Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

महज नौ महीने नहीं हैं ये, पूरी एक ज़िन्दगी है... जीकर देखेंगे?

1.51 K
शेयर्स

अंकिता जैन. जशपुर छतीसगढ़ की रहने वाली हैं. पढ़ाई की इंजीनियरिंग की. विप्रो इंफोटेक में छह महीने काम किया. सीडैक, पुणे में बतौर रिसर्च एसोसिएट एक साल रहीं. साल 2012 में भोपाल के एक इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट में असिस्टेंट प्रोफेसर रहीं. मगर दिलचस्पी रही क्रिएटिव राइटिंग में. जबर लिखती हैं. इंजीनियरिंग वाली नौकरी छोड़ी. 2015 में एक नॉवेल लिखा. ‘द लास्ट कर्मा.’ रेडियो, एफएम के लिए भी लिखती हैं. शादी हुई और अब वो प्रेग्नेंट हैं. ‘द लल्लनटॉप’ के साथ वो शेयर कर रही हैं प्रेग्नेंसी का दौर. वो बता रही हैं, क्या होता है जब एक लड़की मां बनती है. पढ़िए तीसरी क़िस्त.


Cover

दूध का जला मठा भी फूंक-फूंककर पीता है. ये कहावत तो कई दफ़ा सुनी होगी आपने. मैंने भी सुनी थी, लेकिन ये किसी दिन मेरी ज़िन्दगी में मेरी प्रेग्नेंसी पर भी लागू होगा ये मुझे नहीं पता था. मेरी पहली प्रेग्नेंसी तीन हफ्तों में ही ख़त्म होने की वजह से मैं बहुत डर गई थी. अगली बार कंसीव कब करना होगा. कंसीव करने से पहले और कंसीव होने के बाद क्या-क्या प्रीकोशन लेने होंगे. अगर दोबारा पहले जैसा हो गया तो… अगर मैं कभी कंसीव कर ही नहीं पाई तो? न जाने कितने सवालों से मैं घिरी हुई थी.

क्योंकि मेरी प्रेग्नेंसी “फेटलपोल” यानी बच्चा बनने से पहले ही ख़त्म हो गई थी, इसलिए मैंने अंग्रेजी डॉक्टर की सलाह के ऊपर एक आयुर्वेदिक डॉक्टर की और घर की बड़ी-बुजुर्ग महिलाओं की सलाह को अहमियत दी. और अपनी यूट्रस को साफ़ करने के लिए D&C की जगह घरेलू उपचार किये. मैं अपनी सबसे अहम चीज़ को औजारों और केमिकलों से दूर रखना चाहती थी, ताकि मुझे भविष्य में कोई दिक्कत ना हो. इसलिए जैसे ही मुझे प्रेग्नेंसी ख़त्म होने की सूचना देने वाली हेवी ब्लीडिंग शुरू हुई, मेरी मां और मेरी सास दोनों ने अपना घरेलू इलाज शुरू कर दिया, ताकि यूट्रस में जमा खून ना रह पाए जो आगे कंसीव होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता था.

उन घरेलू इलाजों में था,
– जब तक ब्लीडिंग हो रही हो तब तक अजवाइन का उबला पानी
– जब तक ब्लीडिंग हो रही हो, तब तक प्रतिदिन सुबह-शाम एक चम्मच हल्दी को कच्चा खाना, या आधा कटोरी गुनगुने दूध में मिलाकर पीना
– सुबह ख़ाली पेट, सोंठ और घी से बना पाक दो चम्मच

इन तीन घरेलू इलाजों के साथ मेरी यूट्रस, प्रेग्नेंसी ख़त्म होने के बाद की पहली ब्लीडिंग में ही पूरी तरह साफ़ हो चुकी थी. और मेरी यूट्रस ने अपनी खून से बनी दीवारों को जो उसने मेरे आने वाले बच्चे के लिए एक महीने में बनाई थीं, को तोड़कर, बड़े-बड़े जमा खून के थक्के निकालकर, ब्लीडिंग भी चार दिन में पूरी तरह ख़त्म कर दी थी, जो प्राकृतिक रूप से सब कुछ ठीक होने का एक अच्छा साइन था. अब मुझे एक महीना इंतज़ार करना था. और ये देखना था कि क्या हमेशा की तरह अगले महीने भी मेरा पीरियड समय पर आकर नार्मल ब्लीडिंग के साथ निकल जाएगा या आगे कोई परेशानी होगी. उसी पर डिपेंड करने वाला था कि मैं दोबारा कंसीव कब कर सकती हूं.

