Submit your post

Follow Us

भूमिरीका 1- ईमान आंटी और जवानी वाला हीरो पैगंबर

आज भूमिका के लिए भूमिका लिख रहा हूं. अब वो इस परिवार का हिस्सा बनने जा रही है. दी लल्लनटॉप परिवार. जो आपके लिए कलम कोंचता रहता है. दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में. वहां के हर्फ हरारत से भरे आप तक पहुंचाता है. नई कहानियां, तस्वीरें, बयान और आवाजें सुनाता है.
भूमिरीका. ये हमारा नया कॉलम है. इसमें हम आपको अमरीका ले चलेंगे. जब-तब. वहां हमारी नजर बनी हैं भूमिका जोशी.
मिस जोशी अमरीका में पीएचडी की पढ़ाई कर रही हैं. लौटेंगी तो डॉक साब कहलाएंगी. और हां. वो लौटेंगी जरूर. क्योंकि उन्हें मां, माटी, मानूष से अपने मुल्क के, खालिस किसिम का प्यार है.
अजब है इस लड़की की कहानी. पैदाइश कहां हुई. पूछा, तो हंसते हुए बोली. आई हॉस्पिटल में. कानपुर के. फिर परवरिश हुई लखनऊ में. बड़े सुंदर सुंदर नाम थे स्कूल के. लॉरैटो कॉन्वेंट. जयपुरिया स्कूल. फिर दिल्ली आमद हुई. लेडी श्रीराम कॉलेज. एलएसआर से कुमुक उठी तो अगला पड़ाव हुआ जेएनयू. यहां से परदेस का परवाना हासिल किया. ऑक्सफर्ड पहुंचीं. और अब येल यूनिवर्सिटी. दुनिया के सबसे शानदार मरकजों में से एक. ठेठ लहजे में कहें तो आईवी लीग के टॉप ठिकानों में से एक.
ये लहजे की बात जरूरी है. क्योंकि परिचय में जो नाम आए हैं. वे भारी हैं. जैसा कि लल्लन कहता रहता है. इंगलिस पिच्चर टाइप. मगर भूमिका भुच्च देहाती है. रह रहकर अपने अल्मोड़ा भाग जाती है. पहाड़ों में भटकती हैं. सुस्ताने को रुकती हैं जब कहीं जिंदगी में. तो चाय पीती हैं. मगर द्रव को द्रव्य में तब्दील कर. (भंते संस्कृत ज्यादा हो गई क्या) दरअसल भूमिका की चाय बिस्कुट खाने का बहना होती है. और जो खाएंगे तो एक डेढ़ तो चू ही जाएंगे भीतर. अतएव लिक्विड फ्लुइड में तब्दील हो जाता है पार्थ.
bhoom1

इस मौड़ी को हिंदी से प्यार है. अम्मा से होता है जैसे. वैसा ही. बिना शर्त. बिना शोर के. इत्ती दूर रहती है. मगर खाकी लिफाफे में अब भी जो चीजें मंगाती है मुलुक से. उसमें किताबों की भरमार होती है. कविताएं खोज खोज कर पढ़ती है. और जो किसी राइटर ने उसकी पोस्ट पर कुछ लिख दिया. तो फिर दिन भर जमीं से बालिश्त भर ऊपर तिरती फिरती है. निपट अबोध. या कि असल.
अब वो आपके साथ अपनी स्पेस और ख्याल शेयर करेगी. भूमिरीका नाम होगा सिलसिले का.
भूमिरीका में क्या होगा. अमरीका के किस्से. वहां के लोग. उनके कहकहे. डर. आवाजें. यादें. तौर-तरीके. चुनाव, प्रोपैगेंडा, मीडिया, टीवी, सिनेमा, संगीत और वो सब जो आता है उनके हिस्से. जिसे हम हिंदुस्तानियों को जानना चाहिए. मानवीय ढंग से. अपने ढंग से.
तो बस. अब अमेरिकी भूमि पर आपकी आमद का वक्त आ गया है. सौरभ की भूमिका समाप्त हुई. अब आपकी नजर भूमिका के हाथ है. देखिए, कहां कहां ले जाती है. –  सौरभ द्विवेदी


