Submit your post

Follow Us

'तुम्हारे वतन के हर हिस्से से खून टपक रहा है भगत सिंह!'

यूपी के अपूर्व शुक्ला अपने बारे में अपने ब्लॉग में लिखते हैं – सपने देखना अच्छा लगता है. बचपन मे अक्सर किताबें लिखने के, मूवीज़ बनाने के, पेंटिंग्स बनाने के और ऐसे ही कितने अजीब से सपने देखा करता था. तब से एक ज़माना हो गया मैं भटकने की कोशिश करता रहा और ज़िन्दगी मुझे अपने रास्ते हांकती रही. वक्त यूं ही बीतता रहा. हां मगर चन्द ख्वाब अभी भी मेरी मेज की दराज़ में पड़े हैं जिन्हें रोज़ सुबह दराज़ खोल कर देख लेता हूं और फिर ऑफिस चला जाता हूं. दिन गुजर जाता है. कभी-कभी जब रात मे नींद नही आती है तो उन्ही पुराने ख्वाबों की चादर ओढ़ कर रात गुजार देता हूं. जानता हूं सारे सपनों को हकीक़त की धूप नसीब नही होती मगर वे जीने की एक वजह तो दे ही देते हैं. और फिर क्या पता… शायद…

कुछ साल पहले भगत सिंह पर एक कविता लिखी थी. दी लल्लनटॉप के पाठकों को पढ़वाते हैं –


‘वो कौन सा सपना था भगत?’

वह भी मार्च का कोई आज सा ही वक्त रहा होगा
जब पेड़ पलाश के सुर्ख फूलों से लद रहे होंगे
गेहूं की पकती बालियां
पछुआ हवाओं से सरगोशी कर रही होंगी
और चैत्र का चमकीला चांद
उनींदी हरी वादियों को
चांदनी की शुभ्र चादर से ढक रहा होगा
जब कोयल की प्यासी कूक
रात के दिल मे
किसी मीठे दर्द सी आहिस्ता उतर रही होगी

और ऐसे बावरे बसंत मे
तुमने शहादत की उंगली में
अपने नाम की अंगूठी पहना दी भगत?
तुम शहीद हो गए?

मैं हैरान होता हूं
मुझे समझ नही आता है भगत!
जलियावाले बाग की जाफ़रानी मिट्टी मे ऐसा क्या था भगत
जिसने सारे मुल्क मे सरफ़रोशों के फ़स्ल उगा दी?

तुममे पढ़ने की कितनी लगन थी
मगर तुम्हे आइ सी एस पास कर
हाथों मे हुकूमत का डंडा घुमाना गवारा न हुआ
तुम अपने शब्दों को जादुई छड़ी की तरह
जनता के सर पर घुमा सकते थे
मगर तुमने सफ़ेद, लाल, काली टोपियों की सियासत नहीं की
तुमने मिनिस्टर बनने का इंतजार भी नही किया
हां, तुमने जिंदगी से इतनी मुहब्बत की
कि जिंदगी को मुल्क के ऊपर निसार कर दिया!

भगत
तुम एक नये मुल्क का ख्वाब देखते थे
जिसमे चिड़ियों की मासूम परवाज को
क्रूर बाज की नजर ना लगे
जहां भूख किसी को भेड़िया न बनाये
और जहां पानी शेर और बकरी की प्यास मे फ़र्क न करे
तुमने एक सपने के लिये शहादत दी थी, भगत!

और आज,
तुम्हारी शहादत के अस्सी बरस बाद भी
मुल्क उसी कोल्हू के बैल की तरह चक्कर काट रहा है
जहां लगाम पकड़ने वाले हाथ भर बदल गये हैं

आज
जब नेताओं की गरदन पर पड़े नोटों के एक हार की कीमत
उसे वोट देने वाले मजदूर की
सात सौ सालों की कमाई से भी ज्यादा होती है
और जब क्रिकेट-फ़ील्ड पर उद्योगपतियों के मुर्गों की लड़ाई के तमाशे
टीवी पर बहुराष्ट्रीय चिप्स और शीतल पेयों के साथ
सर्व किये जा रहे होते हैं,

तब तुम्हारा मुल्क मुंह-अंधेरे उठ कर
थके कंधों पर उम्मीदों का हल लिये
बंजर खेतों मे भूख की फ़स्ल उगाने निकल जाता है
तब किसी लेबर चौराहे की सुबह
चमचम कारों के शोर के बीच
तुम्हारे मुल्क की आंखों मे रोटी का सपना
एक उधड़े इश्तहार की तरह चिपका होता है
और शहर की जगमग फ़्लडलाइटों तले अंधेरे मे
उसी मुल्क के खाली पेट से उसकी तंद्रिल आंखें
सारी रात भूखी बिल्लियों की तरह लड़ती रहती हैं!

और तरक्की के जिस चांद की खातिर तुमने
कालकोठरी की अंधेरों को हमेशा के लिये गले से लगा लिया था
वह चांद अब भी मुल्क के बहुत छोटे से हिस्से मे निकलता है
जबकि बाकी वतन की किस्मत के आस्मां पे पसरी
अमावस की रात कभी खत्म नहीं होती.

आज जब तुम्हारा मुल्क
भूख मे अपना ही बदन बेदर्दी से चबा रहा है
तुम्हारे वतन के हर हिस्से से खून टपक रहा है भगत!

मैं नही जानता
कि वतनपरस्ती का वह कौन सा सपना था
जिसने तुम्हारी आंखों से
हुस्नो-इश्क, शौको-शोहरत के सपनों को
घर-बदर कर दिया
और बदले मे तुमने अपनी नींद
आजादी के नाम गिरवी रख दी थी.

मुझे समझ नही आता भगत
क्योंकि हमारी नींदों पर अब
EMI की किश्तों का कब्जा है
और अपने क्षणिक सुखों का भाड़ा चुकाने के लिये
हम अपनी सोचों का गिरवी रख चुके हैं.

मगर आज फिर उसी मौसम में
जब कि पेड़ों पर सुर्ख पलाशों की आग लगी हुई है
गेहूं की पकी बालियां खेतों मे अपने सर कटा देने को तैयार खड़ी हैं
और वादियों के हरे ज़ख़्मों पर
चांदनी सफ़ेद कफ़न सी बिछ रही है
बावरा बसंत फिर शहादत मांगता है
मगर महीने की तीस तारीख का इंतजार करते हुए
मुझे तेइस तारीख याद नहीं रहती है
मुझे तुम्हारी शहादत नही याद रहती है
क्योंकि हम अपने मुल्क के सबसे नालायक बेटे हैं
क्योंकि हम भागांवाला* नही हैं, भगत !


(भागांवाला-भगत सिंह के बचपन का नाम, भाग्यशाली)


ये भी पढ़ें:

‘दबा रहूंगा किसी रजिस्टर में, अपने स्थायी पते के अक्षरों के नीचे’

‘क्या तुम बता सकते हो हर साल कितने पत्ते गिरते हैं पाकिस्तान में?’

तुमने कभी देखा है खाली कटोरों में वसंत का उतरना?

‘तुम आ जाओ, कि जैसे सालों की देरी के बाद अदालत का फ़ैसला आए’


 वीडियो देखें:

पीयूष मिश्रा ने सुनाया भगत सिंह का वो किस्सा, जो आपने कभी नहीं सुना होगा

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.