Submit your post

Follow Us

धोनी को तो ले आए लेकिन इन कमियों के साथ कैसे जीतेंगे T20 वर्ल्ड कप?

विराट कोहली, रवि शास्त्री, रोहित शर्मा, एमएस धोनी. फुल टू फैन बेस वाली चौकड़ी. सोशल मीडिया पर किसी भी सुपरहिट स्क्रिप्ट के लिए यही तो चाहिए. ये चेहरे आने वाले T20 वर्ल्डकप में भारत की सुपरहिट फिल्म की स्क्रिप्ट के नायक होंगे या नहीं ये वक्त बताएगा, लेकिन BCCI ने फिलहाल के लिए टेबल पर सबकुछ एकसाथ सर्व कर दिया है.

17 अक्टूबर 2021 से UAE और ओमान में T20 विश्वकप का आगाज़ होने वाला है. पांच साल बाद हो रहे इस विश्वकप से भारत को बहुत ज़्यादा उम्मीदें हैं. क्योंकि 2011 के बाद भारत विश्व चैम्पियन बनने के कई मौके गंवा चुका है. ऐसे में BCCI ने इस बार कुछ अलग प्लान करते हुए एक मास्टरस्ट्रोक चला है. रवि शास्त्री और उनकी टीम के साथ इस बार ड्रेसिंग रूम में माही का दिमाग भी होगा.

महेंद्र सिंह धोनी को टीम का मेंटॉर बनाया गया है. लेकिन क्या सिर्फ धोनी के दम पर हम वर्ल्ड कप जीत सकते हैं? हमें तो नहीं लगता. और इस आर्टिकल में हम आपके साथ यही शेयर करेंगे कि हमें ऐसा क्यों नहीं लगता. लेकिन उससे पहले एक बार फिर से देख लेते हैं वो 15 नाम जो इस वर्ल्ड कप में हमारी उम्मीद बनेंगे.

विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप-कप्तान), केएल राहुल, जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, सूर्यकुमार यादव, ईशान किशन, हार्दिक पांड्या, ऋषभ पंत, रविंद्र जडेजा, राहुल चाहर, वरूण चक्रवर्ती, मोहम्मद शमी, अक्षर पटेल, आर अश्विन

इनके साथ रिजर्व प्लेयर के रूप में श्रेयस अय्यर, दीपक चाहर और शार्दुल ठाकुर भी होंगे. और जैसा कि आप समझ सकते हैं कि टीम आने के बाद रवि अश्विन के बारे में सबसे ज्यादा चर्चा हुई. लेकिन जल्दी ही महेंद्र सिंह धोनी पर होने वाली चर्चा ने बाकी सभी चर्चाओं को पछाड़ दिया.

बतौर मेंटॉर धोनी के आने से लोग इतने उत्साहित हुए कि जैसे हमने वर्ल्ड कप ही जीत लिया हो. लेकिन क्या सच में ये इतना आसान है? ड्रेसिंग रूम में बढ़ा ये एक नाम हमें वर्ल्ड चैंपियन बना देगा? चलिए देख लेते हैं.

# पहला पेच

जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार. टीम इंडिया T20 विश्वकप में सिर्फ तीन पेसर्स के साथ जा रही है. साफ है चौथे पेसर का रोल हार्दिक पांड्या पर छोड़ा गया है. लेकिन ये छोड़ना ही बड़ी मुसीबत है. विश्वकप जैसे स्टेज पर कोई भी स्पेशलिस्ट रोल देख लेंगे वाले माइंडसेट के साथ नहीं चल सकता.

भले ही UAE में पिचों पर स्पिनर्स का बड़ा रोल हो लेकिन ये भी जानना ज़रूरी है कि भारत स्पिन फ्रेंडली मैदान पर कितने मैच खेलने वाला है. पिछले IPL में शारजाह के जिस मैदान पर स्पिनर्स ने खूब विकेट निकाले थे उस मैदान पर भारत का एक भी मुकाबला नहीं होना है. टीम इंडिया नॉक-आउट से पहले अपनी सभी मैच दुबई या अबू धाबी में खेलेगी.

