Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

मेरी फिल्म से BJP का झंडा, मन की बात क्यों हटाया, समीर वाले डायरेक्टर ने पूछा

1.31 K
शेयर्स

जब फिल्मों में नरेंद्र मोदी या उनसे जुड़ी किसी चीज (यहां तक कि ‘मन की बात’ भी) का ज़िक्र आता है, तो सेंसर बोर्ड कैंची चला देता है. वही सेंसर बोर्ड पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर बनी एक पूरी की पूरी फिल्म ‘द ऐक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ को हरी झंडी दे देता है. क्या ये दोहरापन नहीं है? पक्षपात नहीं है?

ये 'समीर' से जुड़ी CBFC के आपत्तियों की लिस्ट है. एक सीन में एक रेंडम ऑटो पर लगे बीजेपी के झंडे को हटाने को कहा था बोर्ड ने. एक डायलॉग में 'मन की बात' था. बोर्ड ने उसे भी कट करने को कहा (फोटो: दक्षिण छारा, फेसबुक)
ये ‘समीर’ से जुड़ी CBFC के आपत्तियों की लिस्ट है. एक सीन में एक रेंडम ऑटो पर लगे बीजेपी के झंडे को हटाने को कहा था बोर्ड ने. एक डायलॉग में ‘मन की बात’ था. बोर्ड ने उसे भी कट करने को कहा (फोटो: दक्षिण छारा, फेसबुक)

ये सवाल किया है ‘समीर’ बनाने वाले फिल्मकार दक्षिण छारा ने. उन्होंने सेंसर बोर्ड के चीफ प्रसून जोशी के नाम खुला खत लिखा है. छारा ने लिखा है-

मैंने ‘समीर’ नाम की फिल्म बनाई थी. मुझे इस फिल्म के लिए सेंसर बोर्ड का सर्टिफिकेट देने से इनकार कर दिया गया था. फिल्म की रिलीज छह महीने खिसक गई थी. CBFC और FCAT में सेंसर सर्टिफिकेट के लिए मुझे लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी. तब जाकर सितंबर 2017 में मेरी फिल्म रिलीज हो सकी. मेरी फिल्म पॉलिटिकल ड्रामा थी. जब मैंने सेंसर सर्टिफिकेट के लिए अप्लाई किया, तो स्क्रीनिंग कमिटी ने कुछ बेतुके से कट लगाने को कहा.

फिल्म के एक शॉट में एक ऑटो गुजरता दिख रहा था. उसके ऊपर बीजेपी का झंडा था. मुझे वो हटाने को कहा गया. फिल्म के क्लाइमेक्स सीन में एक किरदार ने डायलॉग में ‘मन की बात’ कहा था. ये हिंदी में इस्तेमाल होने वाला बड़ा आम एक्सप्रेशन है. मुझे ये डायलॉग हटाने को कहा गया. जब मैंने इसे लेकर CBFC और FCAT के स्क्रीनिंग कमिटी मेंबर्स से सवाल किया. उन्होंने कहा कि ‘मन की बात’ प्रधानमंत्री मोदी के रेडियो शो का नाम है. सो मैं ये इस्तेमाल नहीं कर सकता. और भी कई चीजें हटाने को कहा गया मुझसे. मैं इस सिलसिले में उस समय के सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी से भी मिला. उन्होंने भी कहा कि मैं ‘मन की बात’ वाले डायलॉग को फिल्म में नहीं रख सकता.

हाल ही में मैंने यूट्यूब पर ‘ऐक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर देखा. CBFC ने इसे हरी झंडी दी है. इसमें कांग्रेस पार्टी का झंडा दिखता है. ये फिल्म संजय बारू की किताब ‘ऐक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ पर बनी है. फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का किरदार दिखाया गया है. उनके जैसे कपड़े, उनसे मिलती आवाज़, उनका पूरा व्यक्तित्व दिखाया गया है. संजय बारू मीडिया अडवाइज़र थे मनमोहन सिंह के. उनकी किताब असली घटनाओं पर आधारित है. तो फिर इस फिल्म को ‘काल्पनिक’ कहना ग़लत होगा.

