Submit your post

Follow Us

बिहार: BPSC प्री में एक गलत जवाब और परीक्षा से बाहर हो गए 900 लोग

बिहार से दो खबरे हैं. दोनों ही खबरें आत्महत्या की हैं.

पहली खबर : पटना के बेऊर इलाके में बने हरिश्चंद्र नगर के एक लॉज में रहने वाले 27 साल के छात्र विभाष कुमार ने 14 जून को फांसी लगाकर जान दे दी. वजह ये थी कि वो बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास नहीं कर पाया था. उसके कमरे से सुसाइड नोट मिला, जिसमें उसने अपनी असफलता के बाद मानसिक तनाव का जिक्र किया था.

दूसरी खबर : पटना के पीरबहोर इलाके के गौरैया स्थान के एक घर में किराए पर कमरा लेकर रहने वाले गौरव ने 14 जून को जहर खाकर जान दे दी. वजह ये थी कि वो बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास नहीं कर पाया था. उसके कमरे से भी सुसाइड नोट मिला, जिसमें उसने खुद की असफलता का जिक्र किया है. गौरव सिर्फ 2 नंबर से बीपीएससी की परीक्षा पास नहीं कर पाया था.

एक दिन, एक शहर, एक ही वजह और दो आत्महत्याएं. और इन सबके तार जाकर जिस एक जगह पर जुड़ते हैं, वो है बिहार लोक सेवा आयोग. इस आयोग ने 64वीं बीपीएससी की परीक्षा आयोजित करवाई. परीक्षा में कुछ ऐसे सवाल थे, जिनके जवाब पर विवाद था और ये विवाद कोर्ट तक पहुंच गया. अभी तक कोर्ट का फैसला भी नहीं आया और आयोग ने मेन्स की डेट घोषित कर दी. और परीक्षा की डेट आने के साथ ही मेन्स से बाहर हुए इन दोनों लड़कों ने खुदकुशी कर ली.

दो छात्रों की आत्महत्या के बाद पटना में छात्रों ने बीपीएससी के खिलाफ कैंडल मार्च निकाला और इसे छात्रों की संस्थागत हत्या करार दिया.
दो छात्रों की आत्महत्या के बाद पटना में छात्रों ने बीपीएससी के खिलाफ कैंडल मार्च निकाला और इसे छात्रों की संस्थागत हत्या करार दिया.

एक गलत जवाब और रिजल्ट से बाहर हो गए थे 900 लोग

परिक्षार्थियों का कहना था कि आयोग के जवाब गलत हैं. आयोग का कहना था कि जवाब विशेषज्ञों ने तैयार किए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)
परिक्षार्थियों का कहना था कि आयोग के जवाब गलत हैं. आयोग का कहना था कि जवाब विशेषज्ञों ने तैयार किए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

16 दिसंबर, 2018. बिहार लोक सेवा आयोग ने सिविल सर्विसेज की 64वीं परीक्षा आयोजित करवाई थी. इस परीक्षा में करीब 5.50 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे. 28 दिसंबर को आयोग की ओर से आंसर की जारी की गई और 23 फरवरी को इसका रिजल्ट आ गया. और जब रिजल्ट आया, तो पता चला कि सिर्फ एक गलत जवाब की वजह से 900 लोग मेन्स की परीक्षा से बाहर हो गए. प्रीलिम्स की परीक्षा के सेट डी में सवाल नंबर 113 था-

वीर कुंवर सिंह अंग्रेजों के खिलाफ 1857 के विद्रोह में किस जगह पर शामिल हुए थे?

इस सवाल के पांच ऑप्शन थे. आरा, पटना, बेतिया, वाराणसी और इनमें से कोई नहीं. ज्यादातर लोगों ने जवाब दिया था आरा, लेकिन आयोग की आंसर शीट में इसका सही जवाब पटना बताया गया था और कहा गया था कि सही जवाब इनमें से कोई नहीं ही होगा. इस एक सवाल की वजह से अभ्यर्थियों के एक नंबर कट गए और इसकी वजह से 900 अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा के लिए क्वॉलिफाई नहीं कर पाए.

