Submit your post

Follow Us

भारत माता की माता कौन है?

1.14 K
शेयर्स

भारत माता की जय.

पॉलिटिक्स को थैंक्यू कहो. कि उसने भारत माता की जय बोलने को विवादित बना दिया. साथ ही इंस्पायर किया हमको हिस्ट्री पढ़ने के लिए. पता चला कि भारत माता का जो फोटो है, उसमें कुछ चीजें क्रिएटिव हैं. कुछ ‘कॉपी पेस्टित’. इससे पहले कि हम माता-मम्मी-अम्मी पर कटखौवल करें. चलो इतिहास की सैर कर आएं.

जब संघ की शाखा में जाता था तो माननीय प्रचारक जी अपने बौद्धिक में कहते थे कि दुनिया में भारतीयों को छोड़कर कोई भी अपने देश को माता का दर्जा नहीं देते. ऐसे सिर्फ हमीं हम हैं और ये बड़े गौरव की बात है.

लेकिन बाद में पता चला हम सबने- भारत ने भी- दूसरे देशों को देखकर डेमोक्रेसी और राष्ट्र-राज्य के सलीके सीखे हैं. भारत माता का कॉन्सेप्ट भी ओरिजिनल नहीं हैं. उनकी भी एक मम्मी थीं. नाम था, ब्रिटानिया.

दूसरी सदी में ब्रिटानिया देवी बन चुकी थीं

ईसा से एक सेंचुरी पहले तक रोमन साम्राज्य के समय ब्रिटेन की जमीन के लिए ‘ब्रिटानिया’ नाम का इस्तेमाल होता था. आज आप इस नाम का बिस्कुट खाते हैं. पांचवीं सदी थी, जब ब्रिटानिया का एक हिस्सा अलग होकर ग्रेट ब्रिटेन बन गया. लेकिन रोमन एम्पायर ने ब्रिटानिया नाम नहीं छोड़ा. 43वीं ईसवी में उन्होंने ये नाम दिया अपने अंडर आने वाले टापुओं को.

लेकिन दूसरी सदी में ही रोमन ब्रिटानिया को देवी का रूप दे दिया गया था. हाथ में भी त्रिशूल, सिर पर लड़ाई वाला हेलमेट और बाजू में खड़ा शेर खड़ा. पीछे नक्शे पर बना ब्रिटिश झंडा- जिसे आप यूनियन जैक कहते हैं.

Britannia-Statue

भारत माता से बहुत मिलती है तस्वीर

ब्रिटानिया का नाम तो चलता ही रहा. साथ में देवी का रूप भी. जो हमारी भारत माता से बहुत मिलता जुलता है. एक और पोर्ट्रेट था, 1576 के आस-पास का. इसमें ब्रिटानिया घुटनों के बल बैठी ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ से रिक्वेस्ट कर रही हैं. कि वो अपनी नेवी की मदद से उनके ब्रिटिश साम्राज्य को बचा लें.

ये 19वीं सदी का चित्र है. जिसमें ब्रिटानिया एकदम भारत माता सी दिखती हैं.

Britannia-_traditional

सिक्कों, नोटों और स्टैंप में  इस्तेमाल

सन 1672 में देवी ब्रिटानिया का पोर्ट्रेट सिक्कों में यूज होने लगा था. जब वहां का सम्राट था चार्ल्स. 1707 में जब इंग्लैंड और स्कॉटलैंड का साम्राज्य एक में मिल गया, तब इन सिक्कों की दुनिया और फैली. और ज्यादा पीछे न जाइए, मॉडर्न ब्रिटिश सिक्कों में 2008 तक देवी ब्रिटानिया की फोटो इस्तेमाल होती आई है. बाद में वो सिक्के बंद हो गए. लेकिन सोने और चांदी के सिक्के साल में एक बार निकाले जाते हैं, जिसमें ब्रिटानिया का चित्र अंकित होता है.

साल 2013 का ब्रिटानिया माता वाला ये सिक्का देखिए. इसे डिजाइन किया है रॉबर्ट हंट ने.

_2014_Silver_Britannia_
Source: Wikipedia

1855 में पांच पाउंड के नोट में ब्रिटानिया माता दिखी थीं. तब नोट ब्लैंक एंड व्हाइट होता था. और फिर 1993 में पहली बार ब्रिटानिया का फोटो स्टैंप में छापा गया. ये नोट है 25 सेंट्स का. हाथ में त्रिशूल, मस्तक पर लड़ाई वाला हेलमेट. शेर गायब.

1900_Shinplaster_Front

ये तस्वीरें उनकी ब्रिटानिया की हैं.

britain

अब हमारी भारत माता की बात

अब हम अपनी भारत माता की तरफ आते हैं. भारत को माता मानने के पीछे हर खोपड़ी की अपनी थ्योरी है. एक धड़े का कहना है कि भरत के नाम पर भारत देश का नाम है. तो भारत माता कैसे हो गई? भारत पिता क्यों नहीं? उस मामले को तूल नहीं देंगे अपन. जो मानना है वो अपने दिल की सुने और माने. लेकिन भारत को माता जिसने बनाया है वो RSS नहीं है. या कोई पंथ नहीं है. भारत को माता बहुत..बहुत माने सैकड़ों हजारों साल पहले मान लिया गया था. वाल्मीकि रामायण में एक श्लोक है. जब राम लक्ष्मण से बताते हैं कि इस सोने की लंका में क्या धरा है. मातृभूमि के सामने स्वर्ग भी दो कौड़ी का है. श्लोक ये थाः

“अपि स्वर्णमयी लंका न मे लक्ष्मण रोचते।
जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी॥”

ये श्लोक है रामायण का. लेकिन अपने पड़ोसी देश नेपाल से इसका तगड़ा कनेक्शन है. वहां का जो राष्ट्रीय निशान है उसमें नीचे ये श्लोक लिखा है.

