Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

एक कविता रोज़ में पढ़िए 'परमाणु बम'

आश्चर्य आकलन करने जैसा कुछ था नहीं वहां. न आदमी की विलक्षण कल्पनाशीलता की कोई जगह थी!

108
शेयर्स

पेशे से पत्रकार देवांशु कुमार झा ने अपने समय की ‘वाचालता’ को, उसके ‘डेसीबल’ को काफी नज़दीक से देखा, सुना और जिया है. आपकी कविताओं की पुस्तक में संकलित कविताएं (जैसे – गौरैया, शरद, स्मृतियां, धूप, भिखारी आदि) इसके टाइटल – ‘समय वाचाल है’, को जस्टिफाई करती हैं. प्रस्तुत कविता ‘परमाणु बम’ उसी संकलन की एक ‘कुछ-कुछ रिपोर्ताज’ शैली में लिखी कविता है.

कविता की शुरुआत द्वितीय विश्व युद्ध के अंतिम दिनों के रिपोर्ताज की तरह होती है, और कविता अपने अंत तक आते-आते भावनात्मक हो जाती है. अतः इसे ‘एंटी-वॉर पोएम’ कहा जा सकता है. कविता अपने प्रारब्ध में जहां कवि के पत्रकारिता-अनुभव के चलते घटनाओं का चित्रण हूबहू कर सकने में पूर्णतया सक्षम है वहीं वह अंत तक आते आते युद्ध और उसकी प्रासंगिकता पर महत्वपूर्ण प्रश्न-चिन्ह लगा के अपनी परिणीति को प्राप्त होती है.

युद्ध की अपनी सीमाओं के बीच
वहां जीवन वैसा ही चल रहा था
जैसा कि जीवन में युद्ध चलता रहता है
बच्चे अपने बचपन में थे
और युवा विचार कर रहे थे कि
जल्द ही जापान को इस जद्दोजहद से निजात मिल जाए शायद
महिलाएं सुबह के बाद दोपहर की फ़िक्र में थीं
और बूढ़ों में से कुछ देख रहे थे अखबार
जहाँ द्वितीय विश्वयुद्ध की रपट छपी थी
जर्मनी के उखड़ चुके पांवों की छाया
इन सभी क्रियाकलापों, विचारों के बीच ही
आसमान में एक परिंदा मंडराया था
बच्चों ने कौतुहल से उसे देखा
बुजुर्गों ने झांका संशय के झरोखों से
और युवा पहचान करने में व्यस्त रहे कि
चिड़िया देश की है या पर्यटक पक्षियों में से है कोई एक
बस इससे पहले और इसके बाद
कभी किसी चिड़िया ने इतनी लंबी यात्रा तय नहीं की
न ही समय कभी भी एक क्षण में छिटक सका
आश्चर्य की उतनी आंखें
न धरती ने अपनी गर्मी से कभी
उतने हत्यारे बादल पैदा किये
न ज्वालामुखी विस्फोटों के लावे
उतने लाल दिखे कभी, यहाँ तक कि
अमावस की अनंत रातें मिलकर भी
उतना स्याह अंधेरा न कर सकीं
ये सब हुआ पर
आश्चर्य आकलन करने जैसा कुछ था नहीं वहां
न आदमी की विलक्षण कल्पनाशीलता की कोई जगह थी
न अगस्त के माह में चली अननुभूत प्रचंड लू को समझने का था अवसर
अगर कुछ था तो सिर्फ यह कि
धरती ने मनुष्य को विज्ञ बनाने में जितने वर्ष खर्च किए
और जितने संसाधनों को दिल खोलकर लुटाया
मनुष्य ने उसे एक क्षण में सूद समेत वापस लौटा दिया था.

समय वाचाल है - मुखपृष्ठ
समय वाचाल है – मुखपृष्ठ

पुस्तक का मूल्य दो सौ रूपये मात्र है और आप इसे प्राप्त करने के लिए प्रभात प्रकाशन  से संपर्क कर सकते हैं.


 

वीडियो में देखें पत्रकार सलमान रुश्दी के रोने का किस्सा


ये भी पढ़ें:

GST का नाम लेते ही भड़ककर हिमाचलियों ने क्या कहा?

देश में पेट्रोल 38 रुपये प्रति लीटर हो सकता है, जानिए कैसे

रघुराम राजन: कोई भी अर्थशास्त्री यही कहेगा कि पहले नए नोट छाप लो, फिर नोटबंदी करना

क्या आपसे MRP चुकाने के बावजूद GST वसूला जा रहा है?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

साउथ अफ्रीका की हरी जर्सी देख कर शिखर धवन को हो क्या जाता है!

बेबी को बेस, धवन को साउथ अफ्रीका पसंद है.

क्या आखिरी एपिसोड में टॉम ऐंड जेरी ने आत्महत्या कर ली?

टॉम ऐंड जेरी में कभी खून नहीं दिखाया गया था, सिवाय इस एपिसोड के.

क्विज: आईपीएल में डिविलियर्स सबसे पहले किस टीम से खेले थे?

भीषण बल्लेबाज़ एबी डिविलियर्स के फैन होने का दावा है तो ये क्विज खेलके दिखाओ.

क्विज़: योगी आदित्यनाथ के पास कितने लाइसेंसी असलहे हैं?

योगी आदित्यनाथ के बारे में जानते हो, तो आओ ये क्विज़ खेलो.

देशों और उनकी राजधानी के ऊपर ये क्विज़ आसान तो है मगर थोड़ा ट्रिकी भी है!

सारे सुने हुए देश और शहर हैं मगर उत्तर देते वक्त माइंड कन्फ्यूज़ हो जाता है

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो डुगना लगान देना परेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

रजनीकांत के फैन हो तो साबित करो, ये क्विज खेल के

और आज तो मौका भी है, थलैवा नेता जो बन गए हैं.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

न्यू मॉन्क

जब पृथ्वी का अंत खोजने के लफड़े में लापता हुए शिव के 1005 साले!

दुनिया का अंत खोजने के चक्कर में नारद को मिला ऐसा श्राप कि सुट्ट रह गए बाबा जी.

कृष्ण की 16,108 पत्नियों की कहानी

पत्नी सत्यभामा की हेल्प से पहले किया राक्षस का काम तमाम. फिर अपनी शरण में ले लिया उसकी कैद में बंद लड़कियों को.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

जब एक-दूसरे को मारकर खाने लगे शिव के बच्चे

ब्रह्मा जी ने सोचा कि सृष्टि को आगे बढ़ाने की ज़िम्मेदारी शंकर जी को सौंप दी जाए. पर ये फैसला गलत साबित हुआ.

शिव-पार्वती ने क्यों छोड़ा हिमालय पर्वत?

जब अपनी ही मां से नाराज हुईं पार्वती.

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

स्वयंवर से पहले ही एक दूजे के हो चुके थे शिव-पार्वती

हिमालयपुत्री पार्वती ने जन्म के कुछ समय बाद ही घोर तपस्या शुरू कर दी. मकसद था-शिव को पाना.

इस ब्रह्मांड में कैसे पैदा हुआ था चांद!

चांद सी महबूबा और चंदा मामा का गाना गाने से पहले ये तो जान लो. कि चंद्रमा बना कैसे.

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.