Submit your post

Follow Us

सेक्स वर्कर्स ने जब शहीदों की विधवाओं के लिए पैसे इकट्ठे किए

मई 1999. करगिल युद्ध शुरू हो चुका था. पाकिस्तान के घुसपैठियों ने भारत की कई जगहों पर कब्ज़ा कर लिया था. दोनों तरफ के सैनिक ज़ख़्मी हो रहे थे. शहीद हो रहे थे. भारत के सैनिक एक के बाद एक अपनी ज़मीन पर से पाकिस्तानियों को भगा रहे थे. देश में हर जगह करगिल युद्ध की ही बातें होती थीं. न्यूज़पेपर, मैगजीन, टीवी सबकुछ देशभक्ति के रंग से पटा पड़ा था. ये पहली बार था जब हमारी जनरेशन ने पूरे देश को एकसाथ मिलकर काम करते हुए देखा था.

गुंडों के लिए देशभक्ति रिहाई का आखिरी सहारा थी

जुलाई 1999 में मुख़्तार अंसारी ने कहा था. वो भी सीमा पर जाकर देश के लिए जंग में शामिल होना चाहता है. वो भी देश के लिए अपनी कुर्बानी देने को तैयार है. जैसे उसके चाचा ब्रिगेडियर उस्मान अंसारी ने सन 1948 के युद्ध में किया था. उस्मान अंसारी अपने साथियों के साथ मिलकर श्रीनगर को पाकिस्तानी हमलावरों के हाथों में जाने से बचाया था. लेकिन एक समस्या आ गई. मुख़्तार अंसारी उस समय तक उत्तर प्रदेश का एक खतरनाक गुंडा बन चुका था. उस पर किडनैपिंग और मर्डर के कई केस चल रहे थे. वो जेल में बंद था. करगिल युद्ध के समय उसके अन्दर का देशभक्त एकदम से जाग गया. बोला, हमको भी सीमा पर जाना है. हमको भी देश की सेवा करनी है. लेकिन कोर्ट ने उसको ना तो जमानत दी. ना ही सीमा पर जाने की परमिशन दी.

मुख़्तार अंसारी क्रेडिट: PTI
मुख़्तार अंसारी
क्रेडिट: PTI

मुख़्तार अंसारी जैसे बहुत सारे गुंडे उस दौर में देश के लिए कुर्बान होने को उतावले हो गए थे. बहुत सारे नामी गुंडे, जो उस वक्त जेल में बंद थे. उन्होंने युद्ध में शामिल होने के लिए जमानत की अर्जी लगा दी थी. गुंडे-बदमाशों को देशभक्ति अपनी रिहाई का आखिरी सहारा दिख रही थी. लेकिन गनीमत है कि किसी को भी परमिशन नहीं मिली थी.

बच्चे पॉकेटमनी बचा रहे थे, सेक्स वर्कर्स अपने सेविंग एकाउंट्स तोड़ रही थीं

उस दौर में शायद ही कोई बच्चा रहा होगा, जिसने बड़े होकर आर्मी में जाने का सपना नहीं देखा होगा. सेना में जाने वालों की अर्जियां करीब दस गुना बढ़ गई थीं. हम गालों पर तिरंगा लगाए घूमते थे. स्कूल और दुकानों में देशभक्ति गाने बजते रहते थे. किसी न किसी तरह से हर कोई करगिल की लड़ाई में देश के लिए कुछ करना चाहता था. जिससे जो बन पड़ रहा था. लोग कर रहे थे. लोगों ने अपनी एक दिन की सैलरी दी थी. हम लोगों ने स्कूल में अनाज जमा करके सीमा पर भेजा था. स्कूलों में कलेक्शन बॉक्स बनवाए गए थे. कई स्टूडेंट्स ने अपनी पॉकेट मनी के पैसे बचाने शुरू कर दिए थे. बच्चे वीडियो गेम खेलना छोड़ कर वो पैसे प्राइम मिनिस्टर राहत कोष में जमा करवाने के लिए भेज रहे थे.

School children wave India's national flag in Chennai
Representative Image Credit: Reuters

दिल्ली के जीबी रोड पर रहने वाली बहुत सारी सेक्स वर्कर्स ने अपनी कमाई का एक बड़ा हिस्सा प्राइम मिनिस्टर राहत कोष में जमा करवा दिया था. वहां रहने वाली एक सेक्स वर्कर का कहना था, ‘भले ही समाज हमको अपने से अलग मानता है, पर विधवाओं का दर्द हम समझ सकते हैं. युद्ध में जब बहुत सारे जवान शहीद हो जाएंगे. उनकी बीवियों की हालत बहुत खराब हो जाएगी. उनकी मदद कौन करेगा? इसीलिए हम अपने पैसे उनके लिए जमा करवा रहे हैं.’

जिन रास्तों से सेना की गाड़ियां गुज़रती थीं. लोग उनके लिए खाना, कपड़े और ज़रूरी चीज़ें लेकर पहुंच जाते थे. अपनी हिफाज़त के लिए सैनिकों को थैंक्यू कहने का ये लोगों का तरीका था.

