Submit your post

Follow Us

अलमारी के अंदर से एक सुबह श्रीदेवी गायब हो गई

उन सुनहरे दिनों में जब पांव जमीन से कुछ इंच ऊपर पड़ते हैं. जब दिल की धड़कनें सिर्फ दिल में नही, अंग-अंग में धड़कती हैं. किशोरावस्था के उन चमकीले दिनों में उस किशोर ने बाज़ार से एक दिन श्रीदेवी का एक बड़ा सा पोस्टर खरीदा और अपने पापा के डर से अपनी अलमारी के अंदर की तरफ चिपका दिया.

वह अलमारी अब पहले की अपेक्षा कुछ अधिक खुलने लगी थी. वह बंद तभी होती थी जब या तो पापा घर पर हों या श्रीदेवी का वह दीवाना कहीं बाहर गया हो. इश्क के इतिहास में जब भी दास्ताने लिखीं जाएंगी, अलमारी के साथ उस दीवाने की इस मोहब्बत का जिक्र भी जरूर होगा क्योंकि अब वह सिर्फ एक बेजान अलमारी नही रह गई थी बल्कि उसमें श्रीदेवी साक्षात विद्यमान हो चुकी थी.

यह सिलसिला कईं दिन चलता रहा. एक दिन दीवाने ने सुबह-सुबह अलसाई आंखों से जब अलमारी खोली तो पाया कि अंदर का मौसम बदल चुका है. बसंत के बाद अचानक पतझड़ ने हल्ला बोल दिया है. श्रीदेवी के पोस्टर का कहीं नामोनिशान तक नहीं था. अलमारी फिर से प्राणहीन, बेजान वस्तु में तब्दील हो चुकी थी.

घर में पापा के अलावा सबको अलमारी और किशोर के उस अफेयर का पता था. तो शक मोहब्बत के परंपरागत शत्रु अर्थात पापा पर होना स्वाभाविक था. मगर डायरेक्ट पूछने की हिम्मत किसी में न थी. सो फाइनली ममता की देवी यानि मम्मी को तैयार किया गया हुस्न की देवी के लापता पोस्टर का पता लगाने के लिए.

मम्मी जिन्होंने सबसे ज्यादा पापा के स्वभाव को झेला था, उन्होंने अपने अनुभव का पासा फेंका और पापा से पूछा.

“क्यों जी! कल जब मैं और तीनों बच्चे बाहर गए थे तो पीछे से कोई आया था क्या?”

“नहीं तो” पापा ने उत्तर दिया.

“क्यों क्या हुआ?”

पापा ने फौरन काउंटर सवाल दागा.

“कुछ नहीं, वो तुम्हारा बेटा कह रहा है उसने एक नया पेन खरीदा था, वो मिल नहीं रहा है.”

“कहां रखा था, अलमारी में?”

पापा ने प्रश्न किया तो मम्मी को और छुपकर पूरी बातचीत सुन रहे बेटे को कुछ उम्मीद बंधी.

“हां”

मम्मी ने फौरन उत्तर दिया. बेटे ने भी होंठ भींचकर दरवाज़े के पीछे से ही अपनी गर्दन ऊपर नीचे हिलाई.

पापा ने अखबार में गड़ी अपनी नजरें खींचकर बाहर निकाली और मम्मी की तरफ़ निशाना लगाते हुए बोले.

“अपने बेटे से कहना पेन लिखने के लिए होता है. अलमारी के अंदर छुपाकर चिपकाने के लिए नहीं. अगली बार यदि ऐसा कोई पेन मुझे दिख गया तो पेन की जगह अलमारी में उसे ही चिपका दूंगा.”

पापा की खरी-खरी छुपकर सुन रहा वह किशोर दरवाज़े से इस तरह चिपक गया जैसे स्वयं एक बेजान पोस्टर हो. किसी तरह स्वयं को उस दरवाज़े से नोचकर, छुड़ाकर, तार तार होकर अपनी सूनी अलमारी के पास पहुंचा और पोस्टर के हटने से खाली हुई जगह पर हाथ फिराकर बुदबुदाया.

“भले ही प्यार के दुश्मनों ने मुझे तुम्हारे पोस्टर से जुदा कर दिया हो पर मेरे दिल पर तुम्हारा जो पोस्टर लगा है, उसे कोई हटा नही सकता.”

वैसे ठीक ही कहा था उस दीवाने ने, आज वह किशोर अपनी युवावस्था के अंतिम चरण में प्रवेश कर चुका है और बाज़ार में कितने ही नए पोस्टर दीपिकाओं और आलियाओं के रूप में अपना जलवा बिखेर चुके हैं किंतु श्रीदेवी नाम का पोस्टर आज भी जस का तस उसके दिल पर बिल्कुल सुरक्षित लगा हुआ है, जैसे अभी कल ही बाजार से खरीदकर चिपकाया हो.


जाने क्यों वो मंटो का नाम सुनकर जाते-जाते रुक गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

धान खरीद के मुद्दे पर बीजेपी की नाक में दम करने वाले KCR की कहानी

धान खरीद के मुद्दे पर बीजेपी की नाक में दम करने वाले KCR की कहानी

KCR की बीजेपी से खुन्नस की वजह क्या है?

कौन हैं सीवान के खान ब्रदर्स, जिनसे शहाबुद्दीन की पत्नी को डर लगता है?

कौन हैं सीवान के खान ब्रदर्स, जिनसे शहाबुद्दीन की पत्नी को डर लगता है?

सीवान के खान बंधुओं की कहानी, जिन्हें शहाबुद्दीन जैसा दबदबा चाहिए था.

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.