Submit your post

Follow Us

डेनमार्क सरकार ने लाखों जानवरों को मारने का आदेश क्यों दिया

नेवले से मिलता-जुलता एक जानवर होता है. अंग्रेज़ी में कहते हैं ‘मिंक’. डेनमार्क की सरकार ने 1.5 करोड़ से ज़्यादा मिंक मारने का फैसला किया है. वजह है कोरोना वायरस.

हम साल की शुरुआत से सुन रहे हैं कि कोरोना वायरस एक ज़ूनोटिक वायरस है. यानी ये जानवरों से इंसानों में आया है. किस जानवर से आया, इस बात पर अब तक एक मत नहीं है. सबसे पॉपुलर थ्योरी के मुताबिक, कोरोना वायरस चमगादड़ों से आया. अब हो ये रहा है कि कोरोना वायरस मनुष्यों से दूसरे जानवरों में भी फैल रहा है. फिर उन जानवरों से ये मनुष्यों में दोबारा लौट रहा है. अपना हुलिया बदलने के बाद.

बहुत सारे जानवरों की खाल कपड़ों के लिए निकाली जाती है. (AP)
बहुत सारे जानवरों की खाल कपड़ों के लिए निकाली जाती है. (AP)

डेनमार्क ने ये फैसला तब लिया, जब सैकड़ों लोगों में कोरोना वायरस का एक नया स्ट्रेन मिला. यही स्ट्रेन डेनमार्क के कई मिंक में भी मिला है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, ये स्ट्रेन वायरस का म्यूटेशन होने के बाद बना है. स्ट्रेन और म्यूटेशन, इन दोनों शब्दों को समझ लीजिए.

बेसिक्स समझिए- म्यूटेशन और स्ट्रेन

म्यूटेशन यानी वायरस के DNA/RNA में होने वाले बदलाव. किसी जीव की बनावट उसका DNA/RNA ही तय करते हैं. मौजूदा कोरोना वायरस का आधार RNA है. जब वायरस फैलता है, तो इसके RNA में बदलाव आते हैं. इसे ही म्यूटेशन कहते हैं.

RNA में बदलाव आने पर उस वायरस की रूप भी बदल सकता है. अगर म्यूटेशन के बाद वायरस में बदलाव आता है, तो उसे वायरस का नया स्ट्रेन कहा जाता है. वायरस की खास जेनेटिक पहचान को स्ट्रेन कहते हैं.

सभी वायरस की तरह कोरोना वायरस में भी म्यूटेशन होना नॉर्मल है. ज़्यादातर म्यूटेशन डेंजरस नहीं होते. लेकिन वायरस में बड़े बदलाव होने पर वो खतरनाक भी हो सकते हैं. डेनमार्क मिंक में हुए कोरोना वायरस म्यूटेशन को लेकर टेंशन में है.

अमेरिका में मौजूद मिंक फार्म. अमेरिका में भी ये संक्रमण देखा गया है. (विकिमीडिया)
अमेरिका में मौजूद मिंक फार्म. अमेरिका में भी ये संक्रमण देखा गया है. (विकिमीडिया)

धंधा बना फंदा

डेनमार्क में मिंक एक बहुत बड़ी इंडस्ट्री का हिस्सा है. मिंक का शरीर मुलायम बालों से भरा होता है. अंग्रेज़ी में कहते हैं फर. मिंक फर से कई तरह के कपड़े बनते हैं, इसलिए डेनमार्क में मिंक फार्म होते हैं.

दुनिया में कई जगह मिंक फार्म हैं. हर फार्म में हज़ारों मिंक पिंजरे के अंदर रखे जाते हैं. यहां मिंक फर इकट्ठी होती है. इस मिंक फर का व्यापार होता है. एनिमल राइट्स ग्रुप लंबे अरसे से इसका विरोध कर रहे हैं.

आपने मिंक ब्लैंकेट का नाम सुना होगा. मुलायम से लगने वाले कंबल. ये मिंक ब्लैंकेट इन्हीं मिंक फर से तैयार होते हैं. मिंक फर से कई टाइप के कोट भी बनते हैं. इंदिरा गांधी की एक तस्वीर है, जिसमें उन्होंने मिंक फर कोट पहना है.

इंदिरा गांधी के साथ है उनके पापा नेहरू, अमरीका के राष्ट्रपति कैनेडी और उनकी बीवी. (गैटी)
इंदिरा गांधी के साथ हैं उनके पापा नेहरू, अमेरिका के राष्ट्रपति कैनेडी और उनकी बीवी. (गैटी)

डेनमार्क दुनिया में मिंक फर का सबसे बड़ा उत्पादक है. डेनमार्क में हज़ारों मिंक फार्म्स हैं. यहां करीब 1.5 से 1.7 करोड़ मिंक पाले जा रहे हैं. ये डेनमार्क में रहने वाले मनुष्यों की आबादी से तीन गुना ज़्यादा है. डेनमार्क सरकार इन सभी मिंक को खत्म करने जा रही है.