ऐसे में अगर गलती से भी विकेट को बल्लेबाज़ों के ढंग से तैयार किया गया. तो फिर चार पेसर ढूंढना भारी पड़ जाएगा.

Deepak Chahar Team India
दीपक चाहर. फोटो: File Photo

ऐसा भी नहीं है कि हमारे पास पेस अटैक में बुमराह, भुवी, शमी के अलावा और कोई ऑप्शन नहीं था. हमारे पास दीपक चाहर हैं, जिन्होंने 19.30 की बेहतरीन एवरेज से 20 विकेट निकाले हैं. चाहर के अलावा दूसरा ऑप्शन शार्दुल ठाकुर भी हो सकते थे. जो कि कॉन्फिडेंस में तो हाई हैं हीं, साथ ही उन्होंने 22 T20I मैचों में 22.29 की औसत से 31 विकेट भी निकाले हैं.

इस साल की शुरुआत में ही इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की T20 सीरीज़ में भी उन्होंने सबसे ज़्यादा आठ विकेट निकाले और भारत को सीरीज़ जिताई. इसलिए सिर्फ तीन स्पेशलिस्ट पेसर्स वाला मामला थोड़ा डाउटफुल लग रहा है.

# पांच स्पिनर!

जिस थोक के भाव से स्पिनर्स भरे गए हैं, उससे तो यही लग रहा है कि UAE के नाम पर ही ये फैसला हुआ है. लेकिन क्या ये सही है? इस मसले पर जिस विमर्श की जरूरत थी, वो हुआ? क्या भारत पूरे टूर्नामेंट में पांच स्पिनर्स का इस्तेमाल कर पाएगा? और अगर कर भी पाया तो क्या ये सही सलेक्शन है.

टीम इंडिया ने रविचन्द्रन अश्विन, रविन्द्र जडेजा, राहुल चाहर, वरुण चक्रवर्ती और अक्षर पटेल को चुना है. लेकिन पिछले पांच सालों से जिस एक स्पिनर को लगातार आज़माया जा रहा था. जिस पर सालों का इन्वेस्टमेंट किया गया. वो एकाएक बड़े टूर्नामेंट से पहले वेस्ट हो गया. समझ तो आप गए ही होंगे कि हमारा ये दुख युज़वेन्द्र चहल से जुड़ा है.

Chahal India
युजवेन्द्र चहल. फोटो: File Photo

चहल ने भारत के लिए 2016 से अब तक कुल 49 मैचों में 63 विकेट चटकाए हैं. मौजूदा समय में चहल को राशिद खान के बाद दुनिया का दूसरा बेस्ट लेग स्पिनर माना जाता है. हां पिछले दो सालों में चहल के प्रदर्शन में गिरावट आई है. लेकिन क्या ये गिरावट इतना ज़्यादा है कि उनकी जगह पांच स्पिनर्स में भी नहीं बनी?

# Shikhar और Iyer?

मान लेते हैं कि UAE में सेलेक्टर्स का पांच स्पिनर्स वाला परसेप्शन सही हो जाएगा. लेकिन सिर्फ छह बल्लेबाज़ इतने बड़े टूर्नामेंट के लिए काफी हैं? विराट, रोहित, राहुल, ऋषभ, सूर्यकुमार और ईशान किशन. इन छह में पांच बल्लेबाज़ ऐसे हैं जिनका प्लेइंग इलेवन में खेलना फिक्स है. लेकिन अगर किसी का बल्ला नहीं चलता या किसी को इंजरी हो जाती है तो हमारे पास बैकअप के तौर पर सिर्फ एक बल्लेबाज़ है.

ऐसे में क्या हम 15 के इस दल में एक और अतिरिक्त बल्लेबाज़ नहीं रख सकते थे. पांच-पांच स्पिनर्स को रखने की जगह चार स्पिनर और एक अतिरिक्त बल्लेबाज़ की थ्योरी के साथ जाया जा सकता था.

