Submit your post

Follow Us

BHU ने नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर बनाने का न्योता दिया था, अब मुकरने की असली वजह तो ये है

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी यानी BHU. दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी को यहां विजिटिंग प्रोफेसर बनाने का विवाद अब अगले स्टेज पर पहुंच चुका है. नीता अंबानी रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन भी हैं. पहले तो BHU में कुछ छात्रों ने इस प्रस्ताव का विरोध किया. 17 मार्च बुधवार को खुद नीता अंबानी की कंपनी रिलायंस की तरफ से जवाब आया कि उन्हें तो विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर बीएचयू आने का न्योता ही नहीं मिला है. इधर BHU की जिस फैकल्टी में उन्हें विजिटिंग प्रोफेसर बनाने की बात कही गई थी, उसका दावा है कि न्योता तो भेजा गया था. इस बीच BHU का बयान आने से  कंफ्यूजन और बढ़ गया है. आइए बताते हैं इस पूरे मामले में क्या पेच हैं.

मिसेज अदानी, मिसेज मित्तल के नामों पर भी विचार

मंगलवार 16 मार्च का दिन. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय परिसर में कुलपति (वीसी) राकेश भटनागर के आवास के बाहर 40 से ज्यादा स्टूडेंट जमा थे. विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. इन्होंने वीसी को एक ज्ञापन सौंपा. विरोध की वजह थीं रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन नीता अंबानी. हाल ही में खबरें आई थीं कि यूनिवर्सिटी की सोशल साइंस फैकल्टी ने रिलायंस फाउंडेशन को एक प्रस्ताव भेजा. इसमें नीता अंबानी को उनके महिला अध्ययन केंद्र में विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में शामिल होने के लिए कहा गया. बता दें, सोशल साइंस फैकल्टी का महिला अध्ययन केंद्र तक़रीबन दो दशक पहले स्थापित किया गया था. यहां विज़िटिंग प्रोफ़ेसर की 3 पोस्ट हैं.

नीता अंबानी के अलावा दो और विजिटिंग फैकल्टी पदों के लिए जिन नामों पर विचार किया गया है, वो भी गौर करने वाले हैं. ये हैं- अरबपति उद्योगपति गौतम अडानी की पत्नी प्रीति अदानी, और स्टील टाइकून लक्ष्मी मित्तल की पत्नी उषा मित्तल.

फैकल्टी के डीन बोले, इनवाइट भेजा था

जिस सोशल साइंस फैकल्टी से नीता अंबानी को प्रस्ताव को भेजा गया, उसने इसका बचाव करते हुए महिला सशक्तीकरण से और ज्ञानवर्धन का हवाला दिया. सोशल साइंस फैकल्टी के डीन प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र ने लल्लनटॉप से कहा,

“हम ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट कोर्स के साथ-साथ महिला सशक्तिकरण से संबंधित शैक्षणिक और शोध कार्य करते हैं. परोपकारी उद्योगपतियों को शामिल करने की BHU की परंपरा को ध्यान में रखते हुए हमने रिलायंस फाउंडेशन को एक पत्र भेजा था. इसमें नीता अंबानी को महिला अध्ययन केंद्र में विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में शामिल होने का अनुरोध किया गया था. ऐसा इसलिए ताकि हम उनके अनुभव से लाभ उठा सकें”

प्रोफेसर मिश्रा ने कहा कि रिलायंस फाउंडेशन ने महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में बहुत काम किया है. इसी को देखते हुए हमने ये इनवाइट भेजा था.

बनारस हिंदू युनिवर्सिटी. (सोर्स - BHU)
बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर बुलाने का विरोध हुआ. (सोर्स – BHU)

इधर विरोध प्रदर्शन करने वाले स्टूडेंट्स का तर्क था कि नीता अंबानी को इनवाइट भेजकर एक गलत उदाहरण पेश किया जा रहा है. अगर विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर किसी को लाना ही है कि तो एक अमीर व्यक्ति की पत्नी को ही क्यों बुलाया जा रहा है? अरुणिमा सिन्हा, बछेंद्री पाल, मैरी कॉम या किरण बेदी जैसे लोगों को विजिटिंग प्रोफेसर क्यों न बनाया जाए?

रिलायंस ने कहा, इनवाइट नहीं मिला

बुधवार सुबह तक यह बवाल चल ही रहा था कि रिलायंस की तरफ से मामले में सफाई आ गई. रिलायंस ने आधिकारिक तौर पर कहा-

नीता अंबानी के बनारस हिंदू विश्विद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर जाने की खबरें पूरी तरह से गलत हैं. ऐसा कोई भी इनवाइट उन्हें नहीं मिला है.

