास लड़की को भेजा जाता, वहां एक गार्ड भी उसके साथ जाता. बावजूद इसके लड़की किसी तरह भाग निकली और नज़फगढ़ थाने पहुंच गई. हालांकि एक लंबे अरसे तक लड़की सोनू पंजाबन के खिलाफ पुलिस का साथ देने से कतराती रही. उसे डर था कि पुलिस उसे सोनू के कहर से बचा नहीं पाएगी. आखिरकार 2017 के अंत में लड़की की हिम्मत जागी, उसने पुलिस की मदद करने की हामी भरी और पुलिस ने सोनू पंजाबन को जेल पहुंचा दिया.

# कट टू करंट डे –

सोनू को दिल्ली के द्वारका कोर्ट ने अब इस बच्ची के अपहरण, रेप और देह व्यापार वाले केस में दोषी पाया है. वैसे तो सोनू के ऊपर कई केस हैं, लेकिन पहली बार वो किसी केस में दोषी करार दी गई है. इसके साथ ही सोनू का एक साथी संदीप भी दोषी करार दिया गया है. फैसला 16 जुलाई को आया. सज़ा का ऐलान भी जल्द ही होगा.

जाते-जाते ये भी याद दिला दें कि कहा जाता है कि फिल्म ‘फुकरे’ में ऋचा चड्ढा ने जिस मादाम का रोल किया था वो सोनू पंजाबन पर ही बेस्ड था. नाम भी मिलता-जुलता ही था. भोली पंजाबन. हिट फिल्म थी. देखी तो होगी ही आपने. फर्क सिर्फ इतना है कि फिल्म में ऐसे किरदार रोचक लगते हैं और असल ज़िंदगी में……


वीडियो देखें –

किमी काटकर, जिन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म कर ली तो फिल्म लाइन ही छोड़ दी –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.