मुझे इस फिल्म से परेशानी नहीं. बल्कि मैं तो चाहता हूं कि इस तरह की आलोचना करने वाली फिल्में बननी चाहिए. ये बुनियादी अधिकार, अभिव्यक्ति की आज़ादी जैसे संवैधानिक अधिकारों के मुताबिक होगा. मुझे दिक्कत है CBFC के पक्षपाती रवैये से. एक संस्थान के तौर पर अलग-अलग लोगों और फिल्मों के लिए इसके कायदे-कानून अलग-अलग नहीं हो सकते.

An Open letter to Mr. Prasoon Joshi

Dear Mr. Prasoon Joshi, I am Dakxinkumar Bajrange also known as Dakxin Chhara. I…

Posted by Dakxin Chhara on Monday, December 31, 2018

लल्लनटॉप फ़िल्म रिव्यू: समीर

दक्षिण ने कहा है, जवाब नहीं मिला तो लीगल नोटिस भेजेंगे
इस ओपन लेटर के साथ दक्षिण ने कुछ डॉक्यूमेंट्स भी लगाए हैं. ये उस ‘कारण बताओ नोटिस’ की कॉपी है, जो CBFC ने उन्हें दी थी. इसमें उन्हें फिल्म के सीन से बीजेपी का झंडा और ‘मन की बात’ वाला डायलॉग हटाने को कहा गया है. दक्षिण का सवाल है कि इसी सेंसर बोर्ड ने फिर ‘ऐक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ में सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह जैसे असल ज़िंदगी के लोगों का किरदार निभाने की इजाज़त कैसे दी? देश एक है, कानून एक है, संस्थान एक है, तो फिर दोनों फिल्मों के लिए इतने अलग-अलग नियम क्यों? दक्षिण ने लिखा है कि अगर CBFC उनकी चिट्ठी रिसीव करने के हफ़्ते भर के भीतर जवाब नहीं देता, तो वो उसके पक्षपाती रवैये और सिनेमेटोग्रफी लॉ के मनमाने इस्तेमाल को चुनौती देते हुए कानूनी नोटिस भेजेंगे.


उरी, एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर और ठाकरे की टाइमिंग पर सवाल उठाने से पहले ये देख लें

प्रोपैगैंडा फिल्म सामने दिखें तो ये काम करें राजनीतिक पार्टियां

अनुपम खेर के विरोधियों ने बेहद घटिया फेसबुक पोस्ट वायरल किए हैं

डॉ. मनमोहन सिंह के जीवन पर आधारित ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ की 5 दिलचस्प बातें

धोखाधड़ी के कौन से केस में फंसे दी एक्सीडेंटल पीएम के डायरेक्टर विजय गुट्टे

‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म जैसा प्रमोशन किसी का नहीं हुआ!

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Dakxin Chhara, director of film Sameer accuses Censor Board of discrimination and bias

कौन हो तुम

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल खेलते हैं.

कितनी 'प्यास' है, ये गुरु दत्त पर क्विज़ खेलकर बताओ

भारतीय सिनेमा के दिग्गज फिल्ममेकर्स में गिने जाते हैं गुरु दत्त.

इंडियन एयरफोर्स को कितना जानते हैं आप, चेक कीजिए

जो अपने आप को ज्यादा देशभक्त समझते हैं, वो तो जरूर ही खेलें.

इन्हीं सवालों के जवाब देकर बिनिता बनी थीं इस साल केबीसी की पहली करोड़पति

क्विज़ खेलकर चेक करिए आप कित्ते कमा पाते!

सच्चे क्रिकेट प्रेमी देखते ही ये क्विज़ खेलने लगें

पहले मैच में रिकॉर्ड बनाने वालों के बारे में बूझो तो जानें.