Submit your post

Follow Us

'एक बार फिर जग-मग हो जाती है हर एक घर की आंख'

एक कविता रोज़ में आज राजेश जोशी की एक कविता-

बिजली सुधारने वाले

अक्सर झड़ी के दिनों में
जब सन्नाट पड़ती है बौछार
और अंधड़ चलते हैं
आपस में गुत्थम-गुत्था हो जाते हैं
कई तार

या
बिजली के खम्बे पर
कोई नंगा तार
पानी में भीगता
चिंगारियों में चटकता है.
एक फूल आग का
बड़े तारे–सा
झरता है
अचानक
उमड़ आई
अंधेरे की नदी में.

मोहल्ले के मोहल्ले
घुप्प अंधेरे में
डूब जाते हैं

वे आते हैं
बिजली सुधारने वाले.

पानी से तर-ब-तर टोप लगाए
पुरानी बरसातियों की दरारों
और कालर से रिसता पानी
अन्दर तक
भिगो चुका
होता है उन्हें.
भीगते -भागते
वे आते हैं
अंधेरे की दीवार को
अपनी छोटी-सी टार्च से
छेद हुए.

वे आते हैं
हाथों में
रबर के दस्ताने चढ़ाए
साइकिल पर लटकाए
एल्युमीनियम की फोल्डिंग नसेनी
लकड़ी की लम्बी छड़
और एक पुराने झोले में
तार,पेंचकस,टेस्टर
और जाने क्या-क्या
भरे हुए.

वे आते हैं
खम्बे पर टिकाते हैं
अपनी नसेनी को लंबा करते हुए
और चीनी मिट्टी के कानों को उमेठते
एक-एक कर खींचते हैं
देखते हैं
परखते हैं
और फिर कस देते हैं किसी में
एक पतला-सा तार.

एक बार फिर
जग-मग हो जाती है
हर एक घर की आंख.

वे अपनी नसेनी उतारकर
बढ़ जाते हैं
अगले मोहल्ले की तरफ़
अगले अंधेरे की ओर

अपनी सूची में दर्ज
शिकायतों पर
निशान लगाते हुए.


वीडियो- एक कविता रोज: सीलमपुर की लड़कियां

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?