Submit your post

Follow Us

कोरोना डायरीज: 1999 में बिहार से दिल्ली आए उदय कहते हैं, 'बिना कोरोना हुए मर जाएंगे'

नाम- उदय कुमार

काम – इलेक्ट्रीशियन

पता – दिल्ली

हमारा नाम उदय है. हम दिल्ली आ गए थे सन 1999 में. घर से भाग कर यहां आए थे. लोग वहां बिहार में बताता था कि दिल्ली है दिलवालों की. बोलता था कि वहां आदमी भूखों नहीं मरता. घर पे पईसा रुपया का दिक्कत था ही. तो दोस्त लोग आ रहा था सब उनके साथ आ गए यहां दिल्ली. यहां कई तरह का काम किए. सबसे पहले काम शुरू किए एक दुकान पर. लेकिन जल्दी ही समझ आ गया कि कुछ हुनर हासिल करना पड़ेगा. तभी काम बनेगा. कितने दिन किसी के दुकान पर काम करेंगे. कुछ दिन ड्राइवरी सीखे लेकिन गाड़ी पर रोज़ देने को पैसा तो था नहीं.

Corona Banner
कोरोना डायरीज़ की और भी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

फिर यहां हमको एक टीवी ट्रांजिस्टर के दुकान पर काम मिल गया. धीरे-धीरे वहां के उस्ताद से पटने लगी. तो उसने छोटा भाई बोलकर काम सिखा दिया. दो साल वहां काम करके अपना काम शुरू किए. बिजली का सब काम सीखे. उसी कमाई से शादी ब्याह किए. बाल-बच्चा हुआ. परिवार यहीं दिल्ली बस गया. लेकिन जो दिन आज देख रहे हैं ऐसा कभी नहीं देखे थे. चाहे जितना बीमारी आया लेकिन हमारे घर में कभी खाने को कमी नहीं हुआ. लेकिन अब हो रहा है. हाथ में हुनर था तो कभी ये नहीं सोचा कि ऐसा दिन भी आएगा कि महीनों बिना रुपल्ली के बीत जाएगा. कोरोना ने वो दिन भी दिखा दिया कि सोच समझ कर खाना पड़ रहा है. पहले तो बाहर निकलने का परमिशन ही नहीं था. लेकिन अब सरकार बोला है कि जाकर बाहर काम कर सकते हैं.

अब देखिए दिक्कत ये है कि किसी के बोलने से काम नहीं होता है. हमारा काम है दुकानों से ऑर्डर पर बिजली बनाने जाना. दुकान पर ग्राहक फोन से ऑर्डर देता है तो वो लोग हमको बुलाते हैं. तब जाकर काम होता है. दुकान मालिक इसके बदले में कमीशन रखता है अपना. तो अभी तक बिजली का दुकान तो नहीं खुला है न? इसलिए हमें काम मिलेगा कहां से. ये केजरीवाल बोले कि जो लोग बिजली का काम करते हैं वो काम के लिए निकल सकते हैं. हर जगह टीवी में बताया है.

हमारे घर में कभी खाने को कमी नहीं हुआ. लेकिन अब हो रहा है. (सांकेतिक तस्वीर: AP)
हमारे घर में कभी खाने को कमी नहीं हुआ. लेकिन अब हो रहा है. (सांकेतिक तस्वीर: AP)

लेकिन जब हमारे पास ग्राहक ही नहीं है तो काम कहां करने जाएं. दुकान की तरफ़ से काम करने जाते थे तो कुछ लोग नंबर ले लिए थे. उनके नंबर पर कल हम ख़ुद फोन करके पूछे कि कोई बिजली का काम हो तो बताइएगा. आज एक दो जगह काम निकला है. काम पर जा रहे थे तो मोहल्ले में ही पुलिसवाले रोक लिए. पास कहां है पूछ रहे हैं. अब हमको तो ये नहीं मालूम था कि अभी भी पास चाहिए होगा. ना तो कहीं समाचार में बताया कि पास चाहिए मैकेनिक लोग को. तो किसी तरह हाथ पांव जोडके वहां से निकले. दो जगह काम किया तब शाम को सब्जी भर का पैसा मिला. नया सामान कुछ लगा नहीं सकते. मान लीजिए आपका पंखा बिगड़ा है. तो तार जोड़ने से चल जाएगा तभी ना हम काम कर पाएंगे. बाज़ार से कोई पुर्जा सामान चाहिए होगा तो कहां से लावेंगे. इसीलिए अभी भी काम ढीला ही है. कब स्थिति सुधरेगा ये तो कोई कह नहीं सकता. हम तो मना रहे हैं कि जल्दी से कोरोना हमारे सबका पिंड छोड़े.

# कोट-

रोज़ तालाब खोदकर रोज़ पानी पीने वाले तो बिना कोरोना के ही मर जाएंगे


कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें. corona.diaries.LT@gmail.com


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.