Submit your post

Follow Us

पहले ग़रीबी और फिर दिग्गजों को पटक ओलंपिक्स मेडल ले ही आया 'योगी का चेला'

Bajrang Punia. भारत के दिग्गज पहलवान. बड़ी उम्मीदों के साथ Tokyo 2020 Olympics तक गए बजरंग ने अपना पहला Olympics Medal जीत लिया है. उन्होंने कज़ाकिस्तान के दौलत नियाजबेकोव को 8-0 से हराकर कुश्ती का Bronze Medal जीता. टोक्यो ओलंपिक्स से पहले हमने अपनी ‘उम्मीद’ सीरीज में बजरंग की कहानी सुनाई थी. उम्मीद पूरी होने पर सोचा कि फिर से शेयर कर दें. पढ़िए कहानी बजरंग की.


ग़रीबी. तंगहाली या गुरबत. वो शय जिसकी चपेट में आने वाला परेशान ही रहता है. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस शय को ऐसा पटकते हैं, कि फिर ये लौटकर उनके पास नहीं जा पाती. दी लल्लनटॉप की Tokyo2020 स्पेशल सीरीज ‘उम्मीद’ के तीसरे एपिसोड में आज बात ऐसे ही एक एथलीट की, जिसने ग़रीबी को अपने रास्ते में नहीं आने दिया. और ऐसा दांव चला कि आज पूरी दुनिया उसकी फैन है.

# कौन हैं Bajrang Punia?

बजरंग पूनिया. रेसलिंग के लगभग हर बड़े इवेंट में मेडल जीतने वाले भारतीय रेसलर. हरियाणा के झज्जर जिले से आते हैं. बजरंग जब छोटे थे तो उनके परिवार के पास खेल-कूद का सामान खरीदने के पैसे नहीं थे. लेकिन बजरंग का मन तो खेल-कूद में ही लगता था. ऐसे में उन्होंने अपनी समस्या का सटीक जुगाड़ निकाला. बजरंग कुश्ती यानी रेसलिंग और कबड्डी जैसे खेल खेलने लगे. इन खेलों के लिए कुछ खास चाहिए नहीं था, ऐसे में घरवालों ने भी इनकार नहीं दिया.

बजरंग के पिता भी रेसलर थे और उन्होंने अपने बेटे को झट से अखाड़े को सौंप दिया. जल्दी ही बजरंग ने रेसलिंग के लिए स्कूल से गोला मारना शुरू कर दिया. और फिर आया साल 2013. बजरंग ने अपने आने का ऐलान कर दिया. उन्होंने इस साल की एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप और वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज़ मेडल्स जीत लिए. फिर साल 2014 में बजरंग ने अपने मेडल्स का रंग बदला. इस बार उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स और एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप, तीनों में सिल्वर मेडल अपने नाम किए.

बजरंग को लगातार मिलती सफलता देख उनके परिवार ने एक और बड़ा कदम उठाया. झज्जर का खुदान गांव छोड़ वो सोनीपत आ गए, जिससे बजरंग स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के रीजनल सेंटर में ट्रेनिंग कर पाएं.

# खास क्यों हैं Bajrang Punia?

बजरंग लंबे वक्त से ओलंपिक मेडलिस्ट योगेश्वर दत्त के अंडर ट्रेनिंग कर रहे हैं. बजरंग से पहले 65kg कैटेगरी में योगी ही भारत के लिए खेलते थे. लेकिन बजरंग का खेल देख योगी ने बजरंग को ट्रेन करने का फैसला किया. इस बारे में उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत के दौरान कहा था,

‘मेरा करियर अच्छा था. मैंने चार ओलंपिक्स खेले. हमारी दूसरी पंक्ति के रेसलर्स में बजरंग अच्छा कर रहा है और वह अभी और बेहतर कर सकता है. इसलिए उसे चांस और सपोर्ट देना महत्वपूर्ण है. अगर बजरंग की बात ना होती तो मैं रेसलिंग नहीं छोड़ता. मैं अभी और खेलता.

लेकिन मैंने सोचा कि यही सही वक्त है. उम्र बजरंग के साथ है. जूनियर्स के दौरान ही उसने स्पार्क दिखाया था. मैं चाहता हूं कि भारत के लोग अब बजरंग में योगेश्वर को देखें. मेरे पास लंबा करियर था और मैं नहीं चाहता कि मेरे चलते बजरंग पर असर हो.’

योगी की छत्रछाया में आने के बाद बजरंग ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. उन्होंने 2017 की एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता. और फिर 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में भी गोल्ड मेडल्स जीते. इसी साल हुई वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में उन्होंने सिल्वर मेडल जीता. जबकि अगले साल की वर्ल्ड चैंपियनशिप में उनके नाम ब्रॉन्ज़ मेडल रहा. इनके अलावा भी तमाम इंटरनेशनल मेडल्स जीत चुके बजरंग मौजूदा वक्त में वर्ल्ड नंबर वन रेसलर हैं.

# इनसे ‘उम्मीद’ क्यों?

सितंबर 2019 में ओलंपिक्स के लिए क्वॉलिफाई करने वाले बजरंग ने इसी साल मार्च में हुए मैटेओ पेल्लिकोन रैंकिंग सीरीज टूर्नामेंट में मंगोलिया के तुल्गा तुमुर ओचिर को हराकर 65kg की वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप स्पॉट हासिल किया था. टोक्यो 2020 के लिए बजरंग को दूसरी रैंकिंग मिली है. बजरंग बड़े स्टेज पर हर बार अपना बेस्ट देते हैं. उन्होंने पिछले तीन साल में हर बड़े टूर्नामेंट में मेडल जीता है. इसमें 2018 एशियन गेम्स, कॉमनवेल्थ गेम्स और 2018-2019 की वर्ल्ड चैंपियनशिप के सिल्वर और ब्रॉन्ज़ मेडल्स शामिल हैं.

वह वर्ल्ड चैंपियनशिप में तीन मेडल्स जीतने वाले इकलौते भारतीय हैं. बजरंग ने अभी तक जिस भी बड़े इवेंट में भाग लिया है, हर बार मेडल जीता ही है. योगेश्वर दत्त की मानें तो मैट पर उनके स्टेमिना की बराबरी करने लायक पहलवान मिलना बेहद मुश्किल है. इस रिकॉर्ड और फॉर्म को देखते हुए हर भारतीय बजरंग से मेडल की उम्मीद कर रहा है.

हालांकि एक बात और है, बजरंग की कैटेगरी कुश्ती की सबसे कठिन कैटेगरी मानी जाती है. पहली बार ओलंपिक्स खेलने जा रहे बजरंग को मेडल जीतने के लिए विश्व चैंपियन गदजिमुराद रशीदोव, 2018 के विश्व चैंपियन जापानी ताकुतो ओटोगुरो, कजाकिस्तान के दौलत नियाजबेकोव और रियो 2016 के ब्रॉन्ज़ मेडलिस्ट अजरबजान के हाजी अलीयेव जैसे दिग्गजों की चुनौती से पार पाना होगा.

जाहिर है कि इतने सारे दिग्गजों से निपटना आसान नहीं होगा. लेकिन अगर नाम बजरंग और काम ताकत का हो तो सबकुछ आसान लगता है.


नीरज चोपड़ा की कहानी जिनके जैवलिन से इंडिया को है गोल्ड मेडल की आस

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.