फैकल्टी डीन ने दिखाए लेटर

रिलायंस के इनकार के बाद हमने इनवाइट के इस कंफ्यूजन को दूर करने के लिए प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र से बात की. उनका कहना था कि यह कहना गलत है कि हमने उन्हें इनवाइट नहीं भेजा. हमने उन्हें इनवाइट भेजा, बाकायदा उसका जवाब भी आया. अपनी बात की पुष्टि करने के लिए प्रो. मिश्र ने हमें भेजे गए इनवाइट की कॉपी और रिलायंस की तरफ से आया जवाब भी भेजा. इनकी तस्वीरें आप यहां देख सकते हैं.

Bhu Invite Nita Ambani
बीएचयू के सोशल साइंस फैकल्टी के प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्रा का कहना है कि उन्होंने इनवाइट भेजा है.

 

 इन्हीं लेटर में छिपा असली पेच

जब हमने इस इनवाइट को ध्यान से देखा तो पाया कि यह मामला भयंकर कंफ्यूजन का भी हो सकता है. फैकल्टी की ओर से 12 मार्च को रिलायंस को लेटर भेजा गया था. लेकिन  जिस ईमेल आईडी contactus@reliancefoundation.org पर इनवाइट भेजा गया, वह जनरल ईमेल आईडी है. मतलब यह ईमेल आईडी रिलायंस फाउंडेशन की वेबसाइट पर ‘हमसे संपर्क करें’ वाले सेक्शन में दी गई है. इस पर कोई भी ईमेल कर सकता है. इस पर भेजे गए ईमेल का एक ऑटोमेटेड रेस्पॉन्स यानी कंप्यूटर जनित जवाब आता है. ऐसा ही जवाब BHU फैकल्टी को भी मिला था. अब सवाल यह उठता है कि कैसे फैकल्टी इसे नीता अंबानी को आधिकारिक प्रस्ताव भेजना समझ बैठी. नीता अंबानी या किसी भी उनकी जैसी प्रभावशाली शख्सियत को इनवाइट करने के लिए उनकी टीम के करीबी लोगों से संपर्क करना होता है. रिलायंस से जुड़े एक सूत्र ने हमें बताया कि इस तरह के किसी भी इनवाइट को नीता अंबानी की एक पर्सनल टीम देखती है. पूरी तसल्ली हो जाने के बाद ही उस पर कोई एक्शन लिया जाता है. इसमें कई बार लंबा वक्त भी लग जाता है. उनका ये भी कहना था कि जनरल ईमेल पर इनवाइट भेजने को आधिकारिक इनवाइट नहीं माना जा सकता.

Bhu Nita Ambani Response
बीएचयू ने इनवाइट तो भेजा लेकिन रिलायंस फाउंडेशन के जनरल ईमेल आईडी पर.

 

यूनिवर्सिटी का साफ इनकार

इस सारे विवाद के बीच बुधवार दोपहर को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की तरफ से आधिकारिक बयान आया. यूनिवर्सिटी ने कहा,

BHU स्थित सामाजिक विज्ञान संकाय के महिला अध्ययन केन्द्र में नीता अंबानी को विज़िटिंग प्रोफेसर बनाए जाने के बारे में कोई आधिकारिक निर्णय BHU प्रशासन ने नहीं लिया है और न ही ऐसा कोई प्रशासनिक आदेश जारी हुआ.BHU में विज़िटिंग प्रोफेसर की नियुक्ति के लिए विद्वत परिषद् की मंज़ूरी आवश्यक होती है. इस मामले में न तो ऐसी कोई मंज़ूरी दी गई है, और न ही इस प्रकार का कोई प्रस्ताव विद्वत परिषद् के सामने विचार के लिए रखा गया.

 

 

लेकिन ये सवाल भी हैं

ऐसे में सवाल यह भी उठता है कि स्टूडेंट्स जब वीसी के सामने नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर न बुलाने की मांग करने गए थे, तब ये बात साफ क्यों नहीं की गई? तब वीसी ऑफिस ने इस खबर का खंडन क्यों नहीं किया? जब हमने सोशल साइंस फैकल्टी के डीन प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र से BHU प्रशासन के इस बयान के बारे में पूछा तो वह इसे यूनिवर्सिटी का फैसला बताने लगे. उन्होंने कहा कि इतना बड़ा फैसला कोई डिपार्टमेंट अपने आप कैसे ले सकता है? अब जो हुआ, सो हुआ. हम सब यूनिवर्सिटी के वक्तव्य के साथ खड़े हैं. बहरहाल, इस पूरे प्रकरण से एक बात तो साफ हो जाती है कि देश की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा. बड़े फैसलों पर इस तरह का कंफ्यूजन और बयानबाजी दिखाती है कि यूनिवर्सिटी में अध्ययन-अध्यापन के अलावा भी बहुत कुछ सुधार की गुंजाइश है.


वीडियो – मुकेश अम्बानी की कंपनी ने किसानों की ज़मीन पर बड़ा बयान दिया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.