Submit your post

Follow Us

एक कविता रोज़: मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

प्रिय पाठको,

आज एक कविता रोज़ में अज्ञेय (7 मार्च 1911 – 4 अप्रैल 1987). पूरा नाम सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’.

अज्ञेय को भारतीय साहित्य में आधुनिकता का पुरोधा माना जाता है. क्रांतिकारी, कवि, कथाकार, आलोचक, अनुवादक, संपादक, संस्कृतिकर्मी, यायावर… क्या नहीं थे अज्ञेय. अर्थात् सब कुछ थे अज्ञेय.

हिंदी कविता में ‘सप्तक परंपरा’ के आविष्कारक अज्ञेय को लगभग सभी महत्वपूर्ण राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय सम्मानों से नवाजा गया. 16 कविता-संग्रह, 8 कहानी-संग्रह और ‘शेखर : एक जीवनी’ जैसे कालजयी उपन्यास सहित 3 उपन्यासों के रचनाकार अज्ञेय भारतीय साहित्य के सबसे उज्ज्वल नामों में से एक हैं.

यहां प्रस्तुत है अज्ञेय की एक कविता : ‘मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!’ कहते हैं कि यह कविता उन्होंने दिल्ली में 21 जुलाई 1936 को एक कवि-सम्मेलन में बैठे-बैठे ही लिख दी थी…

प्रिय, मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!
बह गया जग मुग्ध सरि-सा मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

तुम विमुख हो, किंतु मैंने कब कहा उन्मुख रहो तुम?
साधना है सहसनयना—बस, कहीं सम्मुख रहो तुम!
विमुख-उन्मुख से परे भी तत्व की तल्लीनता है—
लीन हूं मैं, तत्वमय हूं, अचिर चिर-निर्वाण में हूं!
मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

क्यों डरूं मैं मृत्यु से या क्षुद्रता के शाप से भी?
क्यों डरूं मैं क्षीण-पुण्या अवनि के संताप से भी?
व्यर्थ जिसको मापने में हैं विधाता की भुजाएं—
वह पुरुष मैं, मर्त्य हूं पर अमरता के मान में हूं!
मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

रात आती है, मुझे क्या? मैं नयन मूंदे हुए हूं,
आज अपने हृदय में मैं अंशुमाली को लिए हूं!
दूर के उस शून्य नभ में सजल तारे छलछलाएं—
वज्र हूं मैं, ज्वलित हूं, बेरोक हूं, प्रस्थान में हूं!
मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

मूक संसृति आज है, पर गूंजते हैं कान मेरे,
बुझ गया आलोक जग में, धधकते हैं प्राण मेरे
मौन या एकांत या विच्छेद क्यों मुझको सताए?
विश्व झंकृत हो उठे, मैं प्यार के उस गान में हूं!
मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

जगत है सापेक्ष, या है कलुष तो सौंदर्य भी है,
हैं जटिलताएं अनेकों-अंत में सौकर्य भी है
किंतु क्यों विचलित करे मुझको निरंतर की कमी यह—
एक है अद्वैत जिस स्थल आज मैं उस स्थान में हूं!
मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

वेदना अस्तित्व की, अवसान की दुर्भावनाएं—
भव-मरण, उत्थान-अवनति, दु:ख-सुख की प्रक्रियाएं
आज सब संघर्ष मेरे पा गए सहसा समन्वय—
आज अनिमिष देख तुमको लीन मैं चिर-ध्यान में हूं!
मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

बह गया जग मुग्ध सरि-सा मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!
प्रिय, मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

*

अज्ञेय की कुछ कविताएं उनकी ही आवाज में यहां सुनें :

***
इनके बारे में भी पढ़ें :

महादेवी वर्मा
सुमित्रानंदन पत्र
निराला
जयशंकर प्रसाद
घनानंद
जायसी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.