Submit your post

Follow Us

तबलीगी जैसा निकला महाराष्ट्र से पंजाब लौटे 3613 सिख श्रद्धालुओं का मामला, 93 को कोरोना

पंजाब. यहां कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. वजह महाराष्ट्र के नांदेड़ से लौटे कई श्रद्धालुओं में संक्रमण पाया गया है. नांदेड़ से लौटे कोरोना पॉजिटिव श्रद्धालुओं की संख्या 93 हो गई है. अकेले अमृतसर में 23 श्रद्धालु कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

इसके अलावा तरन तारन में 14, मोहाली में 15, लुधियाना में सात, कपूरथला में पांच, होशियारपुर में चार, फरीदकोट में तीन, गुरदासपुर में तीन, मुक्तसर में तीन, पटियाला में तीन, बठिंडा में दो, जालंधर- मोगा और संगरूर में एक-एक श्रद्धालु कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. ये सभी हाल ही में नांदेड़ स्थित गुरुद्वारा तख्त सचखंड नगर हजूर साहिब से लौटे हैं. ये संख्या और बढ़ सकती है, क्योंकि कई टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार है.

ये मामला कुछ-कुछ उसी तरह का है, जैसा हमें दिल्ली के निजामुद्दीन में देखने को मिला था. यहां तबलीगी जमात का एक कार्यक्रम था. जिसमें शामिल होने के लिए हज़ारों लोग आए. तमाम यहां से गए, तमाम यहीं रह गए. इनमें से कई को कोरोना हुआ, जिनसे आगे भी फैला.

Punjab: Pilgrims from Sri Hazur Sahib, stranded in Maharashtra’s Nanded, returned to the state y’day. As of now, around 3613 such pilgrims have returned to the state. Visuals from Bathinda. DC Bathinda says, “2 pilgrims, who returned to Bathinda,have tested positive for #COVID19pic.twitter.com/vY7Knq4iiM

नांदेड़ में क्या हुआ?

लॉकडाउन की वजह से नांदेड़ में अलग-अलग राज्यों के लगभग 4000 लोग फंसे हुए थे. इनमें से ज्यादातर पंजाब से थे. इन लोगों को लाने के लिए पंजाब सरकार ने 26 अप्रैल को 80 बसें भेजी थीं. लेकिन इतने लोग लॉकडाउन के दौरान नांदेड़ में क्या कर रहे थे? जवाब है कि ये कि लोग ‘होला मोहल्ला’ त्योहार मनाने नांदेड़ गए थे. सिख समुदाय का त्योहार ‘होला मोहल्ला’. हर साल धूमधाम से मनाया जाता है. पंजाब के आनंदपुर साहिब और महाराष्ट्र के नांदेड़ में.

इस त्योहार के बारे में दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमिटी के प्रेसिडेंट मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया,

पहले होली मनाते थे, लेकिन गुरु गोविंद सिंह ने इसे ‘होला मोहल्ला’ नाम दिया, क्योंकि गुरु साहब की फौज इस दिन आपस में फ्रैंडली एक्सरसाइज करती थी, जिससे जंग के लिए तैयार रहा जा सके. इस दौरान खालसा पंथ वाले अपने करतब दिखाते हैं. होली, जो सिर्फ रंगों का ट्रेडिशन था, उसे उन्होंने बदल दिया. गुरु गोविंद सिंह नांदेड़ में बहुत समय तक रहे हैं, इसलिए यहां बड़े स्तर पर ‘होला मोहल्ला’ मनाया जाता है. ये कार्यक्रम तीन दिन तक चलता है.

हर साल की तरह इस साल भी लोग ‘होला मोहल्ला’ के लिए नांदेड़ पहुंचे थे. इस बारे में नांदेड़ गुरुद्वारा बोर्ड के सदस्य गुरमीत सिंह महाजन ने बताया,

10 मार्च को कार्यक्रम हुआ. करीब 15000 लोग आए थे. कार्यक्रम खत्म होने के बाद हजारों लोग चले गए. ‘होला मोहल्ला’ के अलावा यहां गुरुद्वारे में लोग आते रहते हैं. 22 मार्च को ‘जनता कर्फ्यू’ और फिर 25 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन लगने से गुरुद्वारे में लगभग 4000 लोग फंस गए. कोरोना को देखते हुए कलेक्टर के आदेश पर यहां रुके लोगों का टेस्ट हुआ था. हर दूसरे दिन स्क्रीनिंग होती थी. किसी में किसी तरह के लक्षण नहीं दिखे. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाता था. लंगर में भी लोगों को चार-चार फुट की दूरी पर बैठाया जाता था.

