Submit your post

Follow Us

राजस्थान सूचना सहायक भर्ती: 107 सीटें खाली, मगर वेटिंग लिस्ट नहीं जारी कर रही सरकार

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की तरफ से फरवरी 2018 में एक वेकेंसी निकाली गई. ये वेकेंसी राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग (DOIT&C) में सूचना सहायक के खाली पदों को भरने के लिए निकाली गई थी. जुलाई 2019 में भर्ती का फाइनल रिजल्ट जारी कर दिया. सेलेक्टेड कैंडिडेट्स को जॉइनिंग भी दे दी गई. लेकिन अभी भी 100 से ज्यादा सीटें खाली बच रहीं थीं. ऐसे में मामूली अंतर से चूके कैंडिडेट्स वेटिंग लिस्ट जारी करने की मांग करने लगे. लेकिन छह महीने से ज्यादा समय बीत जाने के बावजूद अब तक उनकी इस मांग पर कोई सुनवाई नहीं हुई.

सूचना सहायक भर्ती 2018 के लिए राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की तरफ से जारी किया गया पहला नोटिफिकेशन.
सूचना सहायक भर्ती 2018 के लिए राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की तरफ से जारी किया गया पहला नोटिफिकेशन.

क्या है पूरा मामला?

फरवरी 2018 में राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से  1302 पदों पर सूचना सहायकों की भर्ती के लिए वेकेंसी निकाली गई.
बाद में अति पिछड़ा वर्ग (MBC)को 5 प्रतिशत आरक्षण मिला और इस वेकेंसी में कुल पदों की संख्या हो गई 1343.
12 मई 2018 को पहले चरण की लिखित परीक्षा हुई और उसमें 3 गुना अभ्यर्थियों को पास किया गया. अक्टूबर 2018 में टाइपिंग टेस्ट हुआ.
टाइपिंग टेस्ट में पास हुए 1.5 गुना कैंडिडेट्स को दिसंबर 2018 में डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया गया. जनवरी 2019 में डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन का काम पूरा हुआ.
जुलाई 2019 में सेलेक्टेड कैंडिडेट्स की पहली लिस्ट जारी की गई. इस लिस्ट में 1252 कैंडिडेट्स के नाम थे. 21 कैंडिडेट्स की दूसरी लिस्ट नवंबर 2019 में और 26 कैंडिडेट्स की तीसरी लिस्ट दिसंबर 2019 में निकाली गई.

जुलाई 2019 में जारी फाइनल रिजल्ट
जुलाई 2019 में जारी फाइनल रिजल्ट

रिजल्ट जारी करने के बाद DOIT&C ने सफल कैंडिडेट्स को जॉइनिंग के लिए बुलाया. अधिकतर ने जॉइन भी कर लिया. कुछ लोगों ने नहीं जॉइन किया और कुछ लोगों ने एक्सटेंशन ले लिया. ऐसे में नियम यही होता है कि जिन लोगों नहीं जॉइन किया उनकी जगह वेटिंग में रखे गए कैंडिडेट्स को बुलाया जाए. लेकिन नहीं बुलाया गया.

वेटिंग लिस्ट का इंतजार कर रहे कैंडिडेट्स DOIT&C और राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के चक्कर काटते रहे. जब सफलता नहीं मिली तो RTI लगाई और पूछा कि सूचना सहायक भर्ती 2018 में चयनित 1252 कैंडिडेट्स में से कुल कितने कैंडिडेट्स ने तय समय-सीमा 45 दिनों के अंतर्गत अपनी ड्यूटी जॉइन नहीं की है? उनकी लिस्ट उपलब्ध कराइए.  7 जनवरी 2020 को RTI से जवाब आया. पता चला कि ऐसे लोगों की संख्या 100 से ज्यादा है. जिसके बाद वेटिंग लिस्ट का इंतजार कर रहे कैंडिडेट्स ने बोर्ड और DIOT&C पर दबाव बनाना शुरू किया.

कैंडिडेट्स को RTI के तहत मिला जवाब
कैंडिडेट्स को RTI के तहत मिला जवाब

वेटिंग लिस्ट का इंतजार कर रहे नरेंद्र मीणा बताते हैं,

हम लिखित परीक्षा, टाइपिंग टेस्ट पास करके यहां तक पहुचे हैं. हमारा डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन भी हो चुका है. हम सेलेक्टेड कैंडिडेट्स की लिस्ट में नहीं आ पाए क्योंकि हम कुछ अंकों से पीछे रह गए. लेकिन अब जबकि नॉन जॉइनर्स की लिस्ट भी आ चुकी है. DOIT&C भी कह चुका है कि इतने लोग जॉइन नहीं कर रहे हैं तो फिर बोर्ड वेटिंग लिस्ट जारी क्यों नहीं कर रहा है? हम सिर्फ 100-120 के करीब कैंडिडेट है सो हमारी सुनने वाला कोई नहीं है. हम विभाग का चक्कर लगा-लगाकर थक गए लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है. 

