Submit your post

Follow Us

आपके नए पावर बैंक में क्या-कुछ होना ही चाहिए...

Nokia 3310 फोन याद है. फीचर्स वगैरह छोड़िए, लेकिन बैटरी का बाप था. कई लोग आज भी कहते मिल जाएंगे, भई हमारा 3310 तो हफ्ते भर (हकीकत से थोड़ी दूर) चल जाता था. नोकिया 3310 तो गया फिर स्मार्टफोन आ गए और बैटरी भी बड़ी होती गई, लेकिन परफॉर्मेंस में सुधार की गुंजाइश अब भी है. कुछ तरीके हैं जिससे फोन की बैटरी लाइफ बेहतर हो सकती है, इनके बारे में हमने आपको बताया भी है. लेकिन उसके अलावा क्या? ऐसे में जरूरत महसूस होती है एक बढ़िया पावर बैंक की. गूगल पर सर्च करिए या किसी ऑनलाइन साइट पर, ज़्यादा से ज़्यादा क्षमता वाले पावर बैंक सामने आ जाएंगे. क्या सच में इतना देखकर आपको पावर बैंक खरीद लेना चाहिए या फिर कुछ और बातें भी ध्यान रखना जरूरी हैं. एक बात गांठ बांध लीजिए, किसी गैजेट की आंकने के लिए सिर्फ एक पैमाना काफी नहीं होता, इसलिए आपका ये जानना बहुत जरूरी है कि पावर बैंक लेते समय क्या-क्या देखना जरूरी है.

पावर बैंक दरअसल होता क्या है? जैसे नाम से लगता है कि पावर को संभालकर रखने वाला और जरूरत पड़ने पर आपके स्मार्टफोन या दूसरे गैजेट्स को चार्ज करने वाला एक पोर्टेबल डिवाइस. पावर बैंक भी बनता लीथियम इयॉन बैटरी से है जो आपके फोन में होती है, बस ताकत ज्यादा होती है. बैटरी के ये ताकत मापी जाती है mAh (milli amp hours) में, जैसे कि 5000 mAh या 10000 mAh या उससे भी कहीं ज्यादा. अब Power Bank में भी लीथियम इयॉन बैटरी है तो जाहिर सी बात है इसके काम करने का तरीका भी एक जैसा होगा. पावर बैंक के बारे में तो आप जान गए, लेकिन उसे खरीदने से पहले क्या-क्या ध्यान रखना चाहिए उस पर नजर डालते हैं.

बिल्ड क्वालिटी

पावर बैंक की बिल्ड क्वालिटी अच्छी होनी बहुत जरूरी है. मान लीजिए कि क्षमता तो है 20000mAh की, लेकिन बंद कर दिया है घटिया प्लास्टिक के अंदर तो दिक्कत होना तय है. लीथियम इयॉन बैटरी में यदि वोल्टेज 4.2 V से ज्यादा हो तो वो गरम होने लगती है तो बिल्ड क्वालिटी अच्छी होना जरूरी है. इसका एक फायदा और भी है कि पावर बैंक आमतौर पर थोड़े भारी होते हैं तो कभी गिर गया तो टूट फूट से बच जाएंगे.

Untitled Design (3)

चार्जिंग पोर्ट

पावर बैंक है तो आप मोबाइल के साथ और भी डिवाइस चार्ज करेंगे तो इसके लिए कितने और किस तरह के चार्जिंग पोर्ट हैं वो देखना जरूरी है. माइक्रो-यूएसबी और टाइप सी पोर्ट होना तो आम बात है. लेकिन एक बार आप ये जांच लें कि किस पोर्ट से पावरबैंक चार्ज होगा और किसी पोर्ट से दूसरे गैजेट्स चार्ज किए जाएंगे. क्योंकि आपके पास कनेक्टर भी तो होना चाहिए.

6666

मल्टीपल डिवाइस सपोर्ट

ऊपर से देखने पर आपको लगेगा कि पावर बैंक ले लिया, फोन में लगाया और कहानी खत्म. ऐसा होता भी है, लेकिन यदि आप अपने स्मार्टफोन के हिसाब से पावर बैंक खरीदेंगे तो ठीक रहेगा. एंड्रॉयड और iOS दोनों अलग-अलग तरह का वोल्टेज लेवल फॉलो करते हैं और सस्ते पावर बैंक में इसको मैनेज करने का जुगाड़ नहीं होता, जिसके लिए वो दो यूएसबी पोर्ट अलग-अलग देते हैं. उच्च क्वालिटी वाले हाई एंड पावर बैंक ऐसा अपने आप कर सकते हैं, लेकिन आप ध्यान रखें कि आपको क्या चार्ज करना है, फिर वैसा ही पावर बैंक लीजिए.

