Submit your post

Follow Us

अली सरदार जाफ़री क्यों कहते हैं, नवंबर मेरा गहवारा है- ये मेरा महीना है

मैं सोता हूं और जागता हूं
और जागकर फिर सो जाता हूं
सदियों का पुराना खेल हूं मैं
मैं मर के अमर हो जाता हूं…

ये कहने वाले अली सरदार जाफ़री 29 नवंबर साल 1913 में यूपी के बलरामपुर में पैदा हुए. साल 2000 के अगस्त के पहले रोज़ यानी पहली अगस्त को उनका इंतक़ाल हुआ. उन्होंने ‘परवाज़’, ‘जम्हूर’, ‘नई दुनिया को सलाम’, ‘अमन का सितारा’, ‘एशिया जाग उठा’ जैसे मशहूर दीवान लिखे. ‘लखनऊ की पांच रातें’ जैसी लोकप्रिय किताब लिखने वाले जाफ़री का नाम ‘मेरा सफ़र’ के लिए खास तौर पर लिया जाता है. कई मक़बूल पुरस्कारों से सम्मानित जाफ़री को साल 1997 में भारतीय ज्ञानपीठ अवार्ड मिला. कोई 50 साल के अदबी सफ़र में उन्होंने कबीर, मीर, ग़ालिब और मीरा की रचनाओं के प्रामाणिक चयन भी तैयार किए. ‘कहकशां’ नाम के टीवी प्रोग्राम के जरिए जाफ़री ने फ़ैज़, फ़िराक, जोश, मजाज़, हसरत मोहानी, मखदूम और जिगर मुरादाबादी को एक नए अंदाज में रूबरू कराया.

– अविनाश मिश्र

***

नवंबर, मेरा गहवारा

खोल आंख, ज़मीं देख, फ़लक देख, फ़ज़ा देख

नवंबर, मेरा गहवारा[1] है, ये मेरा महीना है
इसी माहे-मुनव्वर[2] में
मिरी आंखों ने पहली बार सूरज की सुनहरी रौशनी देखी
मिरे कानों में पहली बार इंसानी सदा[3] आयी
मिरे तारे-नफ़स[4] में जुम्बिशे-बादे-सबा[5] आयी
मशामे-रूह[6] में
मिट्टी की ख़ुशबू फूल बनकर मुस्कुरा उट्ठी
लहू ने गीत गाया
शामे-हस्ती[7] जगमगा उट्ठी
यह लम्हा-लम्हःए-मिलादे-आदम[8] था

मैं सत्तर साल पहले इस तमाशगाहे़-आलम[9] में
इक आफ़ाक़ी[10] खिलौना था
हवा के हाथ सहलाते थे मेरे नर्म बालों को
मिरी आंखों में रातें नींद का काजल लगाती थीं
सहर[11] की पहली किरनें चूमती थीं मेरी पलकों को
मुझे चांद और तारे मुस्कुराकर देखते थे
मौसमों की ग़र्दिशें झूला झुलाती थीं
भरी बरसात में बारिश के छींटे
गर्मियों में लू के झोंके
मुझसे मिलने के लिए आते
वो कहते थे हमारे साथ आओ
चल के खेलें बाग़ो-सहरा[12]
मिरी मां अपने आंचल में छुपा लेती थी नन्हे से खिलौनों को
मिरी हैरत की आंखें
उस महब्बत से भरे चेहरे को तकती थीं
जिस आईने में पहली बार मैंने
अपना चेहरा आप देखा था

वो चेहरा क्या था
सूरज था, ख़ुदा था या पयम्बर था
वो चेहरा जिससे बढ़कर ख़ूबसूरत
कोई चेहरा हो नहीं सकता
कि वो इक मां का चेहरा था
जो अपने दिल के ख़्वाबों, प्यार की किरनों से रौशन था

वो पाकीज़ा मुक़द्दस सीनःए-ज़र्रीं[13]
वह उसमें दूध की नहरें
वह मौज़े-कौसरो-तसनीम[14] थी
या शहदो-शबनम थीं
उन्हीं की चन्द बूंदें सिह-हर्फ़ो-जादुए-लफ़्ज़ो-बयां[15] बनकर
मिरे होंटों से खुशबू-ए-ज़बां बनकर
सरे-लौहो-क़लम[16] आती हैं तो शमशीर की सूरत चमकती हैं
हसीनों के लिए वह ग़ाज़ःए-रुख़सारो-आरिज़[17] हैं
खनकती चूड़ियों, बजती हुई पायल को इक आहंग[18] देती है
ज़मीं की गर्दिशों, तारीख़ की आवाज़े-पा[19] में ढलती जाती है
जो अब मेरी ज़बां है
मेरे बचपन में वह मेरी मां की लोरी थी
यह लोरी इक अमानत है
मेरा हर शे’र अब इसकी हिफ़ाज़त की ज़मानत है


1. बच्चों के सोने या झूलने का खटोला, हिंडोला
2. उजालों से भरा हुआ महीना
3. आवाज़
4. सांस का आना-जाना
5. सुबह की हवा का स्पर्श
6. आत्मा का मस्तिष्क
7. शाम का अस्तित्व
8. मनुष्य के जन्म का क्षण
9. संसार के तमाशाघर में
10. आकाशीय
11. सुबह
12. उद्यान और रेगिस्तान
13. स्वर्णमय
14. स्वर्ग की नहरें
15. भाषा और अभिव्यक्ति का जादू
16. लिखने की तख़्ती और क़लम के ऊपर
17. गालों की चमक या आभा
18. संकल्प या इरादा
19. पैरों की आहट


कुछ और कविताएं यहां पढ़िए:

‘बस इतना ही प्यार किया हमने’

‘ठोकर दे कह युग – चलता चल, युग के सर चढ़ तू चलता चल’

मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

जिस तरह हम बोलते हैं उस तरह तू लिख


वीडियो देखें:

‘नीरज’ के एक गीत ‘कारवां गुज़र गया’ का वीडियो यहां देखें-

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.