डेनमार्क के फार्म्स में मिंक बहुत ज़्यादा संख्या में है. ऐसे फार्म में संक्रमण के चांस बढ़ जाते हैं. यहां काम करने वाले किसी इंसान से कोरोना वायरस मिंक में पहुंचा होगा. यहां से मिंक आबादी के बीच फैला. और इन मिंक से ये किसी और इंसान में आया. इस बीच कोरोना वायरस कई म्यूटेशन से गुज़रा होगा और वायरस के कई स्ट्रेन पैदा हुए.

डर का माहौल है

मिंक में वायरस के म्यूटेशन होने के क्या खतरे हैं? पहला डर ये है कि म्यूटेशन से कोरोना वायरस ज़्यादा मारक और संक्रामक हो सकता है.

दूसरा डर वैक्सीन को लेकर है. दुनियाभर में कोरोना वायरस वैक्सीन के ट्रायल्स चल रहे हैं. ट्रायल के बाद वैक्सीन लोगों को दी जाएगी. लेकिन ये वैक्सीन कोरोना वायरस के शुरुआती स्ट्रेन को ध्यान में रखकर बनाई जा रही है. अगर ये वैक्सीन म्यूटेशन वाले वायरस पर काम नहीं करेगी, तो भारी दिक्कत हो जाएगी.

फार्म के अंदर मिंक बहुत पास पास होती हैं. (AP)
फार्म के अंदर मिंक बहुत पास पास होती हैं. (AP)

डेनमार्क के वैज्ञानिक मिंक से संबंधित स्ट्रेन को लेकर ज़्यादा चिंतित हैं. वायरस के इस स्ट्रेन पर शरीर में बनने वाली एंटीबॉडीज़ कम असर दिखा रही हैं. अब तक इस स्ट्रेन से 12 लोग संक्रमित हो चुके हैं. इस स्ट्रेन के लिए वैक्सीन कितनी असरदार साबित होगी, ये कहना मुश्किल है.

इन्हीं सब आशंकाओं के चलते डेनमार्क ने मिंक की आबादी को खत्म करने का फैसला किया. डेनमार्क इन म्यूटेशन वाली थ्योरी को मानकर ऐहतियात बरत रहा है. इसे लेकर WHO की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामिनाथन ने कहा –

“हमें रुककर देखना चाहिए कि इससे क्या पहलू निकलकर आते हैं? ये वायरस म्यूटेशन वैक्सीन के प्रभाव पर असर डालेगा या नहीं? फिलहाल मुझे नहीं लगता कि हम इसे लेकर किसी नतीजे पर पहुंच सकते हैं”

मिंक को मारने के लिए कार्बन मोनोऑक्साइड का इस्तेमाल किया जाएगा. और फिर उन्हें जलाया या दफ्न कर दिया जाएगा. कार्बन मोनोऑक्साइड एक ज़हरीली गैस होती है. बंद कमरे अंगीठी जलाने से हर साल कई लोगों की मौत होती है. इसका मुख्य कारण कार्बन मोनोऑक्साइड गैस ही होती है. इसी गैस से लाखों मिंक्स को मारा जा रहा है.

मारने केे बाद ट्रक में भरी हुई मिंक. (Getty)
मारने के बाद ट्रक में भरी हुई मिंक. (Getty)

हमेशा की झिकझिक

एक्सपर्ट्स का मानना है कि मिंक से इंसान में संक्रमण शुरुआती स्तर पर हुआ होगा. बाद में ये मुख्यत: लोगों से ही लोगों के बीच फैला होगा. अब इसी स्ट्रेन का ह्यूमन टू ह्यूमन ट्रांसमिशन रोकना ज़्यादा ज़रूरी है.

यूके समेत कई देशों ने डेनमार्क आने-जाने पर रोक लगा दी है. जब तक इस स्ट्रेन पर वैक्सीन का प्रभाव समझ नहीं आएगा, तब तक इसे लेकर डर बना रहेगा.

मिंक के अलावा दूसरे जानवरों में भी कोरोना वायरस का संक्रमण हो सकता है. कुत्ते, बिल्ली, बाघ, बंदर आदि. इस खबर के बाद जानवरों में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर चिंता बढ़ी है. जानवर इस वायरस के लिए एक रिज़र्वॉयर का काम कर सकते हैं. ऐसे रिज़र्वॉयर, जहां लंबे समय तक वायरस का म्यूटेशन होगा. और हो सकता है भविष्य में किसी दूसरे रूप में उभर आए.


साइंसकारी: इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन बनाने के लिए NASA ने क्या किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.