मेरी फलाफल वाली बुजुर्ग दोस्त ईमान की दुकान का इक किस्सा

मेरे घर के बगल में एक राशन और छुटपुट खाने की दुकान है. इसका नाम अयाह-ह मार्केट है. अक्सर मैं वहां से रोज़मर्रा की चीज़ें खरीदती हूं. दूध, ब्रेड, अंडा वगैरह. राशन की कई दुकानों की तरह ये भी परिवार की मिली जुली मेहनत से चलती है. गल्ले पे कभी बड़ा बेटा होता है तो कभी उसकी मां. फलाफल तलते हुए कभी कभी पिता जी दिख जाते हैं. तो कभी उनकी मदद करते हुए उनकी छोटी बेटी. हफ्ते के अंत में और अक्सर शनिवार को पूरा परिवार ही गाड़ी से थोक का सामान उतारने में लगा रहता है.
कुछ एक महीने पहले उनकी दुकान पर चोरी हुई. छुरी दिखाकर एक नौजवान 100 डॉलर लेकर चंपत हो गया. आने वाले कुछ दिन मोहल्ले की सारी दुकानों में एक धुंधली सी फोटो चिपकी रही. सीसीटीवी फुटेज से निकाली गई. पर लड़का पकड़ा नहीं गया.
परिवार की मां हैं जो महिला, उनका नाम ईमान है. उनसे मेरी दोस्ती हो चली है. जैसे कि गप मारती हुई औरतों की अक्सर हो जाती है. बातों ही बातों में वो और मैं अब अनजान नहीं रहे. सबूत के लिए, वो अक्सर मेरी उधारी मान लेती हैं. कभी कभार मुफ्त में मेरी पसंदीदा तुर्की मिठाई बकलावा मेरे सामान में डाल देती हैं. मेरी खुशकिस्मती. जब से चोरी हुई, एक चीज बदल गई है. उनके चेहरे की खिलखिलाहट कुछ कम हो गई है. ईमान को पैसे खो जाने का इतना गम नहीं है जितना कि वो डर जो वो अक्सर महसूस करती हैं. किसी अजनबी के स्टोर में घुसते ही. खासतौर पर जब अंधेरा हो जाने के बाद वो दुकान में अकेली होती हैं.
आलस से परेशान, अक्सर मैं ईमान की दुकान से फलाफल खा लिया करती हूं. आज भी उसी इरादे से खरीदने गई. बहुत सारे ग्राहक पहले से खड़े थे. तो ईमान ने मुस्कुरा कर मेरे गप मारने के इरादे को टाल दिया. अपना ऑर्डर देकर मैं दुकान में यहां वहां देखने लगी. दुकान में अक्सर फ़ारसी या अरबी में टीवी ड्रामा लगे रहते हैं. इनकी धीमी आवाज़ दुकान को भरे रहती है. जब भी मैंने उन पर नज़र डाली है, सास बहु जैसी कहानियां ही चलती लगीं. मुझे न तो फ़ारसी आती है और न ही अरबी. तो टीवी पर आते जाते लोगों की नाटकीयता से ही अंदाज़ा लगाना पड़ता है कि भला क्या होगा? पर आज जब मैंने नज़र डाली तो बाकी दिनों से फ़र्क नज़ारा दिखा.
कोई पीरियड ड्रामा चल रहा था. जैसे घर पर नानी-दादी ‘देवों के देव महादेव’या फिर माँ ‘अशोक’ सरीखा कुछ देख रहीं हों. अब तक ग्राहकों की भीड़ छंट चुकी थी. ईमान जी अब मेरा ऑर्डर तैयार कर रही थीं. मैंने उनसे पूछा कि ये कोई नया सीरियल चालू हुआ है क्या? देखने में बड़ा भव्य लग रहा है? और थोड़ा राजा अमीरों टाइप की कहानी. फलाफल के ऊपर बारी बारी से प्याज़ और गाजर डालती हुई ईमान ने कहा, ये पैगंबर यूसुफ की कहानी है. वही जो याकूब के बेटे थे. ग्यारह भाइयों में से एक, जिन्हें पैगम्बर का दर्ज़ा मिला और जिन्हें जोसफ के नाम से भी जाना जाता है. बड़ा ही महंगा सीरियल है. सबसे पहले ईरान में बना था. फारसी ज़बान में. और उसके बाद अरबी में भी.
ईमान ने बताया कि सफर करते करते ये सीरियल पाकिस्तान भी पहुंच चुका है. उनके मुताबिक सबसे ख़ास बात यह है कि जैसा क़ुरान में लिखा है, बिल्कुल वैसे ही बनाया गया है ये सीरियल. ईमान बोलीं, ‘बड़े सुन्दर सुन्दर अदाकार भी हैं, खाली समय में नज़र डाल लेती हूं’ और फिर मुस्कुराते हुए मेरा खाना थमा दिया.

american tv serial yusuf e payember

मुझे बड़ी जिज्ञासा हुई इस कहानी और सीरियल के बारे में. और मेरी पीढ़ी की जिज्ञासा जैसे गूगल के साथ शुरू और खत्म होती है, पैगम्बर युसूफ भी उससे न बच पाए. पता चला कि काफी हिट रहा है ये सीरियल. इसका नाम है, युसूफ-ए-पैगम्बर और इसकी शुरुआत 2008 से हुई. इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान ब्रॉडकास्टिंग (IRIB) के द्वारा. जैसा कि हिट चीज़ों के साथ होता है, अपने हिस्से की कॉन्ट्रोवर्सी भी इस सीरियल को प्राप्त हुई. ईजिप्ट में अल-अज़हर ने इसे बैन करने की भी मांग भी की. आजकल जहां जंग का आलम है उस अज़रबैजान की भाषा अज़ेरी में भी इसका अनुवाद हो चुका है. गूगल देव के मुताबिक करीब दो मिलियन डॉलर की लागत से बना था ये ड्रामा. बहुत ध्यान से पूरी डिटेलिंग में पुराने वक्त के ईजिप्ट यानी मिस्र को पर्दे पर दिखाया गया.
सबसे रोचक जानकारी यह मिली कि इस सीरियल को जून 2016 से इंडिया में दिखाया जाएगा. इसका हिंदी और उर्दू में भी अनुवाद हो चुका है. क्या पता गर्मियों की छुट्टी में जब मैं घर जाऊं तो नानी, दादी और मां पैगम्बर युसूफ की कहानी टीवी पर देख रही हों? और तब मैं उन्हें ईमान की एक शिकायत बताऊं. बकौल ईमान, ड्रामा अच्छा है. मगर पैगंबर यूसुफ की जवानी वाला किरदार उतना सुंदर नहीं, जितने की उन्होंने उम्मीद की थी.

यूं नजर आ रहा है अमेरिका इन दिनों
यूं नजर आ रहा है अमेरिका इन दिनों
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.