Submit your post

Follow Us

दुनिया के और भी देश अपराधी को देते हैं मौत, तरीके जानकर रूह कांप जाएगी

31 जुलाई 2015. ये तारीख भारतीय न्याय व्यवस्था के इतिहास में हमेशा के लिए दर्ज है. इसी दिन 1993 में मुंबई में बम धमाकों के लिए दोषी पाए गए याकूब मेमन को फांसी दी गई थी. याकूब को फांसी पर लटकाए जाने के बाद ही इस बात की बहस शुरू हो गई थी कि भारत में फांसी की सजा जारी रहनी चाहिए या फिर उसे खत्म कर देना चाहिए.

yakub

दो साल के दौरान इस बात पर लगातार बहस होती रही. इसी बीच सितंबर 2017 में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई. इसमें कहा गया कि फांसी एक दर्दनाक तरीका है. फांसी पर लटकाने के 40 मिनट के बाद फांसी पाने वाले को मरा हुआ घोषित किया जाता है. इसलिए इसे बदला जाए. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछ लिया कि वो पता करे कि दुनिया में मौत की सजा देने की क्या व्यवस्था है. केंद्र सरकार ने तो कोर्ट को बताया कि फांसी देना ही सबसे बेहतर विकल्प है. कोर्ट को ये भी बताया गया कि भारत समेत 33 देशों में मौत की सजा देने के लिए फांसी का इस्तेमाल होता है. लेकिन हम आपको बता रहे हैं कि दुनिया के और देशों में मौत की सजा कैसे दी जाती है.

#गोली मारकर मौत

अमेरिका में गोली मारना सबसे प्रचलित तरीका है. (फोटो: libertyhangout.org)
अमेरिका में गोली मारना सबसे प्रचलित तरीका है. (फोटो: libertyhangout.org)

दुनिया में जितने भी देश मौत की सजा देते हैं, उनमें सबसे ज्यादा प्रचलित तरीका गोली मारना है. दुनिया के कुल 73 देश मौत की सजा देने के लिए गोली मार देते हैं. इनमें से 43 देश ऐसे हैं, जो मौत की सजा देने के लिए गोली ही मारते हैं. वहीं 30 देश और भी तरीकों को अपनाते हैं. गोली मारने के लिए अपराधी को एक जगह पर खड़ा किया जाता है. उसकी आंख पर पट्टी बांध दी जाती है. 12 हथियारबंद सिपाही उसके सीने पर एक-एक गोली मारते हैं. अगत तब भी उसकी मौत नहीं होती है, तो एक गोली उसके सिर में मारी जाती है. ऐसा करने वाले देशों में इंडोनेशिया, चीन, उत्तरी कोरिया, सउदी अरब, सोमालिया, ताइवान, यमन, अमेरिका, टोगो, तुर्कमेनिस्तान, थाईलैंड, बहरीन, चिली, इंडोनेशिया, घाना और अर्मिनिया जैसे देश हैं.

#पत्थर मारकर हत्या

पत्थर मारकर सजा-ए-मौत देना सऊदी अरब से प्रचलन में आया है.
पत्थर मारकर सजा-ए-मौत देना सऊदी अरब से प्रचलन में आया है.

दुनिया में छह देश ऐसे हैं, जहां मौत की सजा पाए अपराधी को पत्थरों से मारा जाता है. अपराधी को एक जगह पर खड़ करके पत्थर मारे जाते हैं. और ये पत्थर तब तक मारे जाते हैं, जब तक कि उसकी मौत न हो जाए. सउदी अरब, अफगानिस्तान और सूडान में पत्थर मारकर अपराधी को मारना प्रचलित है.

#जहरीला इंजेक्शन लगाकर

जहरीला इंजेक्शन लगाकर अपराधियों को मारने में अमेरिका पहले नंबर पर है.