(कृपया ऊपर दिए किसी भी नुस्खे को मेरे कहने पर ना अपनाएं, क्योंकि हर प्रेग्नेंसी अलग होती है, और हर प्रेग्नेंसी में आने वाली परेशानियां अलग होती हैं. हां, आप किसी बहुत अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह ले सकती हैं, जो आपको केमिकल्स की जगह कुछ बेहतर प्राकृतिक उपचार बता सकते हैं.)

अर्ली मिस-केरिज में सामान्यतः डॉक्टर दो से तीन महीने नार्मल पीरियड होने के बाद कंसीव करने की सलाह देते हैं. मेरे केस में फेटल-पोल या योक-सेक भी नहीं बन पाया था, सिर्फ एग फर्टिलाइज़ होकर रह गया था. इसलिए मुझे अपने पीरियड्स को सिर्फ एक महीने वाच करना था. हालांकि मेरे जैसे केसेस में भी डॉक्टर दो से तीन महीने रुकने की सलाह देते हैं. यह पूरी तरह आपके शरीर, और उसे चलाने वाली चीज़ों, जैसे कि आपके हीमोग्लोबिन, आपकी यूट्रस का स्टेटस, आपका ब्लड-प्रेशर, आपकी शुगर, आपका hCG लेवल आदि-आदि के सामान्य होने पर डिपेंड करता है. साथ ही इस पर भी कि मिस-केरिज के बाद आपके पीरियड्स कैसे हो रहे हैं. क्या वो नार्मल हैं. या अगले कुछ पीरियड्स में भी आपको सामान्य से ज्यादा तरल की जगह जमा हुआ खून यानी खून के थक्के निकल रहे हैं.

ये सारी बातें मुझे पूरी तरह डॉक्टर से तो पता नहीं चल पाईं थी, और मैं अपने अगले केस में कोई रिस्क भी नहीं लेना चाहती थी, इसलिए अपने नार्मल पीरियड्स के इंतज़ार में जो एक महीना मुझे काटना था. वो मैंने इन्टरनेट पर मेरे जैसे केसेस, और उन पर दुनिया-भर के डॉक्टर्स की क्या राय है ये ढूंढने में निकाला. बेशक इससे मुझे बहुत मदद मिली. कई सारे आर्टिकल्स, कई सारी दूसरी महिलाओं की कहानियां जो मुझसे मिलती-जुलती थीं. कई सारी वेबसाइट जो इन्हीं सबके लिए हैं.उन पर मुझे बहुत अच्छी और डिटेल जानकारी मिली.

साथ ही मैंने अपने कुछ डॉक्टर दोस्तों और उन सहेलियों से बात की जो मां बन चुकी थीं. और तब सारी जानकारी इकठ्ठा करने के बाद मैंने ये डिसाइड किया. कि यदि मेरा अगला पीरियड्स समय पर और हमेशा की तरह सामान्य रहेगा तो मैं आगे और महीनों का इंतज़ार किये बिना उसके बाद ही अपना अगला बच्चा प्लान करूंगी. इस निर्णय के पीछे एक कारण ये भी था कि इकठ्ठा हुई जानकारी के मुताबिक़ मेरे जैसे केसेस में दोबारा कंसीव होने वाला बच्चा, न सिर्फ आसानी से कंसीव होता है, बल्कि वह पूरी एक हेल्दी प्रेग्नेंसी रहती है. इस एक बात ने मेरे मन को परेशान करने वाले हर नकारात्मक ख़याल को दरकिनार करके मुझे अपने आगे आने वाले बच्चे के लिए सकारात्मकता से भर दिया था.

मेरी मुश्किल घड़ी में मेरा साथ न सिर्फ मेरे पति ने बल्कि मेरी सास और ससुर ने भी पूरा दिया. मेरी मानसिक स्थिति को समझते हुए वो कई तरह से मुझे अपनी बातों से बहलाने और समझाने की कोशिश करते थे, ताकि मैं नकारात्मकता से बाहर निकलकर उदासी से दूर हो जाऊं, और जो घट चुका है उसे भुलाकर आगे के, अच्छे के बारे में सोचूं.

