Submit your post

Follow Us

कोरोना की वैक्सीन लगवाने के बाद शराब पी सकते हैं या नहीं, पढ़ लीजिए

कोरोना वैक्सीनेशन का तीसरा चरण शुरू हो चुका है. कुछ जगह पर लोग शंका में वैक्सीन लगवाते कतरा रहे हैं, तो कुछ जगह पर वैक्सीन की किल्लत हो रही है. मगर इन सबके बीच वैक्सीनेशन को लेकर कुछ सवाल हैं, जो लोगों को मन में उठ रहे हैं. हमने ऐसे ही कुछ सवालों की लिस्ट बनाई और उन्हें डॉक्टर प्रवीण विझानी के सामने रखा. डॉ. प्रवीण विझानी क्रिटिकल केयर और पल्मोनेरी डिज़ीज़ विशेषज्ञ हैं. आइए जानते हैं, आम लोगों के मन में उठने वाले सवालों के जवाब हैं डॉक्टर प्रवीण से-

सवाल: अगर मेरा होम्योपैथिक या ऐलोपैथिक इलाज चल रहा हो तो क्या वैक्सीन लगवाने के लिए उसे बंद करना होगा?

जवाब: नहीं. आपका जो भी इलाज चल रहा है, वैक्सीन लगवाने के लिए उसे रोकने की ज़रूरत नहीं है.

सवाल: क्या वैक्सीन लगवाने के पहले और बाद में शराब पी सकते हैं या नहीं?

जवाब: आइडियली तो शराब से दूर ही रहना चाहिए. लेकिन जहां तक कोरोना वैक्सीनेशन और शराब के संबंध की बात है, तो अभी तक सामने आयी स्टडी में ऐसा कोई सीधा संबंध नहीं मिला है. शराब पीने से वैक्सीन जनित रोग प्रतिरोधक क्षमता या एंटीबॉडी ना बनती हो, ऐसा भी कोई प्रमाण नहीं मिला है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी अपनी वेबसाइट पर कहा है. वो भी इस लिंक पर जाकर पढ़ लीजिए.

Vaccination Pti
वैक्सीन लगवाने के लिए आप CoWIN पोर्टल पर रजिस्टर कर सकते हैं. (फ़ोटो: PTI)

सवाल: क्या वैक्सीन लगवाने से पहले एंटीबॉडी टेस्ट करवाना चाहिए, ताकि अगर शरीर में एंटीबॉडी पहले से हों तो वैक्सिनेशन कुछ समय के लिए टाला जा सके.

जवाब: हमारे पास जो डेटा है, उससे पता चलता है कि कोविड से उबरने के बाद लोगों के अंदर कुछ इम्यूनिटी बनती है. यह दोबारा कोरोना इन्फेक्शन के खतरे को कुछ कम कर देती है. मगर ये इम्यूनिटी हर किसी के लिए अलग होती है. हमें ये भी नहीं पता कि ये नैचुरल इम्यूनिटी कब तक बची रहेगी. अभी वैक्सीन लगवाने से पहले या बाद में एंटीबॉडी चेक करने की सलाह नहीं दी गई है. इसलिए अगर आपको पहले ही कोविड हो चुका हो, तब भी आपको वैक्सीन लगवानी चाहिए.

सवाल: अगर मैं कोरोना पॉज़िटिव हूं, मगर लक्षण न होने की वजह से पता नहीं चल सका और वैक्सीन लगवा ली, तो क्या होगा?

जवाब: इस सवाल का जवाब देना थोड़ा मुश्किल है. जब किसी को कोविड वैक्सीन लगाई जाती है तो उसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी देखने को मिल सकते हैं. ये दिखाते हैं कि आपकी बॉडी वायरस के खिलाफ प्रोटेक्शन पैदा कर रही है. इन इफेक्ट्स में शामिल हैं- थकान, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना, बुखार आना, जी मिचलाना. बाजू में जहां पर टीका लगता है, उस जगह पर दर्द, लालपन या सूजन के लक्षण भी देखे जा सकते हैं. ये साइड इफेक्ट्स बस कुछ ही दिन रहते हैं. कुछ लोगों को तो ये साइड इफेक्ट्स होते ही नहीं हैं.

सवाल: अगर मुझे कोरोना हो जाए तो मैं कब वैक्सीन लगवा सकता हूं?

जवाब:जिन लोगों में कोरोना के सिम्प्टम हैं, उन्हें तब तक वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए जब तक उनकी बीमारी ठीक नहीं हो जाती और उनका आइसोलेशन पीरियड खत्म नहीं हो जाता. जिन लोगों में कोविड के सिम्प्टम नहीं दिखते, उन्हें भी गाइडलाइन के मुताबिक एक तय वक़्त तक रुकने के बाद ही वैक्सीन लगवानी चाहिए. कोरोना के मरीज़ को हम तीन कैटिगरी में बांट सकते हैं-

#पहले वो जो असिम्प्टोमैटिक होते हैं, मतलब जिनके अंदर कोरोना के लक्षण दिखाई नहीं पड़ते. ऐसे मरीज़ को 10 दिन क्वॉरन्टीन करने के बाद वैक्सीन दी जा सकती है.