अगर ऐसा नहीं भी करते तो क्या हम ईशान किशन की जगह शिखर धवन जैसे बैट्समैन को जगह नहीं दे सकते थे. जिनका पिछले दो IPL सीज़न में प्रदर्शन लाजवाब है. 2020 के सीज़न 618 रन और 2021 के आधे सीज़न में ही 380 रन. उनकी फॉर्म दिखाते हैं. IPL के अलावा वह ICC टूर्नामेंट्स के भी मास्टर आदमी हैं, और T20 क्रिकेट में उनका प्रदर्शन बेमिसाल रहा है. फिर भी हमने धवन को बाहर रखा है.

Shikhar Dhawan T2 Squad
शिखर धवन. फोटो: File Photo

हो सकता है ये एक कारण हो कि हमारे पास तीन ओपनिंग विकल्प हैं तो धवन का क्या करेंगे. लेकिन एक बैकअप प्लेयर के रूप में उन्हें रखा जा सकता था. क्योंकि अगर मिडिल ऑर्डर कमज़ोर हुआ तो विराट और राहुल को नीचे भी खेलना पड़ सकता है.

धवन ही नहीं हमारे पास श्रेयस अय्यर भी विकल्प थे. जिन्हें पिछले चार सालों से विराट कोहली और रवि शास्त्री ने टीम का नंबर चार प्रोजेक्ट किया है. अय्यर ने पिछले चार सालों में भारत के लिए 29 मैच खेले हैं और 550 रन बनाए हैं. लेकिन क्या सिर्फ एक चोट की वजह से उस खिलाड़ी का करियर खत्म हो गया?

कुछ लोग कहेंगे कि ईशान किशन बतौर विकेटकीपर ज़िम्मेदारी निभा सकते हैं. लेकिन विकेटकीपर के रूप में हमारे पास पंत के बाद केएल राहुल भी विकल्प हैं. ऐसे में एक स्पेशलिस्ट अनुभवी बल्लेबाज़ को टीम में शामिल किया जा सकता था.

# Hardik नहीं तो कौन?

ये वाला पॉइंट घूम फिरकर स्पिनर्स के इर्द-गिर्द ही है. भारत छह बल्लेबाज़, पांच स्पिनर्स और तीन पेसर्स के साथ गया है. लेकिन फास्ट बोलिंग ऑल-राउंडर सिर्फ एक है. जिस दिन हमारे किसी एक गेंदबाज़ का दिन नहीं हुआ, उस दिन हार्दिक पंड्या का काम बढ़ जाएगा. क्योंकि हम तीन पेसर, एक स्पिनर, एक फास्ट बोलिंग और एक स्पिन ऑल-राउंडर के साथ उतर सकते हैं. लेकिन अगर पंड्या आउट ऑफ फॉर्म हुए या वो पूरे चार ओवर नहीं फेंक पाए तो हमारे पास कोई भी फास्ट बोलिंग ऑल-राउंडर विकल्प नहीं है.

Hardik Pandya Team India T20 Squad
हार्दिक पांड्या. फोटो: File Photo

क्योंकि हमने अपने 15 में हार्दिक पंड्या के बैकअप के तौर पर किसी को शामिल ही नहीं किया है. T20 विश्वकप के लिए भारतीय क्रिकेट टीम एक ऐसे व्यंजन की तरह नज़र आ रही है. जो साज-सज्जा में कमाल है लेकिन चखने पर उसका स्वाद कैसा निकलेगा, ये UAE की डाइनिंग टेबल पर ही पता चलेगा.

भले ही टीम के पास धोनी जैसा लेजेंड हो, विराट कोहली जैसा अग्रेसिव कप्तान हो, रवि शास्त्री जैसा कोच हो लेकिन मैदान पर काम पूरे 11 खिलाड़ियों को मिलकर करना होता है. और जैसी हमारी टीम है, हमें बहुत ज्यादा उम्मीद तो नहीं ही दिख रही.


इंग्लैंड के फ़ैन्स ‘बार्मी आर्मी’ को विराट का ये सेलिब्रेशन क्यों चुभ रहा है? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.