पावर डिलिवरी

पावर बैंक कितना ही mAh का हो, आउटपुट यदि कम या नॉर्मल है तो धीरे-धीरे चार्जिंग होगी. देख लीजिए कि कम से कम एक पोर्ट तो 18 वॉट पावर डिलिवरी आउटपुट देता हो तभी फटाफट चार्ज या आम बोलचाल में कहें तो ऑन दि गो चार्ज का मजा मिल पाएगा.

फास्ट चार्जिंग

आउटपुट तो देख लिया, अब बारी इनपुट मतलब पावर बैंक की चार्जिंग स्पीड से है. फास्ट चार्जिंग ही एकमात्र विकल्प होना चाहिए, क्यूंकि स्लो चार्जिंग लायक वक्त आजकल होता नहीं. यहां एक बात और ध्यान रखिए कि फास्ट चार्जिंग आपके अपने चार्जर से हो जाएगी या फिर पावर बैंक के लिए अलग से कंपेटेबल चार्जर लेना पड़ेगा.

स्टैंड बाय टाइम

कहने को तो पावर बैंक है लेकिन जरूरी नहीं कि रोज काम आए. कई बार हफ्तों बैग में पड़ा रहता है तो जितना ज्यादा स्टैंड बाय टाइम मिले उतना ठीक रहेगा. ऐसा न हो कि आपने हफ्ते भर बाद पावर बैंक निकाला और वो खुद आपको तलाश रहा था कि भैया मुझे पावर दे दो.

लोड डिटेक्शन

स्टैंड बाय टाइम जैसा ही है, लेकिन तब जब पावर बैंक किसी डिवाइस को चार्ज कर रहा हो. एक बार आपका डिवाइस फ़ुल चार्ज हो गया तो पावर बैंक में ऑटो कट ऑफ हो जाना चाहिए न कि बस फेंके जाओ करंट. इससे बिना आपका फोन भी खराब होगा और पावर बैंक भी.

डिस्प्ले पैनल

पावर बैंक कैसे काम कर रहा? क्या काम कर रहा? उसके लिए जरूरी है नोटिफिकेशन लाइट या डिस्प्ले पैनल. पावर बैंक कितना चार्ज है? कितनी ताकत बची है? उसके लिए नोटिफिकेशन लाइट या डिस्प्ले पैनल होना सबसे जरूरी है, वरना अंदाजा लगाते रहिए.

Gionee 20000mah
Image Courtesy Gionee

क्षमता

आपको लगा होगा कि जो सबसे पहले दिखता है वो भूल गए क्या. ऐसा नहीं है, क्यूंकि हम माल थोड़े न बेच रहे हैं जो सीधे ताकत बताने लगे. एक बात जान लीजिए कि पावर बैंक कितना काम करेगा वो महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि ये महत्वपूर्ण है कि आप उससे कितना काम कराना चाहते हैं. उदाहरण के तौर पर, आपको सिर्फ अपना स्मार्टफोन ही चार्ज करना है और उसकी बैटरी 3000 mAh की है तो 10000 mAh का पावर बैंक ठीक रहेगा. इसका कोई फॉर्मूला तो नहीं है लेकिन हमारा निजी अनुभव ऐसा है कि स्मार्टफोन की बैटरी क्षमता की तीन गुना क्षमता वाला पावर बैंक लीजिए. करीब-करीब ढाई बार चार्ज करने की सुविधा रहेगी.

ब्रांड

पावर बैंक के साथ अच्छा ब्रांड बहुत जरूरी है. आजकल ब्रांड लेने में कोई खास मुश्किल है नहीं, क्यूंकि वो भी कोई अनाप शनाप मूल्य नहीं लेते, उल्टा क्वालिटी की गारंटी अलग से देते हैं. अच्छा ब्रांड लेने का एक फायदा ये है कि तमाम क्वालिटी चेक सही तरीके से होते हैं तो अच्छी पावर के लिए अच्छा ब्रांड. लगे हाथ एक बात और जान लीजिए, वैसे इसका पावर बैंक से सीधे-सीधे लेना देना नहीं है. यदि आपके पास वायरलेस चार्जिंग वाला फोन है तो आप वैसा पावर बैंक भी ले सकते हैं.


हाई-स्पीड और बढ़िया कवरेज वाला WiFi चाहिए तो ये 6 नुस्ख़े हैं बहुत काम के

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.