अपराधी को जहरीला इंजेक्शन लगाकर मारना भी कुछ देशों में मौत की सजा देने के काम आता है. दुनिया में कुल पांच देश ऐसे हैं, जहां अपराधी को जहरीला इंजेक्शन दिया जाता है. इंजेक्शन के जरिए मौत की सजा देने वालों में अमेरिका पहले नंबर पर है. वहीं चीन, फिलीपींस और वियतनाम ने भी 2013 से इसका इस्तेमाल शुरू कर दिया है. इस जहरीले इंजेक्शन में सोडियम पेंटोनाल, पैनकुरोनियम ब्रोमाइड और पोटैशियम क्लोराइड का इस्तेमाल किया जाता है. इंजेक्शन देने के लिए अपराधी को स्ट्रेचर पर लिटाकर बांध दिया जाता है. कई बार ऐसा भी होता है कि इंजेक्शन लगने के बाद भी अपराधी की मौत नहीं होती है. इसकी वजह से जो जिंदा रह जाता है, जीवन भर उसे खासी दिक्कतें होती हैं और उसे हमेशा दर्द रहता है.

#सिर काटकर मार डालना

behaded
सिर काटने का तरीका सऊदी अरब में प्रचलित है. (फोटो : almasdarnews.com)

दुनिया में कुछ देश ऐसे भी हैं, जो अपराधियों को मौत की सजा देने के लिए उनका सिर काट देते हैं. ऐसे देशों की संख्या सिर्फ तीन है. सिर काटने के लिए अपराधी को एक जगह पर घुटनों के बल बिठा दिया जाता है और फिर तलवार से उसका सिर धड़ से अलग कर दिया जाता है. ऐसे दिए जाने वाले मृत्युदंड में सउदी अरब पहले नंबर पर है.

#बिजली का झटका देना

electric1
अमेरिका अपराधियों को सजा देने के लिए बिजली के झटके देता है. (फोटो : medium.com)

अमेरिका एक ऐसा देश है, जो अपराधियों को मौत की सजा देने के लिए बिजली का झटका भी देता है. इसके लिए अपराधी को एक कुर्सी से बांध दिया जाता है. उसके सिर के बाल हटा दिए जाते हैं. उसे एक टोपी पहनाई जाती है, जिसके अंदर नमक के पानी में भीगा स्पंज होता है. इसके बाद उसमें तेज करंट उतारा जाता है, जिससे कुछ ही देर में मौत हो जाती है. 1997 में जब फ्लोरिडा में इसी तरह से एक अपराधी पेड्रो मेडिना को सजा दी जा रही थी, तो उसके सिर में आग लग गई थी. 1999 में भी ऐसा ही हादसा हुआ. इसके बाद इस तकनीक पर रोक लगा दी गई. बाद में 2013 में इसमें सुधार किया गया.

#गैस चैंबर

ये मृत्युदंड देने का सबसे आधुनिक तरीका है. (फोटो : city-sentinel.com)

अपराधी को गैस चैंबर में बंद कर उसे मारने का तरीका अमेरिका में प्रचलित है. अमेरिका में इसकी शुरुआत 1924 में हुई थी. पहली बार इस तरीके को अपराधी गी जॉन पर इस्तेमाल किया गया था. जॉन जब अपनी सेल में सो रहा था, तो उसमें साइनाइड गैस छोड़ दी गई. ये तरीका कारगर नहीं रहा, क्योंकि गैस बाहर आ गई. इसके बाद 1999 में गैस चैंबर बनाया गया. तब से अलग-अलग राज्यों में गैस चैंबर में अपराधी को बंद करके मौत की सजा दी जाने लगी.


ये भी पढ़ें:

देश के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार जजों को प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों करनी पड़ी?

इस भारतीय को अमेरिका में 23 फरवरी को ज़हरीला इंजेक्शन लगाया जाएगा

500 बच्चों की सेना बनाकर पूरा चिटगांव आज़ाद करवा लिया था इस आदमी ने

‘टाइगर’ जिंदा तो है, लेकिन डर गया है

क्या पूर्व चुनाव आयुक्त ने कहा कि भाजपा EVM हैक कर के गुजरात चुनाव जीती?

वीडियो में देखिए, जब राष्ट्रपति के काफिले के लिए जाम किया गया था हाईवे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.