Submit your post

Follow Us

ऑनलाइन डेटिंग ऐप्स पर इस तरह से फंसाकर ठगा जा रहा है लड़कों को

नवंबर, 2019. दिल्ली NCR. यहां एक गैंग का भंडाफोड़ हुआ. ये लोग भोंडसी नाम की जगह से थे. डेटिंग ऐप की मदद से गे पुरुषों से बात करते थे. उन्हें मिलने बुलाते थे. ड्राइव के बहाने उन्हें सुनसान जगह पर ले जाते थे, फिर गाड़ी रुकवा कर उनको लूट लेते थे. पुलिस ने बताया कि तीन महीनों में इन लोगों ने 150 से ज़्यादा लोगों को लूटा. पूरी जानकारी आप यहां पढ़ सकते हैं.

अब आते हैं साल 2020 में.

हमारे पास एक ईमेल आई. भेजने वाले व्यक्ति ने हमें कुछ स्क्रीनशॉट्स भेजे. जिसमें लड़कियों की तस्वीरें थीं. कुछ नंबर लिखे थे. बताया,

‘ये लोग पुरुषों के अश्लील वीडियो रिकॉर्ड करते हैं. फिर उन्हें ब्लैकमेल करते हैं. पैसे मांगते हैं. पूरा नेटवर्क है इनका. डेटिंग ऐप्स पर’.

दी लल्लनटॉप ने उनसे बात की. पहचान जाहिर न करने की शर्त पर उन्होंने बताया,

“मैंने एक दिन ऐसे ही एक डेटिंग ऐप पर प्रोफाइल बनाई अपनी. बोर हो रहा था, तो सोचा ट्राई करते हैं. उस ऐप पर मुझे एक लड़की का नंबर मिला. जब मैंने उसे वॉट्सऐप पर ऐड किया, तो उधर से सीधे कॉल आई. लड़की न्यूड थी. उसने बाद में कहा कि उसने मेरा कॉल स्क्रीन रिकॉर्ड कर लिया है. और अगर मैं उसे पांच हजार रुपए न दूं, तो वो ये वीडियो यूट्यूब पे डाल देगी. फिर मेरी जान-पहचान के लोग भी उसे देख लेंगे. मैंने पैसे नहीं दिए. लेकिन उसे ब्लॉक ज़रूर कर दिया. बाद में मैंने जब चेक किया तो ऑनलाइन ऐसे कई वीडियो थे जो इस तरह के ऐप्स के बारे में बता रहे थे.”

डेटिंग ऐप्स और पुरुष

भारत में बने डेटिंग ऐप Woo ने एक सर्वे किया. इसमें पता चला कि भारत में ऑनलाइन डेटिंग की दुनिया में सिर्फ 26 फीसद प्रोफाइल्स ही महिलाओं की हैं. यानी पुरुषों को अपने मैच ढूंढने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ती है.

आविक (बदला हुआ नाम) ने दी लल्लनटॉप को बताया कि जब उनके पास ऐप का बेसिक वर्जन था, तब उन्हें मैच नहीं मिलते थे. लेकिन जब उन्होंने पैसे देकर उसका गोल्ड वर्जन खरीदा, तब उनके मैच आने शुरू हुए.

ये दिक्कत ऐप इस्तेमाल करने वाली महिलाओं को अधिकतर नहीं होती. उन्हें बिना गोल्ड वर्जन खरीदे ही काफी मैच मिल जाते हैं.

सुधांशु (बदला हुआ नाम) ने बताया, कि डेटिंग ऐप पर कई प्रोफाइल्स तो उन्हें एस्कॉर्ट सर्विस देती हुई मिलीं. कई फेक प्रोफाइल्स भी मिलीं. उन्होंने सेक्स के बदले पैसों की मांग की. तो उन्होंने ऐसी प्रोफाइल्स को ब्लॉक कर दिया.