वापसी के लिए कोशिश होती रही

उन्होंने बताया कि इस दौरान लोगों को उनके घर वापस भेजने के लिए परमिशन लेने की कवायद होती रही. पंजाब सरकार ने महाराष्ट्र सरकार से बात की. केंद्र सरकार के परमिशन की जरूरत थी, इसलिए केंद्र से बात की गई. अकाली दल की नेता और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने भी इस मामले में अमित शाह से बात की. परमिशन मिलने के बाद 26 अप्रैल को लोगों को लाने के लिए पंजाब सरकार ने बसें भेजी.

Coronavirus Lockdown: Amritsar
नांदेड़ से लोगों को लाने के लिए पंजाब सरकार की ओर से 80 बसें भेजी गई थीं. फोटो-पीटीआई

लगभग 3700 लोगों को वापस लाने के लिए पंजाब सरकार ने 80 बसें नांदेड़ भेजीं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बसों में बैठने से पहले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई थी. इनमें किसी तरह के लक्षण नहीं दिखे. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए एक बस में केवल 35 यात्री बिठाए गए. हर तरह की सावधानी बरती गई.

नांदेड़ गुरुद्वारा बोर्ड के सदस्य गुरमीत सिंह ने बताया कि 26 अप्रैल से पहले कुछ लोग प्राइवेट गाड़ियों से निकल गए थे. उन्होंने बताया,

इस दौरान बैसाखी का पर्व भी आया. बैसाखी खत्म होने के बाद 15 अप्रैल से कुछ लोग बिना मैनेजमेंट को बताए प्राइवेट गाड़ियों से निकल गए. किसी से परमिशन नहीं ली. इन लोगों को इंदौर में रोका गया था. तीन-चार दिन ये लोग वहां फंसे रहे. 

इस बारे में दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमिटी के प्रेसिडेंट मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी बताया कि 40-50 लोग अपनी गाड़ियों से निकल गए थे. इंदौर में जब उन्हें रोका गया, तो उन्होंने फोन किया था और इस बारे में बताया था. पंजाब पहुंचने के बाद इनमें से कई लोग पॉजिटिव पाए गए हैं.

‘जाने से पहले इनकी स्क्रीनिंग की गई’

नांदेड़ के स्थानीय पत्रकार रविंदर मोदी का कहना है कि लगभग सवा महीना लोग यहां रहे, लेकिन उनमें कोरोना के लक्षण नहीं दिखे. भले ही पूरे महाराष्ट्र में केस ज्यादा हों, लेकिन नांदेड़ में सिर्फ दो केस सामने आए थे. इन श्रद्धालुओं का टेस्ट भी किया गया था. जाने से पहले इनकी स्क्रीनिंग की गई. पंजाब पहुंचने के बाद लोगों का पॉजिटिव आना चिंता का विषय है.

क्यों उठ रहे हैं सवाल?

जिस तरह से लोगों को नांदेड़ से लाया गया, उसे लेकर सवाल उठ रहे हैं. सवाल ये भी हैं कि इतने लोगों को लाने से पहले उनका कोरोना का टेस्ट क्यों नहीं किया गया? क्यों सिर्फ स्क्रीनिंग करके भेज दिया गया. कई लोग अपनी गाड़ियों से आए. कई जगहों पर रुके और अब कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. क्वारंटीन सेंटर में रखने की जगह सीधे अपने घर चले गए. अब पंजाब में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार ने नांदेड़ से आने वाले हर शख्स का कोरोना टेस्ट कराने का फैसला किया है. इसके अलावा बाहर से आने वाले लोगों को 21 दिन के लिए सरकारी क्वारंटीन में रहना होगा.

Video: लॉकडाउन में फंसे लोगों के लिए घर लौटने का रास्ता मोदी सरकार ने तैयार कर दिया है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!