वेटिंग लिस्ट जारी करवाने को लेकर इन कैंडिडेट्स ने मुख्यमंत्री कार्यालय में भी शिकायत की. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चिट्ठी भी लिखी और जनसुनवाई  में भी वेटिंग लिस्ट जारी करने की मांग की. लेकिन इसके बावजूद बोर्ड की ओर से वेटिंग लिस्ट जारी नहीं की गई. बोर्ड के रवैये से निराश प्रताप सिंह कहते हैं,

इसके पहले संगणक का रिजल्ट आया था. उनकी और हमारी परीक्षा लगभग साथ ही साथ हुई थी. दोनों राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने कराए. उनका रिजल्ट आया. हमारा भी रिजल्ट आया. उन्होंने मेन लिस्ट के बाद वेटिंग लिस्ट भी जारी की. पटवारी, ग्राम सेवक, संगणक सबकी वेटिंग लिस्ट आई. लेकिन हमारे यहां ऐसा कुछ नहीं हुआ.

हमने इतने चक्कर लगाए जयपुर में, हम बोर्ड के पास जाते तो वो DOIT&C में जाने को कहते. DIOT&C में जाते तो वे बोर्ड के पास भेजते. बोर्ड कहता कि हमें नॉन जॉइनर्स की लिस्ट DOIT&C से मिल जाए तो हम कल ही आपको वेटिंग लिस्ट निकाल कर दे देंगे. DOIT&C कहता कि वो हमें वेटिंग लिस्ट दे दें तो हम उसे भी जारी कर दें. अंत में DOIT&C ने 24 फरवरी 2020 को नॉन जॉइनर्स की लिस्ट निकाली.

DIOT&C की तरफ से जारी नॉन जॉइनर्स की लिस्ट.
DIOT&C की तरफ से जारी नॉन जॉइनर्स की लिस्ट.

24 फरवरी 2020 को जारी किए गए नॉन जॉइनर्स की लिस्ट में 107 कैंडिडेट्स का नाम है. DIOT&C ने साफ-साफ लिखा है कि इन कैंडिडेट्स ने निर्धारित समय बीत जाने के बावजूद अपनी ड्यूटी जॉइन नहीं की है. इसलिए इन कैंडिडेट्स का सूचना सहायक के पद पर सेलेक्शन तुरंत प्रभाव से निरस्त/समाप्त किया जाता है.

4 मार्च को ये लेटर राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के पास भेज दिया जाता है. कैंडिडेट्स का कहना है कि इसके लगभग 15 दिन बाद जब वे बोर्ड में गए तो वहां उन्हें कहा गया हफ्ते भर में वेटिंग लिस्ट जारी कर दी जाएगी. इसके बाद लॉकडाउन हो गया और अब तक वेटिंग लिस्ट जारी नहीं की गई है. ऐसा नहीं है कि लॉकडाउन में बोर्ड में कामकाज नहीं हो रहा है. लॉकडाउन के दौरान बोर्ड ने कई रिजल्ट जारी किए हैं.

बोर्ड का पक्ष जानने के लिए हमने उनके ऑफिशियल नंबर पर कॉल किया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. हमने बोर्ड के सचिव मुकुट बिहारी जांगिड़ से भी संपर्क करने की कोशिश की लेकिन उनकी तरफ से भी कोई जवाब नहीं मिला.


 रंगरूट. दी लल्लनटॉप की एक नई पहल. जहां पर बात होगी नौजवानों की. उनकी पढ़ाई लिखाई और कॉलेज यूनिवर्सिटी कैंपस से जुड़े मुद्दों की. हम बात करेंगे नौकरियों, प्लेसमेंट और करियर की. अगर आपके पास भी ऐसा कोई मुद्दा है तो उसे भेजिए हमारे पास. हमारा पता है YUVA.LALLANTOP@GMAIL.COM.


राजस्थान LDC 2018: दो साल में तीन बार सीटें बढ़ाईं, रिजल्ट आया तो कैंडिडेट्स के होश उड़ गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.