Submit your post

Follow Us

कोरोना डायरीज: जब इन बैंककर्मी से बुज़ुर्ग कहने लगते हैं, 'बूढ़े हो गए हैं, मर भी गए तो क्या'

शिवांशु त्रिवेदी
श्रेयांशु द्विवेदी

नाम: श्रेयांशु द्विवेदी

काम: बैंक में असिस्टेंट मैनेजर

जगह: उत्तर प्रदेश

 

मैं उत्तर प्रदेश के एक कस्बे के बैंक में असिस्टेंट मैनेजर हूं और लॉकडाउन में जो चीज़ें नहीं बंद हुईं उनमें बैंक भी हैं. मेरा बैंक सरकारी है और यहां ज्यादातर खाते वैसे ही हैं जिनमें सरकारी पैसे आते हैं. जब से घोषणा हुई है कि जन-धन खातों में पैसे आएंगे, तब से कस्टमर्स की भीड़ लगी रहती है बैंक में. मेरा छोटा ब्रांच है. मुझे मिलाकर, कुल तीन स्टाफ. भीड़ इतनी कि क्या कहा जाए. लोगों को कोई मतलब नहीं कि उनका जन-धन खाता है या नहीं, बस ख़बर सुनकर बैंक आ गए. कईयों के सिर्फ़ पासबुक देखकर मैंने उन्हें बाहर ही बताया कि आपके खाते में पैसे नहीं आएंगे. लेकिन लोग बिना बैलेंस चेक किए मानते नहीं. यहां तक कि इंटर कॉलेज के प्रोफेसर वगैरह भी इस भीड़ में शामिल हैं. जितने लोग आ रहे हैं उनमें ऐसे लोग भी शामिल हैं जिनके खातों में सत्तर-अस्सी हज़ार रुपए हों. लेकिन वो भी पांच सौ का वाउचर भर रहे हैं, जो उनके हिसाब से उनके खातों में आया है. कुछ लोग ऐसा कहते हैं कि मोदी जी ने पैसा दिया तो है लेकिन अगर जल्दी नहीं निकाला तो कहीं वापस ना ले लें.

Corona Banner
कोरोना डायरीज़ की और भी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

एक असिस्टेंट मैनेजर के तौर पर मुझे वाउचर चेक करना होता है कि पिछले दिन कैशियर ने कितना-कहां पेमेंट किया. एवरेज 220- 230 लोग आ रहे हैं इन दिनों. अब अगर एक कैशियर एक कस्टमर को डील करने में एक मिनट भी लगाए तो भी 240 को डील करने का मतलब है 240 मिनट. वो  भी बिना रुके, अगर मशीन की तरह काम करें तो ही. ग्लव्स पहनने से रफ्तार और धीमी हो जाती है. अब हर दो मिनट में सैनिटाइजर तो नहीं लगा सकते.

सांकेतिक तस्वीर-PTI
सांकेतिक तस्वीर-PTI

मैं हर रोज़ पौने दस बजे तक बैंक पहुंचता हूं और देखता हूं कि मेरे आने से पहले से ही करीब डेढ़ सौ औरतें और पचास पुरुष बैंक के कंपाउंड में हैं और उनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग जैसी कोई चीज़ नहीं है. सबसे पहले मैं उन्हें पंद्रह मिनट समझाता हूं कि एक-दूसरे से दूर हटकर रहें, दूरी बनाएं लेकिन कोई फायदा नहीं. आने वाले लोगों में किसी के भी चेहरे पर मास्क नहीं होता है. जब मैं बोलता हूं तो औरतें अपनी साड़ी और पुरुष अपने गमछों से चेहरा ढक लेते हैं. इन कस्टमर्स में से ज्यादातर तो बुजुर्ग होते हैं समझाने पर वह कहते हैं कि हम तो अब बूढ़े हो गए, अगर मर भी जाएंगे तो क्या हो जाएगा. वह यह नहीं समझना चाहते हैं कि इससे सबको खतरा है.

सांकेतिक तस्वीर, फिर से -PTI
सांकेतिक तस्वीर, फिर से -PTI

मैं अपनी तरफ़ से तो सैनिटाइज़्ड रहने की पूरी कोशिश करता हूं लेकिन मुझे पता है कि मैं सेफ़ नहीं हूं. अगर बैंक से सुरक्षित निकल भी जाऊं फिर भी मोटरसाइकिल दिनभर बाहर खड़ी रहती है. अब उसे किसने छुआ, क्या हुआ, किसे पता? मैं यहां अकेले फ्लैट लेकर रहता हूं और मेरा घर यहां अस्सी किलोमीटर दूर है. मैं हर वीकेंड चला जाता था. पिछले दो हफ्तों से मैं इसी डर से घर नहीं गया हूं कि मुझे लगता है कहीं मैं खुद इस वायरस का कैरियर हुआ तो घरवालों का ख़तरा बढ़ जाएगा.

कोट- 

मेरे हिसाब से बैंक कैशियर को भी पीपीई किट मिलना चाहिए. कैशियर को रोज़ कितनों को डील करना पड़ता है. अब हर दो मिनट में सैनिटाइजर तो नहीं लगा सकते. बैंककर्मियों के बीच अगर वायरस फ़ैला तो न जाने कितने लोग इससे प्रभावित होंगे.


 कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. अगर आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें.

corona.diaries.LT@gmail.com पर.


ये स्टोरी मयंक ने की है.


वीडियो देखें: कोरोना वायरस के डर से मुंबई में कई कोरोना मरीज की अस्थियां परिवावाले ले ही नहीं रहे हैं!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.