Submit your post

Follow Us

कोरोना की वैक्सीन बंदरों पर सफल हो गयी, इंसानों के लिए गुड न्यूज़ किस महीने आने वाली है?

जब कोरोना वायरस की वैक्सीन की जद्दोजहद चल रही है, उसी समय Oxford विश्वविद्यालय सफल वैक्सीन की ओर एक और कदम बढ़ा चुका है. और काम में कहीं रुकावट नहीं आई तो दुनिया के एक बड़े हिस्से में आगामी सितंबर तक वैक्सीन तैयार मिलेगी.

Oxford के जेनर संस्थान में डॉक्टरों और वैज्ञानिकों की एक टीम लगातार कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने में जुटी हुई है. वैक्सीन को तो तैयार भी किया जा चुका है. सबसे पहले बंदरों पर इसका परीक्षण किया गया. और आम बंदर नहीं. Rhesus बंदरों पर. इन बंदरों की ख़ास बात इनकी जीनोम संरचना है, जो इंसानों के बहुत क़रीब है. तो बंदरों को वैक्सीन दी गयी. इसके बाद उन्हें कोरोनावायरस के हैवी डोज़ दिए गए. लेकिन एक महीने हो गये. इनमें से एक भी बंदर कोरोनावायरस से अब तक संक्रमित नहीं हुआ. अब यहीं पर आता है सबसे ज़रूरी सवाल. कैसे बनी ये वैक्सीन?

आम तौर पर वैक्सीन में वायरस का ही कमज़ोर रूप डाला जाता है. ये इंसान के शरीर में जाता है, और उस रोग के खिलाफ़ रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करता है. Oxford में कुछ अलग किया गया. यहां पर एक मिलते-जुलते वायरस को लिया गया. उसके प्रभाव को ख़त्म कर दिया गया. उसके बाद इस प्रभावहीन वायरस में परिवर्तन किए गए. कोरोनावायरस के कुछ हिस्से इसमें मिलाए गए. कुल मिलाकर वायरस निष्प्रभावी. इसको वैक्सीन की तरह इंजेक्शन में डालकर लगाया गया. वैक्सीन का नाम ChAdOx1 nCoV-19. ये वैक्सीन शरीर में जाकर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएगी. बाद में अगर असल कोरोनावायरस शरीर में जगह बनाने की कोशिश करेगा, तो यही रोग प्रतिरोधक क्षमता वायरस को चलता कर देगी.

क्या ये नयी टेक्नीक है?

नहीं. लेकिन ये ऐसी टेक्नीक है, जिसके सफल होने के चांस सबसे ज़्यादा जताए जा रहे हैं. हम क्यों कह रहे हैं ऐसा? क्योंकि Oxford के इन्हीं वैज्ञानिकों की टीम ने इसके पहले इबोला, मर्स और मलेरिया की वैक्सीन पर काम किया है. इसी टेक्नीक से. और ह्यूमन ट्रायल में लेकर गए तो बहुत हद तक आशाजनक परिणाम देखने को मिले. और Oxford ही नहीं. अमेरिका की कम्पनियों मॉडर्ना और इनोवीयो ने भी इसी तरीक़े से वैक्सीन का निर्माण किया. और अब वो लोग भी क्लिनिकल ट्रायल के दौर में हैं. चीन की कम्पनी CanSino ने भी इसी तरीक़े से एक वैक्सीन बनायी है. और क्लिनिकल ट्रायल कर रहे हैं. लेकिन चीन में क्लिनिकल ट्रायल शुरू करने में परिणाम दुरुस्त नहीं हो सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि चीन में अब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा नीचे जा रहा है. और कड़वी सचाई है कि वैक्सीन कितना कारगर है, ये पता करने के लिए, कोरोना का और फैलना ज़रूरी है. वैज्ञानिक ख़ुद कहते हैं. जेनर इंस्टिट्यूट की डायरेक्टर प्रोफेसर एड्रीयन हिल कहती हैं,

“हम अकेले ऐसे लोग हैं, जो चाहते हैं कि अगले कुछ हफ़्ते तक इन्फ़ेक्शन बढ़ता रहे. वैक्सीन का प्रभाव देखने के लिए ये ज़रूरी है.”