मैं खुशनसीब हूं कि मेरी सास ये कहने वाली नहीं है कि, “पहले की औरतें पंद्रह-पंद्रह बच्चे जन लेती थीं, ये आजकल की लड़कियां एक दो में ही मरी गिरी सी हो जाती हैं”. मैंने बहुत सी औरतों को आजकल की लड़कियों पर ये तंज कसते देखा है. अपने ज़माने से हमारे ज़माने को कम्पेयर करते देखा है, और मुझे उस वक़्त बहुत तकलीफ होती है.

हां हमारे शरीर वैसे नहीं हैं, क्योंकि अब हमें न उतना शुद्ध खाना मिलता है, हम 17 साल की उम्र में होस्टल चले जाते हैं. जहां की पतली दाल और अधपकी रोटियां खाकर हम पढ़ाई करते हैं. हमारी शादियां तेरह, सत्रह, या बीस में नहीं होती हैं. और सबसे बड़ी बात हम उन तकलीफों से क्यों गुजरें जिनसे आप गुज़र चुकी हैं. क्या आप अपने शरीर से खुश हैं. पंद्रह-पंद्रह बच्चे पैदा करके? क्या आप अपनी ज़िन्दगी सिर्फ उन बच्चों को पालने में लगाकर खुश हैं? क्या आप इस बात से खुश हैं कि जब आपके पहले बच्चे का बच्चा होने वाला था तब आप भी अपने बारहवें या तेरहवें बच्चे की मां बनने वाली थीं? या क्या आप इस बात से ख़ुश हैं आपने अपने शरीर में अपने लिए कुछ भी नहीं बचने दिया?

खैर, इन सवालों का कोई अंत नहीं, लेकिन मैं सिर्फ एक ही जवाब देना चाहती हूं कि हम एक या दो में ही ख़ुश हैं, क्योंकि देश की इकॉनमी के बारे में भी तो हमें सोचना है भाई… !!

परिवार के साथ ने मेरे क़दमों को डगमगाने नहीं दिया, और मिस्केरिज के बाद जब पहला पीरियड समय पर आया तो मैंने उन्हीं तीन घरेलू उपचारों को अपनाया जिनके बारे में मैंने ऊपर लिखा है, और जब ब्लीडिंग पूरी तरह नार्मल हुई तो मैंने अपनी खुशियों को एक और मौका देने का मन बना लिया. पीरियड ख़त्म होते ही मैंने सबसे पहला काम, फोलिक एसिड और जिंक की मेडिसिन लेना शुरू की ताकि वो मेरे कंसीव होने वाले बच्चे के सपोर्ट के लिए मेरे सिस्टम को पहले से तैयार रखें. और फिर जैसे ही मेरा अगला पीरियड्स मिस हुआ मैंने अपना बैडमिंटन खेलना बंद करके ख़ुश-खबरी का इंतज़ार किया, जो समय पर आई. लेकिन इस बार हमने बहुत ज्यादा उत्साहित होने की बजाय उसे सामान्य रूप में लिया, क्योंकि हम सभी भले ही सकारात्मक थे, लेकिन मन में एक डर बाकी था. वही वाला डर, दूध से जलने के बाद मठे को पीने में भी लगने वाला डर. इसलिए हम एक और महीना बीतने के बाद ही डॉक्टर के पास जाने का इंतज़ार करने लगे…

ये डगर बहुत है कठिन मगर, ना उदास हो मेरे हमसफ़र.

तो चलिए, अभी के लिए इतना ही, अगली क़िस्त में बताती हूं, कि आगे क्या हुआ… अब मैं कैसी हूं, दोबारा कंसीव करने के बाद मुझे किन-किन परेशानियों से जूझना पड़ा, क्या मां बनने का सुख यूं ही मिल जाता है हम लड़कियों को?


आपने क्या पहली दो किस्तें पढ़ीं

एक प्रेग्नेंट लड़की की डायरी: पार्ट-1

पहले प्यार की तरह पहली प्रेगनेंसी भी एक ही बार आती है

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

रानी पद्मावती के पति का पूरा नाम क्या था?

पद्मावती फिल्म के समर्थक हो या विरोधी, हिम्मत हो तभी ये क्विज़ खेलना.

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

आज भौकाल है आम आदमी (पार्टी) का. इसके बारे में व्हाट्सऐप से अलग कुछ पता है तो ही क्विज खेलना.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

गेम ऑफ थ्रोन्स लिखने वाले आर आर मार्टिन का जनम दिन है. मौका है, क्विज खेल लो.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.