Submit your post

Follow Us

भारत में 'डिजिटल डिवाइड' एक सच्चाई, 3 करोड़ स्कूली बच्चों के पास डिजिटल उपकरण नहीं

ऑनलाइन शिक्षा. कोरोना वायरस काल के सबसे चर्चित शब्दों में से एक. आज भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में शिक्षा व्यवस्था ऑनलाइन हो चुकी है. चाहे स्कूल-कॉलेज हों या वोकेशनल शिक्षा हो, सब कुछ अब ऑनलाइन है. लेकिन भारत जैसे विकासशील देशों में ये व्यवस्था पूरी तरह और ठीक तरह से लागू नहीं है. यहां “डिजिटल डिवाइड” एक सच्चाई है. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष यानी UNICEF ने मार्च, 2021 में जारी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि भारत में हर 4 में से 1 ही बच्चे के पास इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध है. वहीं, सोमवार 2 अगस्त को केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी माना कि देश के 24 राज्यों में लगभग 3 करोड़ स्कूली बच्चों के पास डिजिटल डिवाइस (Digital Device) नहीं हैं.

दरअसल, लोकसभा में कई सांसदों ने डिजिटल डिवाइड के मुद्दे पर सरकार से सवाल पूछे थे. उन पर जवाब देते हुए धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि बिहार में सबसे ज़्यादा 1.43 करोड़ ऐसे बच्चे हैं, जिनके पास किसी भी तरह का डिजिटल डिवाइस नहीं है. यानी देश के ऐसे आधे बच्चे अकेले बिहार में हैं, जिनके पास ऑनलाइन एजुकेशन के लिए कोई डिजिटल डिवाइस नहीं है.

इस मामले में बिहार के अलावा जम्मू- कश्मीर और मध्य प्रदेश का हाल भी बहुत ख़राब है. इन राज्यों के लगभग 70 प्रतिशत स्कूली छात्र बिना डिजिटल उपकरणों के हैं. पंजाब में डिजिटल उपकरणों की कमी वाले बच्चों का प्रतिशत 42% है, जबकि छत्तीसगढ़ में 28% छात्रों के पास ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त करने के लिए ऐसे उपकरण नहीं हैं. असम और कर्नाटक में 31 लाख, और झारखंड में 32 लाख बच्चों के पास कोई भी डिजिटल उपकरण नहीं हैं. शिक्षा मंत्रालय के पास अरुणाचल प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, मणिपुर और उत्तर प्रदेश के डेटा नहीं है. पश्चिम बंगाल में ऐसे बच्चों की संख्या कितनी है, इसके लिए सर्वेक्षण किया जा रहा है.

यूनिसेफ ने भी किए थे ऐसे ही दावे

वहीं, यूनिसेफ की मार्च 2021 में आई रिपोर्ट की बात करें तो इसमें कहा गया था कि भारत में ऑनलाइन शिक्षा सभी बच्चों के लिए विकल्प नहीं है. क्योंकि यहां चार में से केवल एक बच्चे के पास ही डिजिटल डिवाइस और इंटरनेट कनेक्टिविटी है. यूनिसेफ की इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया था कि COVID-19 महामारी से पहले भारत में केवल एक चौथाई घरों (24 प्रतिशत) के पास इंटरनेट की सुविधा थी. रिपोर्ट में ग्रामीण-शहरी व्यवस्था में अंतर और लिंग विभाजन को ऑनलाइन शिक्षा से जुड़ी सबसे बड़ी चुनौतियों के रूप में हाइलाइट किया गया था. रिपोर्ट में कहा गया,

“स्कूल बंद होने से बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य पर बहुत ख़राब असर पड़ा है. समाज के वंचित तबकों और पिछड़े इलाक़ों से आने वाले बच्चे का स्कूली शिक्षा में लौटना बहुत मुश्किल होगा. इससे बाल विवाह या बाल श्रम का ख़तरा भी बढ़ गया है.”

Un E Government Report 2020
संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी ई-गवर्न्मेंट रिपोर्ट 2020 का स्क्रीनशॉट

भारत में टेलीकम्यूनिकेशन इन्फ़्रास्ट्रक्चर की बात करें तो संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी आंकड़े काफ़ी निराशाजनक हैं. यूएन द्वारा जारी ई-गवर्नमेंट रिपोर्ट 2020 के मुताबिक़, टेलीकम्यूनिकेशन इन्फ़्रास्ट्रक्चर इंडेक्स में भारत की स्थिति औसत से भी नीचेहै. इस इंडेक्स में हम 0.2 अंक पीछे हैं.

अब विशेषज्ञों की भी बात कर लेते हैं. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व अध्यक्ष और राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का मसौदा तैयार करने वाली समिति के अध्यक्ष डॉ. के कस्तूरीरंगन ने कुछ ही दिनों पहले स्वीकार किया था कि भारतीय स्कूलों में डिजिटल डिवाइड मौजूद है. कस्तूरीरंगन ने कहा था, “यहां ऑनलाइन सीखने की शुरुआत हुई है. निश्चित रूप से, एक डिजिटल डिवाइड है. चाहे वो इंटरनेट कनेक्टिविटी हो, इंटरनेट-सक्षम डिवाइस हो या पढ़ने के लिए शांत वातावरण. इन सभी बातों को भारतीय शिक्षा प्रणाली में वो महत्व नहीं दिया जाता जितना देने की ज़रूरत है.”


वीडियो-पड़ताल: क्या सरकार ने लॉकडाउन के दौरान देशभर के स्कूल खोलने की इजाज़त दे दी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.