कुछ और सवालों पर थी आपत्ति

वीर कुंवर सिंह से जुड़ा सवाल इकलौता सवाल नहीं था, जिसपर आपत्ति हुई. इस सवाल के अलावा कुछ और सवालों पर परीक्षार्थियों और आयोग के बीच टकराव हो गया. ये सवाल थे-

# एक भारतीय राज्य के रूप में बिहार कब बना?

# बाल गंगाधर तिलक ‘लोकमान्य तिलक’ के नाम से कब जाने जाने लगे?

तीन सवालों को हटाकर जारी कर दी आंसर की

छात्रों ने हंगामा किया तो नए सिरे से आंसर की जारी की गई.
छात्रों ने हंगामा किया तो नए सिरे से आंसर की जारी की गई.

जब परीक्षार्थियों ने आयोग की आंसर शीट पर सवाल उठाए तो आयोग ने तीन सवालों को हटा दिया. कुल 150 सवालों में से तीन सवाल हटाकर 147 सवालों के आधार पर आंसर की जारी कर दी. लेकिन अभ्यर्थियों का कहना था कि कुल 9 सवालों के जवाब गलत हैं. आयोग ने इसे नहीं माना. इसके बाद अभ्यर्थियों ने हंगामा कर दिया. आयोग पर दबाव बढ़ा तो आयोग ने परीक्षार्थियों के प्रतिनिधिमंडल को बुलाया. एक बार फिर से विशेषज्ञों का पैनल बनाने की बात कही. फिर से वही पैनल बना और फिर से वही रिजल्ट जारी कर दिया गया.

और फिर मामला कोर्ट में पहुंच गया

बीपीएससी में गलत जवाब का मामला पटना हाई कोर्ट में पहुंच गया है.
बीपीएससी में गलत जवाब का मामला पटना हाई कोर्ट में पहुंच गया है.

आयोग की आंसर शीट और परीक्षार्थियों के दावे में अंतर आने के बाद ये मामला पटना हाई कोर्ट में पहुंच गया. पटना हाई कोर्ट में बिहार लोक सेवा आयोग की ओर से एफिडेविट दाखिल किया गया. इस एफिडेविट में लिखा गया था कि आयोग की ओर से 16 जनवरी, 2019 और 17 जनवरी, 2019 को विषयों के विशेषज्ञों की टीम ने सवालों के जवाब तैयार किए. इस टीम में कुल 9 विशेषज्ञ थे. ये थे-

कॉलेज ऑफ कॉमर्स, साइंस एंड ऑर्ट्स, पटना के कमेस्ट्री डिपार्टमेंट के प्राध्यापक डॉ. अनिल कुमार, पटना यूनिवर्सिटी के सांख्यिकी डिपार्टमेंट के प्राध्यापक डॉ. विनोद कुमार पांडेय, एएन कॉलेज पटना के जूलॉजी डिपार्टमेंट के रिटायर्ड प्रफेसर डॉ. ज्वाला प्रसाद सिंह, पटना यूनिवर्सिटी के इकनॉमिक्स डिपार्टमेंट के रिटायर्ड प्रिंसिपल डॉ. (प्रो.) दुर्गानंद झा, एएन कॉलेज पटना के पॉलिटिकल साइंस डिपार्टमेंट के डॉ. (प्रो) बिमल प्रसाद सिंह, पटना यूनिवर्सिटी के हिस्ट्री डिपार्टमेंट के डॉ. (प्रो) इम्तियाज अहमद, ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी दरभंगा के हिस्ट्री डिपार्टमेंट के रिटायर्ड प्रफेसर डॉ. (प्रो) रत्नेश्वर मिश्रा, पटना यूनिवर्सिटी के फिजिक्स डिपार्टमेंट के डॉ. (प्रो) दीपक कुमार शर्मा और पटना यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति और जगरफी डिपार्टमेंट के रिटायर्ड प्रिंसिपल डॉ. (प्रो) एलएन राम.

आयोग ने एफिडेविट दाखिल कर कोर्ट को बताया है कि विशेषज्ञों के पैनल ने नए सिरे से आंसर शीट जारी की थी.
आयोग ने एफिडेविट दाखिल कर कोर्ट को बताया है कि विशेषज्ञों के पैनल ने नए सिरे से आंसर शीट जारी की थी.