#दूसरे वो हैं जिनके अंदर हल्के सिम्प्टम होते हैं, जैसे बुखार, सांस लेने में तकलीफ वग़ैरह. ऐसे मरीज़ को 10 दिन आइसोलेशन में रखा जाता है. जब ये सिम्प्टम चले जाते हैं, और मरीज़ को 24 घंटों में बिना दवा की मदद के एक बार भी बुखार नहीं आया होता है, तब वैक्सीन दी जा सकती है. अगर मरीज़ की सूंघने और टेस्ट करने की क्षमता चली गई है, तो हम उसके लौटने का इंतज़ार नहीं करते, क्योंकि इसमें कई बार महीनों लग सकते हैं.

#तीसरे वो कोरोना मरीज़ हैं जिनकी हालत काफ़ी क्रिटिकल होती है. इन्हें ICU में रखने की ज़रूरत पड़ती है. ऐसे मरीज़ को हम 20 दिन आइसोलेशन में रखते हैं. कंडीशन में सुधार होने के बाद भी इन्हें वैक्सीन तभी दी जा सकती है जब इनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आए.

अगर कोविड के इलाज के लिए आपको मोनोक्लोनल एंटीबॉडी या प्लाज़्मा थेरपी दी गई है, तब आपको कोविड वैक्सीन लगवाने से पहले 90 दिन तक इंतज़ार करना चाहिए.

Vaccine 2 Pti 700

भारत में ज्यादातर कोविशील्ड और कोवैक्सीन लगाई जा रही है. (फ़ोटो: PTI)

सवाल: अगर वैक्सीन की पहली डोज़ और दूसरी डोज़ के बीच में मुझे कोरोना हो जाए, तब क्या करना है?

जवाब: इस केस में भी आपको कोरोना के लक्षण या सिम्प्टम के जाने का इंतज़ार करना है. ऊपर बताई गई गाइडलाइन को फॉलो करना है. कोविड सही होने के बाद वैक्सीन की दूसरा डोज़ ली जा सकती है.

सवाल: अगर मेरे लिवर में कुछ दिक्कत है, किडनी में कुछ परेशानी है, डायबिटीज़ है, अस्थमा है या TB है, तब क्या मैं वैक्सीन लगवा सकता हूं?

जवाब: हां. आप किसी भी तरह के क्रोनिक इन्फेक्शन में वैक्सीन लगवा सकते हैं, बशर्ते कि आपकी कंडीशन स्टेबल हो और मर्ज़ काबू में हो.

सवाल: क्या प्रेग्नेंट महिलाएं या बच्चे को स्तनपान कराने वाली महिलाएं कोरोना वैक्सीन लगवा सकती हैं?

जवाब: आमतौर पर किसी भी वैक्सीन को पहले वयस्कों पर टेस्ट किया जाता है. बच्चे, प्रेग्नेंट या स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर इनकी टेस्टिंग नहीं होती. चूंकि कोविड वैक्सीन आम वयस्कों के लिए सेफ़ पाई गई है, इसलिए इनके असर को अब बच्चों और प्रेग्नेंट महिलाओं पर चेक किया जा रहा है. ये स्टडी पूरी होने के बाद हमें इसके बारे में ज़्यादा पता चल सकेगा.

तब तक के लिए इस बात को सुनिश्चित कीजिए कि बच्चे, प्रेग्नेंट या ब्रेस्ट-फीडिंग महिलाएं दूसरों से शारीरिक दूरी बनाए रखें, अपने हाथों को बार-बार धोती रहें, छींक या खांसी आने पर अपनी कुहनी से नाक और मुंह को ढकें, और मास्क का इस्तेमाल करें.

सवाल: क्या बुज़ुर्गों को वैक्सीन लगवाई जा सकती है? हम ऐसे बुज़ुर्गों की बात कर रहे हैं जो काफ़ी ज्यादा बूढ़े हैं, जिन्हें कई मर्ज़ हैं और जिनका चलना-फिरना भी थोड़ा मुश्किल होता है?

जवाब: हां, इन्हें वैक्सीन लगाई जा सकती है. ज़्यादा उम्र वाले लोगों में कोविड की वजह से हालत काफ़ी क्रिटिकल हो सकती है. कुछ मेडिकल कंडीशन भी हालत को गंभीर कर सकते हैं. इस ऐज ग्रुप को वैक्सीन लगवाने के बाद इनकी कंडीशन मॉनीटर करने की ज़रूरत पड़ती है.


वीडियो: कोरोना पेशेंट के लिए ऑक्सीजन कन्संट्रेटर के पीछे भागने से पहले उसकी जरूरत जान लीजिए!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.