जब सैनिकों का ट्रक गुज़रता था, लोग उनके लिए खाना, पानी और कपड़े लेकर पहुंच जाते थे
जब सैनिकों का ट्रक गुज़रता था, लोग उनके लिए खाना, पानी और कपड़े लेकर पहुंच जाते थे

दिल्ली की एस्सार फ़ोन कंपनी ने घायल सैनिकों को उनके घरवालों से बात करने के लिए सेना के हॉस्पिटलों में सेल फ़ोन दे दिए थे. कोक ने घायल और अपंग हुए सैनिकों और शहीद हुए सैनिकों के परिवार वालों को अपनी बॉटलिंग यूनिट में नौकरियां देने की पेशकश की थी.

पर जो पैसे इकट्ठे हो रहे थे, वो जा कहां रहे थे

हर हफ्ते करीब 2000 करोड़ रुपयों की ज़रुरत थी. सैनिकों के इलाज, हथियार, इतनी ऊंचाई पर रहने और खाने का खर्च बहुत था. युद्ध के ख़त्म होते-होते करीब 54,461 करोड़ रुपए खर्च हो चुके थे.

हर कोई मदद करना चाहता था
हर कोई मदद करना चाहता था

युद्ध के दौरान पैसे लगातार आ रहे थे. बड़े-बड़े इंडस्ट्रियलिस्ट, बिज़नेसमेन, आम आदमी आगे बढ़कर पैसे दे रहे थे. लेकिन ज़रूरत के वक़्त सैनिकों तक कितना पैसा और कितनी सुविधाएं पहुंची. इसका कोई हिसाब नहीं था. सैनिकों की ज़रूरतें पूरी नहीं हो पा रही थीं. लोगों की देशभक्ति वाली भावना का फायदा उठाने वाले लोगों के लिए ये नया बिज़नस बन गया था. छोटी-छोटी दुकानें कुकुरमुत्ते की तरह हर जगह निकल आई थीं. उन पर पोस्टर लगे होते थे. सेना के लिए कपड़े, पैसे और अनाज यहां जमा करवाएं. देशभक्ति के नाम पर लोग पैसा जमा कर रहे थे. ये जाने बिना कि ये पैसा कहां और कैसे इस्तेमाल होगा. जगह-जगह पर ब्लड डोनेशन कैंप लगाए जा रहे थे. लोगों से कहा जा रहा था कि ये खून जवानों के काम आएगा. लेकिन सीमा पर सेना को इतने खून की ज़रूरत ही नहीं थी.

बिज़नेस वालों ने भी युद्ध को अपने फायदे के लिए खूब इस्तेमाल किया. टीवी और म्यूजिक सिस्टम बनाने वाली कंपनी बैरन इंटरनेशनल ने ऑफर निकाला था. अगर आप उनका एक टीवी या म्यूजिक सिस्टम खरीदेंगे. कंपनी 100 रुपए सेना को भेजेगी. इसी तरह के ऑफर उस वक़्त के लगभग हर ब्रांड ने निकाले थे. 

फिर भी बहुत सारा पैसा, बेहिसाब इकट्ठा हुआ खून, अनाज और लोगों की मदद बर्बाद हो रही थी. लेफ्टिनेंट जेनरल और एडजुटेंट जेनरल एस.एस. ग्रेवाल ने खुद लोगों से कहा था, ‘जब देश के सामने इतनी बड़ी समस्या खड़ी है. सैनिकों को इज्ज़त और इतना सम्मान मिलता देखकर बहुत अच्छा लग रहा है. लेकिन ज़रूरत है कि सैनिकों और उनके परिवारों के लिए युद्ध के बाद की ज़िन्दगी बेहतर बनाने की. युद्ध के बाद विकलांग सैनिकों को नौकरियां दी जाएं, तो अच्छा होगा.’

कुछ को लगता था कि ये देशभक्ति भी सिर्फ ग्लैमर है

कुछ ऐसे भी लोग थे जो ज़रूरत से ज्यादा पसरी हुई देशभक्ति से खीझ भी गए थे. उनका मानना था कि हर साल करीब 1000 से ज्यादा सैनिक शहीद होते हैं. वो भी तब, जब युद्ध नहीं हो रहा होता. उस वक़्त तो उन सैनिकों पर कोई ध्यान नहीं देता. उस वक़्त तो उनके घरवालों को कोई नहीं पूछता. उस वक़्त अचानक से सबके अन्दर की देशभक्ति जाग गई थी.


ये भी पढ़ें-

बचपन का 15 अगस्त ज्यादा एक्साइटिंग होता था! नहीं?

4 आतंकियों को मारने वाले हंगपन दादा को ‘अशोक चक्र’

देश की रक्षा में तैनात फौजियों को लूट रहा है ये गैंग

वीडियो-मुजफ्फरपुर में बालिका गृह में बच्चियों के रेप में आरोपियों के नाम चौंकाने वाले हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

धान खरीद के मुद्दे पर बीजेपी की नाक में दम करने वाले KCR की कहानी

KCR की बीजेपी से खुन्नस की वजह क्या है?

कौन हैं सीवान के खान ब्रदर्स, जिनसे शहाबुद्दीन की पत्नी को डर लगता है?

सीवान के खान बंधुओं की कहानी, जिन्हें शहाबुद्दीन जैसा दबदबा चाहिए था.

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.