Coat_of_arms_of_Nepal

अब मामला ये है कि धरती को धरती कहते हैं क्योंकि वह समूची दुनिया को अपने पर धारण किए है. जैसे हमको धारण करती हैं हमारी मम्मी. अपने पेट में. और जमीन का कनेक्शन इंसान से पैदा होने से मरने तक है. पुराने जमाने से अब तक देहातों में जो बच्चे की डिलिवरी होती है घर या अस्पताल में. तो बच्चे की नाल काटी जाती है. वो पहला कनेक्शन होता है मां से. वो नाल जहां गाड़ी जाती है उससे मोह आदमी नहीं छोड़ पाता था पहले. अब भी अगर कोई आदमी किसी जगह दौड़ दौड़ पहुंचता है तो गंव घर वाले ताना देते हैं “हुंवां नार गाड़ी है का तुमई?” तो पैदाइश से शुरू हुआ ये खेल आदमी के जमीन में दफ्न होने तक, या राख होने तक रहता है. इसलिए जमीन के उस टुकड़े को, जहां आप पैदा हुए, मां का दर्जा दिया गया. तो आज अगर कोई भारत माता को अपने पर्सनल एकाउंट की चीज कहता है या देशभक्ति साबित करने का जरिया मानता है तो उसके घोंचपने पर हंसो. गुस्साओ नहीं.

अब भारत माता की तस्वीर का रुख करते हैं. जो तस्वीर अभी दिखती है उसका सबसे पुराना रूप मिलता है 1905 में. आजादी का आंदोलन चल रहा था. बंगाल के आर्टिस्ट अबनींद्र नाथ टैगोर ने बनाई भारत माता की ये पहली तस्वीर. बेहद सादे लिबास में थीं. गहने वहने नहीं थे. चार हाथ थे. एक में गेहूं की बाली, दूसरे में कपड़ा. तीसरे में किताब और चौथे में माला. जिनका मतलब था कि “माता! देश में रोटी कपड़ा शिक्षा और धरम करम बनाए रखें.” ये तस्वीर उस जमाने में वायरल टाइप हो गई. स्वतंत्रता के लिए लड़ने वाले क्रांतिकारी इसे अपने पास रखते थे. लेकिन सिर्फ ये पोर्ट्रेट रखने की वजह से अंग्रेज किसी को भी पकड़ लेते थे.

bang mata

अपडेटेट मदर-नेशन

आजादी के बाद भी भारत माता की फोटो में बदलाव आते रहते हैं. पुरानी भारत माता के चार हाथ थे. अब दो रह जाते हैं. एक में त्रिशूल एक में झंडा. साथ में खड़ा हुआ शेर. अब ये जो भारत माता का पोर्ट्रेट है, ये ब्रिटानिया की फोटोकॉपी लगता है. एक पेच और है. किसी भारत माता के हाथ में तिरंगा है तो किसी के हाथ में भगवा झंडा.

bharat mata 2

माता तेरे रूप अनेक?

अब सरकारी ऑफिसेज में लगने के लिए भारत माता के कैलेंडर बनते हैं. उनमें भारत माता इतने रूपों में हैं कि गिनती चुक जाए. किसी में पूरे भारत पर उनका अक्स होगा. किसी में महापुरुषों को आशीर्वाद देती. लेकिन भारत माता के मौजूदा पोर्ट्रेट कहां से इंस्पायर्ड हैं. ये कहने की कोई जरूरत बचती है क्या?

bharat mata collage

बहस जब शुरू हुई तो सबने अपने अपने दिमाग चलाए. सबको अपनी भारत माता चाहिए. अब चूंकि सबके दिमाग में जो मां की छवि है. वो उसके हिसाब से भारत मां का पोर्ट्रेट बना रहा है. यहां देखिए. ये नई भारत मां हैं. सिर पर कलशा रखकर पानी भरने जाती एक सांवली ग्रामीण महिला. गहने बहुत ही कम. और हिंसक शेर की जगह है शांतिप्रिय भैंस. ये फोटो सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रहा है. किसने बनाया है उसके पीछे नहीं भागते हैं. लेकिन जो बनाया है उस पर गौर करना जरूरी है.

New bharat Mata

चुन लीजिए भाई अपनी अपनी भारत माता. अपन बस इतना कहेंगे.

तेरा वैभव अमर रहे मां हम दिन चार रहें न रहें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

इंग्लैंड के सबसे बड़े पादरी ने कहा वो शर्मिंदा हैं. जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

आज से KBC ग्यारहवां सीज़न शुरू हो रहा है. अगर इन सारे सवालों के जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

क्विज: कौन था वह इकलौता पाकिस्तानी जिसे भारत रत्न मिला?

प्रणब मुखर्जी को मिला भारत रत्न, ये क्विज जीत गए तो आपके क्विज रत्न बन जाने की गारंटी है.

ये क्विज़ बताएगा कि संसद में जो भी होता है, उसके कितने जानकार हैं आप?

लोकसभा और राज्यसभा के बारे में अपनी जानकारी चेक कर लीजिए.

संजय दत्त के बारे में पता न हो, तो इस क्विज पर क्लिक न करना

बाबा के न सही मुन्ना भाई के तो फैन जरूर होगे. क्विज खेलो और स्कोर करो.

बजट के ऊपर ज्ञान बघारने का इससे चौंचक मौका और कहीं न मिलेगा!

Quiz खेलो, यहां बजट की स्पेलिंग में 'J' आता है या 'Z' जैसे सवाल नहीं हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?