देव (बदला हुआ नाम) ने बताया कि उन्हें कई प्रोफाइल्स ऐसी मिलीं, जो असल में पुरुषों की थीं. लेकिन वो लड़की की आईडी बनाकर ऐप चला रहे थे. ये होमोसेक्शुअल पुरुष थे, जो अपनी ही तरह गे पुरुष ढूंढ रहे थे. लेकिन ऐसी प्रोफाइल्स की ख़ास बात ये थी कि मैच करते ही वो अपनी आइडेंटिटी बता देते थे. और अपना इंटेंशन क्लियर कर देते थे.

डेटिंग ऐप्स और ब्लैकमेल

जिन ऐप्स की बात हमने ऊपर की, ये अधिकतर नए ऐप हैं. इनमें लालच दिया जाता है कि आप प्रोफाइल बनाएंगे तो आपको वीडियो कॉल करने को मिलेगी. आस-पास कई लड़कियां मौजूद हैं जो आपसे बात करेंगी. लोग इन्हें डाउनलोड तो कर लेते हैं, लेकिन कई बार बुरी तरह फंस भी जाते हैं.

देव ने बताया कि उन्हें भी कुछ ऐसी प्रोफाइल्स मिलीं जो पैसों में इंटरेस्टेड थीं. किसी तरह फोन का रिचार्ज कराने को कहना. या फिर परिवार की किसी दिक्कत का रोना रोकर पैसे मांगना. इस तरह की चीज़ें अक्सर होती हैं डेटिंग ऐप्स पर.

लेकिन बात तब आगे बढ़ जाती है जब इसको लेकर ब्लैकमेलिंग शुरू हो जाए. इस तरह की परेशानियां महिलाएं भी झेलती हैं. उन्हें भी कई बार ब्लैकमेल किया जाता है. कि उनकी तस्वीरें कहीं डाल दी जाएंगी. या मॉर्फ कर दी जाएंगी. उनसे फेवर मांगे जाते हैं. धमकियां दी जाती हैं. ये चीज़ पुरुषों के मामले में पैसों पर आ कर अटक जाती है. जैसा हालिया कई केसों में देखा गया.

हमारे सूत्र, जिन्होंने मेल भेजा था, उन्होंने हमें ये भी बताया कि बाकायदा ये ब्लैकमेलर यूट्यूब पर वीडियो अपलोड करने की बात कहते हैं. प्रूफ भेजते हैं कि उन्होंने वीडियो स्क्रीनरिकॉर्ड कर लिया है. कुछ लोग पैसे दे देते हैं. कुछ लोग ब्लॉक करके निकल जाते हैं. कई सेम प्रोफाइल्स तो अलग-अलग ऐप्स पर होती हैं. वहां से अलग-अलग लोगों को फंसाती हैं.

इस तरह की ब्लैकमेलिंग का शिकार सिर्फ हेटेरोसेक्शुअल पुरुष नहीं होते. इनका एक ख़ास टार्गेट होमोसेक्शुअल पुरुष भी होते हैं.

अंशुमन (बदला हुआ नाम) भारत में नहीं रहते. कुछ साल पहले ही विदेश चले गए थे. इन्होंने बताया कि सेक्स और ख़ास तौर पर होमोसेक्शुअलिटी को लेकर जो टैबू कल्चर है, उसकी वजह से अधिकतर लोगों के लिए गे पुरुषों को ब्लैकमेल करना आसान हो जाता है.

एक नमूना ये देखिए. इसमें डेटिंग ऐप शामिल नहीं है, लेकिन टैबू कल्चर को समझने के लिए ये समझना ज़रूरी है.

