Submit your post

Follow Us

कोरोना वायरसः क्या भारत में बाकी देशों की तुलना में इंफेक्शन कम तेज़ी से फैल रहा है?

कोई कह रहा है कि हमारे देश की तो हवा ही इतनी सेहतमंद है कि कोई बीमारी वगैरह ज्यादा पांव पसार नहीं पाएगी. कोई कह रहा कि साब, इस देश में कुंभ का मेला लगता है. लाखों लोग संगे-संगे डुबकी लगाते हैं. तब कुछ न होता तो ये कोरोना वायरस क्या करेगा!

आप कहेंगे कि ये तो कहने-सुनने भर की बात है. हम कहेंगे ठीक कह रहे हैं आप. लेकिन जब नंबर्स पर नज़र डालें तो भी यही बात आती है कि भारत में कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी COVID-19 के केसेज़ में इजाफा बाकी देशों की तुलना में कम है. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने 18 मार्च को 800 से ज्यादा सैंपल लिए थे. अच्छी बात ये रही कि इनमें से कोई भी पॉजिटिव नहीं मिला.

लेकिन जब बात सेहत की हो, तो ये एन्श्योर कर लेना अच्छा होता है कि कहीं हम किसी गफलत में तो नहीं जी रहे. इसके लिए बातों को टटोलते रहना (बिना छुए) ज़रूरी है. बड़ी-भारी आबादी होने के बाद भी भारत में COVID-19 के केस बाकी देशों से कम क्यों आ रहे हैं? क्या वाकई हमारे यहां Coronavirus का इंफेक्शन बाकी देशों से कम फैल रहा है? या कहीं ऐसा तो नहीं कि केस सामने नहीं आ पा रहे हैं? कहीं ऐसा तो नहीं कि कोरोना के टेस्ट ही कम हो रहे हैं?

इसी पर बात करते हैं.

एक मरीज़ से 1.7 लोगों को इंफेक्शन का रेशियो

चेन्नई के इंस्टीट्यूट ऑफ मैथमेटिकल साइंस की एक स्टडी रिपोर्ट आई है. इसमें बताया गया है कि भारत में COVID-19 के एक मरीज़ से ऑन ऐन ऐवरेज 1.7 लोगों को इंफेक्शन हो रहा है. ये अभी का रेट है.

यूं तो अगर एक मरीज से एक चंगे इंसान को भी इंफेक्शन हो रहा है, तो इससे बुरा कुछ नहीं. लेकिन इंफेक्शन के इस रेशियो की जब दूसरे देशों से तुलना करते हैं तो राहत की आधी सांस लेने को जी करता है.

चीन में COVID-19 के एक मरीज़ ने औसतन 2.14 मरीज़ों को बीमार किया. ईरान में 2.73 लोगों को और इटली में 2.34 को. टेबल से समझाएं? देखिए..

देशएक मरीज़ से औसतन कितनों को इंफेक्शनकुल केस
ईरान2.7316169
इटली2.3431506
चीन2.1481116
भारत1.7168

ऊपर के तीनों देशों में इंफेक्शन फैलने की दर दो से ज्यादा है. नतीजा काफी ज्यादा केस. भारत में ये दर कम है, नतीजा- कम केस.

इस रफ्तार से कहां पहुंचेंगे?

हमने अभी ऊपर कहा था कि राहत की ‘आधी’ सांस लेने को जी करता है. भारत में इंफेक्शन की बाकियों से कम रफ्तार देखकर कोरोना वायरस की गंभीरता को कम बिल्कुल भी नहीं आंका जा सकता है. भारत में इंफेक्शन बढ़ने की अगर इतनी ही रफ्तार रही तो भी चार से पांच दिन में 200 केस सामने आ सकते हैं. और अगर ये स्थिति ज़रा भी बिगड़ी तो ये संख्या 500 तक भी पहुंच सकती है.

अब बात देश में COVID-19 टेस्ट पर…

हैंक बेकेडम नाम के सज्जन World Health Organization यानी WHO के भारत में प्रतिनिधि हैं. इन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से बात की. कहा-

“हां, हम ये तो कह सकते हैं कि भारत ने कोरोना वायरस के खिलाफ बाकी देशों की तुलना में अब तक अच्छा किया है. लेकिन एक बात, जिस पर ध्यान देने की ज़रूरत है, वो है- टेस्ट की संख्या, जिसे बढ़ाने की ज़रूरत है.”

भारत में हर दस लाख लोगों पर 100 COVID-19 टेस्ट भी नहीं हो रहे हैं. जबकि इटली, साउथ कोरिया, अमेरिका जैसे देशों में ये संख्या हजार से ऊपर है. चीन के काफी पास होकर भी ताइवान में अब तक कोरोना वायरस के 100 केस भी नहीं आए हैं. वजह- उनका हाई टेस्ट रेशियो. दस लाख लोगों पर करीब 1500 का टेस्ट.

Corona Graph 11
रीज़न और तारीख के हिसाब से कोरोना वायरस के फैलने का ग्राफ. (सोर्स- WHO)

इस लिहाज़ से भारत को टेस्ट की संख्या में इजाफा करने की ज़रूरत है.

भारत में अभी स्थितियां कुछ संभली हुई सी लग रही हैं. इंफेक्शन फिलहाल कम है. एडवाइज़री पर लोग रिएक्ट कर रहे हैं. बीमारी को लेकर संजीदगी भी दिख रही है. इस लिहाज़ से टेस्ट बढ़ाए जाने की ज़रूरत और भी ज़्यादा महसूस होती है. ताकि ये संभली हुई स्थिति संभली ही रहे.

तब तक पैनिक नहीं, समझदारी से काम लें. वही बेसिक हाइजीन का ध्यान रखना है. हाथ धोते रहें, खांसते-छींकते वक्त मुंह पर कपड़ा या रुमाल रखें, पब्लिक प्लेस पर कम से कम जाएं वगैरह. स्वच्छ रहिए, स्वस्थ्य रहिए.


कोरोना वायरस पर क्या हैम्बर्ग यूनिवर्सिटी ने वाकई कोई सर्वे जारी किया है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.