Submit your post

Follow Us

कोरोना डायरीज़: दिल्ली एयरपोर्ट पर घंटों पानी न मिला, फिर जो हुआ उसकी उम्मीद न थी

 

विनय
विनय

नाम- विनय

काम- जर्मनी में एम.ए. के छात्र

जगह- दिल्ली

 

कुछ बताना चाह रहा हूं. जर्मनी में रहता हूं और पहली बार लौट रहा था. देश आने की खुशी क्या होती है, समझ पा रहा था. पत्नी भी साथ थीं. हम 300 के करीब लोग एक फ्लाइट में थे और यहां आने के बाद एयरपोर्ट पर जो हुआ वो बताने से पहले मैं अपने बारे में कुछ बता देता हूं.

Corona Banner
कोरोना डायरीज़ की और भी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

छह साल डॉयचे बैंक, बंगलुरू में नौकरी करने के बाद हमने (मैंने और पत्नी ने) तय किया कि अब आगे पढ़ना है. जर्मनी की Hochschule Fulda (होच्स्चुल फुव्लेडा) यूनिवर्सिटी चुनी. पत्नी अप्रैल 2019 में गईं. मैं अक्टूबर 2019 में. हम दोनों एक ही कॉलेज में हैं. मैं ह्युमन राइट्स और लॉ पढ़ता हूं. वाइफ इंटर कल्चरल स्टडीज़ पढ़ती हैं.

देश के बाहर से पढ़ने आने वालों को जर्मनी सरकार कहती है की दस हजार यूरो रहेगा तभी आ सकते हैं आप. दस हजार यूरो मने आठ लाख रुपया के आस-पास. यह पहला सेमेस्टर था मेरा. जर्मनी में एजुकेशन फ्री है. रहने खाने पर पैसा खर्च होता है. वहां प्रोफेसर क्लास में आते हैं और पढ़ाते हैं. लफ्फाज़ी नहीं करते. एकदम सीरियस नोट पर पढ़ाते हैं. स्टूडेंट्स से ज्यादा जिम्मेदारी से.

आने का पहले से तय था. अभी तो समर वेकेशन चल रही है. इसी बीच कोरोना के चलते आना पड़ा. अप्रैल के आखिरी में जाने की टिकट्स हैं. कंट्रोल हुआ तो समय से जा सकते हैं. वरना तो रुकना पड़ सकता है. ‘इन-लॉ’ के पास रह रहे हैं. सिम्टम्स नहीं हैं मगर दरभंगा (बिहार) नहीं गए.

जब तक जर्मनी में था तब तक इतनी बात नहीं थी. हां, जर्मनी के चांसलर एंजेला मार्केल ने एक रोज़ मीडिया में आकर कहा था कि कोरोना जर्मनी के 70 परसेंट लोगों को इफैक्ट कर सकता है. इसलिए बचाव की ज़रुरत है. इससे ज्यादा मुझे नहीं दिखा कुछ. हां आने के दिनों में, मतलब 15-16 मार्च के आसपास कोरोना के केसेज़ बढ़ रहे थे. खैर, हमें तो देश आना था. मैं और पत्नी जब पैकिंग कर रहे थे तो भारत से हमें यह खबर मिली कि यहां उतरने के बाद हमें 14 दिनों तक क्वारंटीन रखा जाएगा. हमारे दिमाग में ये बात थी. खुशी थी कि देश जा रहे.

सांकेतिक तस्वीर. PTI के सौजन्य से
यह भी सांकेतिक फोटो है. PTI के सौजन्य से

यहां तो कुछ और ही हुआ. हमारे साथ 300 के करीब लोग लैंड किये. सुबह 9.30 पर. उसके बाद कोई पूछ-निहार नहीं. पहले तो एयरपोर्ट पर रखा गया. करीब छह घंटा. पानी भी नहीं दिया गया और फिर गुड़गांव के किसी प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में तीस बिस्तरों की डॉरमेट्री दिखा कर कहा गया कि यहीं रहना है. हमने शिकायत की तो साथ के और लोगों के साथ वापस एयरपोर्ट लाया गया. टेंपरेचर चेक किया और छोड़ दिया गया. वैरी डिेसएपॉइंटिग.

खैर, हमें अब तक कोई सिम्टम्स नहीं है. इसी बीच हमें एक कॉल भी आई है. दो तीन दिन पहले. हॉस्पिटल का नाम नहीं याद आ रहा लेकिन दिल्ली के टैंक रोड के पास का हॉस्पिटल था इतना याद है. उन्होंने कहा कि आप जर्मनी से लौटे हैं अगर कोई दिक्कत है तो हमें बताएं. या अगर सिम्टम्स हैं तो भी हमें बताएं हम आपके लिए एम्बुलेंस भेजेंगे. जांच वगैरह होगी.

कोट-

हम दोनों सेल्फ आइसोलेशन में हैं. और पूरे महीने रहेंगे. हमारी एंड से यही कंट्रिब्युशन है.


कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं. है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें.

 corona.diaries.LT@gmail.com


वीडियो देखें: कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इस तरह मदद कर रहे दुनिया भर के अमीर लोग

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.