इन विशेषज्ञों ने सवालों के उत्तर तैयार किए और फिर नई आंसर की जारी की गई. इस नई आंसर की में पेपर के सेट A के सवाल नंबर 50, 69, 84, 100, 125, 130, 133 और 134 के उत्तर में बदलाव किया गया है. ये बदलाव विषयों के विशेषज्ञों की समिति ने किया है. इसके अलावा तीन सवालों 41, 118 और 122 को रद कर दिया गया है. 31 जनवरी, 2019 को ये आदेश दे दिया गया कि इस नई आंसर की के आधार पर रिजल्ट जारी किया जाए. इसी एफिडेविट में आयोग ने दावा किया कि परीक्षार्थियों की आपत्ति के बाद 5 अप्रैल, 2019 को फिर से पैनल बनाया गया और नए सिरे से रिजल्ट जारी किया गया.

आयोग के वकील ने कोर्ट को क्या बताया?

बीपीएससी के खिलाफ छात्रों ने 14 जून को आंदोलन किया था.
बीपीएससी के खिलाफ छात्रों ने 14 जून को आंदोलन किया था और पटना बंद बुलाया था.

3 जून, 2019 को बिहार लोक सेवा आयोग की ओर से वकील सत्यबीर भारती पटना हाई कोर्ट में पेश हुए. उन्होंने अदालत को बताया कि आयोग ने बीपीएससी के मेन्स की कोई तारीख तय नहीं की है. सत्यबीर की ओर से कोर्ट में कहा गया कि 5 जुलाई, 2019 से आयोग की मेन्स की परीक्षा की जो बात कही जा रही है, वो गलत है. इसके बाद कोर्ट ने कहा कि अगर आयोग मेन्स की परीक्षा नहीं करवा रहा है तो फिर अदालत की छुट्टी के दौरान इस मामले की सुनवाई किए जाने की ज़रूरत ही नहीं है. 18 जून को जब अदालत खुलेगी तो फिर अदालत के रोस्टर के हिसाब से इस मामले की सुनवाई की जाएगी. कोर्ट ने ये भी कहा कि अदालत ने आयोग को 22 अप्रैल, 2019 को ही काउंटर एफिडेविट दाखिल करने को कहा था, लेकिन आयोग की ओर से एफिडेविट दाखिल नहीं किया गया. इसके बाद कोर्ट ने आदेश दिया कि मामले की अगली सुनवाई कोर्ट खुलने के बाद होगी.

आयोग ने मेन्स परीक्षा की तारीख जारी कर दी और दो छात्रों ने आत्महत्या कर ली

3 जून को ही आयोग ने कोर्ट को कहा था कि मेन्स की परीक्षा की तारीख तय नहीं है. कोर्ट ने कहा था कि 18 जून के बाद मामले की सुनवाई होगी. लेकिन इसी बीच 10 जून, 2019 को बिहार लोक सेवा आयोग ने मेन्स की परीक्षा की डेट घोषित कर दी. अपनी वेबसाइट पर आयोग ने बताया है कि 12 जुलाई, 13 जुलाई, 14 जुलाई और 17 जुलाई को बिहार लोक सेवा आयोग की मुख्य परीक्षा पटना में होगी.

mains letter

कुछ गलत सवालों की वजह से प्रीलिम्स परीक्षा में जो छात्र फेल हो गए थे, उन्हें उम्मीद थी कि 18 जून को जब कोर्ट खुलेगा तो उनकी बात सुनी जाएगी. ऐसे अभ्यर्थियों को उम्मीद थी कि कोर्ट नए सिरे से प्रीलिम्स का रिजल्ट जारी करने का आदेश देगा. लेकिन कोर्ट का आदेश आने से पहले ही आयोग ने मेन्स परीक्षा की तारीख घोषित कर दी. नतीजा ये हुआ कि गौरव और विभाष जैसे दो छात्रों ने आत्महत्या कर ली.

bpsc protest
प्रतियोगी छात्रों ने बिहार की राजधानी पटना में ये पोस्टर लगाए हैं.

इन दो आत्महत्याओं के बाद बिहार लोक सेवा आयोग की तैयारी कर रहे छात्र आंदोलन करने की तैयारी कर रहे हैं. वो परीक्षा नियंत्रक और अध्यक्ष को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि गौरव और विभाष की आत्महत्या नहीं, संस्थागत हत्या है. अगर सरकार बिहार लोक सेवा आयोग की प्रिलिम्स परीक्षा का संशोधित रिजल्ट जारी नहीं करती है, तो गौरव और विभाष जैसे और भी लोग इस आत्महत्या वाली लिस्ट में शामिल हो सकते हैं.


UPSC की तैयारी करने वाले भावी IAS के विरोध प्रदर्शन की असली वजह CSAT है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.