हैदराबाद के एक तेलुगु न्यूज चैनल ने 2011 में एक रिपोर्ट की थी. NDTV में छपी रिपोर्ट के अनुसार इस न्यूज चैनल के एक रिपोर्टर ने गे सोशल नेटवर्किंग साईट पर अकाउंट बनाकर गे पुरुषों को बातचीत में फंसाया. उनकी बातें रिकॉर्ड कीं, और उन्हें टीवी पर चला दिया. यही नहीं, गे क्लब्स में हिडन कैमरा से ली गई फुटेज भी दिखाई गई. टीवी पर इस रिपोर्ट के आने के बाद इसमें दिखे एक लड़के ने सुसाइड करने की कोशिश तक की. उस समय तक होमोसेक्शुअलिटी भारतीय कानून के तहत एक अपराध था.

आज नहीं है. लेकिन क्या इससे जुड़ा टैबू हट गया है? खबर का पहला पैराग्राफ दुबारा पढ़िए. जवाब आपके सामने होगा.

तो आगे का रास्ता क्या है?

अंशुमन कहते हैं, कि जब तक सेक्स और होमोसेक्शुअलिटी से जुड़ा हुआ कलंक नहीं हटेगा, तब तक कोई ढंग का बदलाव नहीं होगा. इस तरह की ब्लैकमेलिंग चाहे वो स्त्रियों के साथ हो, या पुरुषों, या होमोसेक्शुअल्स के साथ हों. ब्लैकमेलिंग तभी काम करती है जब लोगों के मन में ये डर हो कि दुनियावाले क्या कहेंगे.

‘एक शादीशुदा दो बच्चों का बाप गे कैसे हो सकता है’.

या फिर

‘एक लड़की शादी से पहले सेक्स कैसे कर सकती है’.

जब इस तरह की चीज़ें बैठी रहती हैं लोगों के मन में, तो इनका इस्तेमाल करके लोगों को ब्लैकमेल करने का फायदा उठाते हैं कुछ लोग.

अंशुमन कहते हैं, कि इस तरह की घटनाओं को रोकने का उपाय ये नहीं है कि आप लोगों को डेटिंग ऐप्स इंस्टॉल करने से रोकें. या फिर उन्हें ये कहें कि आप डेट ही मत करो. वो उपाय नहीं है. और इसे उपाय की तरह देखा भी नहीं जाना चाहिए. उपाय यही है कि आप धीरे-धीरे कल्चर को ठीक करें. जहां पर एक लड़की का अपनी मर्ज़ी से पार्टनर चुनना, या फिर एक पुरुष का सामने वाले की सहमति से सेक्शुअल व्यवहार में शामिल होना, या फिर एक गे व्यक्ति का अपने लिए पार्टनर ढूंढना ‘नॉर्मल’ हो. ऐसी चीज़ नहीं जिसे लेकर ब्लैकमेल किया जा सके.

डेटिंग ऐप्स पर महिलाएं वैसे ही काफी सावधानी बरतती हैं. हिरन समझ बूझ बन चरना वाली स्थिति होती उनकी. क्योंकि बचपन से ही उनके अंदर ये चीज़ ग्रिल कर दी जाती है. कि सावधान नहीं रहीं तो दोष उन पर मढ़ा जाएगा. पुरुष थोड़े इस मामले में ढीले पड़ जाते हैं. इस चूक का फायदा उठा लिया जाता है. ऑनलाइन डेटिंग में औरतों के लिए कई सावधानियां रखने की गाइडलाइंस जारी की जाती रहती हैं. लोग छापते रहते हैं. पुरुष भी एक नज़र मार सकते हैं. काम ही आएंगी. और थोड़ी देर को ये भी अहसास हो जाएगा कि महिलाओं के लिए ऑनलाइन डेट करना कैसा होता है.

बाकी अगर कोई भी ब्लैकमेल करे, तो सीधे साइबर सेल के पास शिकायत दर्ज कराएं. ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराने के लिए यहां क्लिक करिए.


वीडियो:  ऑनलाइन डेटिंग और मैट्रीमोनियल साइट्स पर यौन शोषण के मामलों से कैसे बचें?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.