यानी अगर इन्फ़ेक्शन स्लो होता है, तो बहुत हद तक मुमकिन है कि वैक्सीन के प्रभाव का सही अन्दाज़ा न लग पाए.

बारी आई इंसानों की

Oxford में बंदरों पर मिली सफलता के बाद वैज्ञानिकों की घोषणा की कि अब ह्यूमन ट्रायल होंगे. मतलब, इंसानों पर कोरोना वायरस के वैक्सीन की जांच होगी. इसके पहले चरण के लिए 1100 लोगों को चुना गया, जो अपनी इच्छा से इस ट्रायल में भाग लेने आए. 22 अप्रैल, 2020 को दो लोगों को वैक्सीन का पहला डोज़ देकर ट्रायल शुरू किया गया. और इस ख़बर के लिखे जाने तक 550 लोगों को असल वैक्सीन और 550 लोगों को प्लसीबो दिया गया. अब आप पूछेंगे प्लसीबो क्या होता है? प्लसीबो मतलब कुछ भी नहीं. मसलन समझिए कि आप कोई मामूली-सी बीमारी लेकर डॉक्टर के पास जायें, और डॉक्टर आपको चीनी की दो मीठी गोलियां दवा बताकर खिला दे. बस यही धोखे वाली दवा या टीके को प्लसीबो कहते हैं.

यूके के साथ-साथ ही दूसरे देशों से सम्पर्क भी किया जा रहा है. मिडिल ईस्ट के कुछ देश हैं. कुछ अफ़्रीकी देश हैं. वहां के लोगों पर भी जांच की जाएगी. ताकि अलग-अलग संरचना के लोगों पर वैक्सीन के प्रभाव को देखा जा सके. इसके लिए हर देश में कुछ इंसानों को वैक्सीन का डोज़ दिया जाएगा. फिर उनमें प्रभाव देखा जाएगा.

अब क्या होगा?

मई में Oxford के वैज्ञानिक क्लिनिकल ट्रायल का फ़ेज़ 2 और 3 एक साथ शुरू करेंगे. 5000 लोगों पर. इसके बाद ये लोग आम रहनसहन के चलते प्राकृतिक तरीक़े से कोरोना वायरस के सम्पर्क में आयेंगे. वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि जिन लोगों को प्लसीबो दिया गया है, उन्हें कोरोना वायरस का इन्फ़ेक्शन पकड़ लेगा. और जिन्हें असल टीका लगाया गया, वे संक्रमण से बचे रहेंगे. एड्रीयन हिल ने न्यूयॉर्क टाइम्स से बातचीत में कहा,

“अगर ऐसा हो जाता है, तो हम एक छोटी-सी पार्टी करेंगे, और दुनिया को बता देंगे कि हमने सफलता पा ली है.”

इस सब में भारत के लिए क्या है?

हमने पहले ही बता दिया है. फिर से बता रहे हैं. पुणे के Serum Institute of India (SII) ने कहा है कि अगले दो-तीन हफ़्ते में कोरोना की वैक्सीन बनाना शुरू कर देंगे. SII इस समय दुनिया के कुछ सबसे बड़े वैक्सीन निर्माताओं में से एक है. और Oxford में कोरोना की वैक्सीन पर काम कर रहे लोगों के लगातार संपर्क में है. SII के CEO आदर पूनावाला ने कहा है कि अगले महीने यानी मई से वैक्सीन का निर्माण शुरू करने के फ़ैसले में एक रिस्क है. उन्होंने बताया,

“SII वैक्सीन बनाना शुरू कर रहा है. ये सोचते हुए कि सितम्बर-अक्टूबर में Oxford ट्रायल के ख़ुश करने वाले नतीजे सामने आ जायेंगे. बिना नतीजों के वैक्सीन निर्माण शुरू करना एक रिस्क है. लेकिन हम ये तैयारी इसलिए कर रहे हैं ताकि अगर वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल में सफ़ल हो गयी, तो हमारे पास पहले से कुछ डोज़ मौजूद होंगे. और उस समय भी हम वैक्सीन का निर्माण कर रहे होंगे, जिससे बड़ी मात्रा में लोगों को वैक्सीन मिल सकेगी.”

यानी सबकुछ एक उम्मीद पर. इंसानों को बचाने की उम्मीद पर. एक वायरस पर जीत पाने की उम्मीद पर टिका हुआ है.


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.