Submit your post

Follow Us

'उफ!! तुम्हारी ये खुदगर्जी, चलेगी कब तक ये मनमर्जी'

पहाड़ का एक कवि था जो अपना परिचय इस तरह से देता था-

पांच-छह साल की उम्र से गाय-बछड़ो के ग्वाले जाने लगा, तभी से बीड़ी शुरू कर दी थी. कोई पढ़ाई-लिखाई नहीं. सीधे कक्षा छह में भरती हुआ. पढ़ाई में बहुत कमजोर. उद्दंडताएं तमाम थीं. बीड़ी, चिलम, अतर से लेकर जितने अवगुण थे, सारे समाए हुए. कोई ऐसा उल्लेखनीय गुण नहीं था जिसकी चर्चा की जाए. बल्कि अवगुणों पर चर्चा करो तो एक-एक अवगुण की मैं परत-दर-परत खोल सकता हूं. चिलम कैसे बनाई जाती, उसमें अतर(चरस) कैसे भरी जाती है, ये बता सकता हूं आपको.

कवि का नाम था गिरीश चन्द्र तिवारी. लेकिन पहाड़ में सब प्यार से ‘गिर्दा’ कहा करते. उत्तराखंड आंदोलन के दौरान गिर्दा और उनकी कविताएं पहाड़ के लोगों के मुंह पर चढ़ गईं. गिर्दा आंदोलन के मंच से होते हुए खेतों तक फ़ैल गए. खेतों में घास काटती औरते गिर्दा को गुनगुना रही होती, “हम लड़ते रेया भूली, हम लड़ते रुलो“. [हम लड़ते रहे दीदी, हम लड़ते रहेंगे.]

किसी कवि के जीवन का हासिल क्या है? क्या ये कि वो तमाम तरह के साहित्यिक पुरुस्कारों से नवाजा जाए. या फिर ये कि उसकी कविताएं कोर्स की किताबों में शामिल कर ली जाएं. या फिर कोई अध्येता उसकी कविताओं पर पीएचडी करे. इस सब कसौटियों पर गिर्दा एक असफल कवि हैं. लेकिन ऐसा बहुत ही कम होता होगा कि किसी कवि की अंतिम यात्रा में हजारों लोग उसकी कविता समवेत स्वर में गाएं. रोते जाएं और गाते जाएं.

ततुक नि लगा ऊदेग,घुनन मुनइ की नि टेक
जैंता एक दिन ते आलो, ऊ दिन यो दुनि में…

[इतना उदास मत हो, सर को घुटनों में मत रख. एक दिन निश्चित ही आएगा, जब इस दुनिया में…]

आज इन्हीं गिर्दा का जन्मदिन है. पहाड़ के विनाश पर आप उनकी हिंदी में लिखी गई यह कविता पढ़िए.

बोल व्योपारी तब क्या होगा?

एक तरफ बर्बाद बस्तियां – एक तरफ हो तुम।
एक तरफ डूबती कश्तियां – एक तरफ हो तुम।
एक तरफ हैं सूखी नदियां – एक तरफ हो तुम।
एक तरफ है प्यासी दुनियां – एक तरफ हो तुम।

अजी वाह! क्या बात तुम्हारी,
तुम तो पानी के व्योपारी,
खेल तुम्हारा, तुम्हीं खिलाड़ी,
बिछी हुई ये बिसात तुम्हारी,

सारा पानी चूस रहे हो,
नदी-समन्दर लूट रहे हो,
गंगा-यमुना की छाती पर
कंकड़-पत्थर कूट रहे हो,

उफ!! तुम्हारी ये खुदगर्जी,
चलेगी कब तक ये मनमर्जी,
जिस दिन डोलगी ये धरती,
सर से निकलेगी सब मस्ती,

महल-चौबारे बह जायेंगे
खाली रौखड़ रह जायेंगे
बूंद-बूंद को तरसोगे जब-
बोल व्योपारी – तब क्या होगा ?
नगद – उधारी – तब क्या होगा ??

आज भले ही मौज उड़ा लो,
नदियों को प्यासा तड़पा लो,
गंगा को कीचड़ कर डालो,

लेकिन डोलेगी जब धरती – बोल व्योपारी – तब क्या होगा ?
वर्ल्ड बैंक के टोकनधारी – तब क्या होगा ?
योजनकारी – तब क्या होगा ?
नगद-उधारी तब क्या होगा ?
एक तरफ हैं सूखी नदियां – एक तरफ हो तुम।
एक तरफ है प्यासी दुनियां – एक तरफ हो तुम।


वीडियो- एक कविता रोज: सीलमपुर की लड़कियां

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.