Submit your post

Follow Us

अयोध्या : उस जज की पूरी कहानी, जिनके नाम पर विवाद हुआ और उसने केस छोड़ दिया

1.18 K
शेयर्स

10 जनवरी, 2019. सुबह से लोग टीवी पर चिपककर बैठे हुए थे. वजह. वजह ये थी कि अयोध्या मामले पर सुनवाई होनी थी. सुनवाई करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने पांच जजों की एक संवैधानिक पीठ बनाई थी. इन पांच जजों में शामिल थे खुद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई. और जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, जस्टिस नूथलापती वेंकट रमन्ना, जस्टिस उदय उमेश ललित और जस्टिस धनंजय यशवंत चंद्रचूड.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (1), जस्टिस यूयू ललित (2)जस्टिस शरद अरविंद बोबडे (3), जस्टिस एनवी रमन्ना (4) और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड (5) को मिलाकर बेंच बनी थी.

सुनवाई शुरू हुई. मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन उठे और कहा कि इस बेंच में शामिल जस्टिस यूयू ललित 1994 में कल्याण सिंह के लिए बतौर वकील पेश हो चुके हैं. अब जवाब हिंदू पक्ष को देना था. इसके लिए वकील हरीश साल्वे उठे और कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. फर्क इसलिए नहीं पड़ता है, क्योंकि 1994 का मामला ही अलग था. फिर राजीव धवन ने कहा कि वो जस्टिस ललित को बेंच से हटाने के लिए नहीं कह रहे हैं. वो बस जानकारी के लिए बता रहे हैं. अब दोनों पक्षों में तो बात हो गई. लेकिन जस्टिस ललित ने खुद को बेंच से अलग करने का फैसला कर लिया. जस्टिस यूयू ललित ने कहा-

‘जब मैं वकील था, तो मैं बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सुनवाई के दौरान बतौर वकील एक पक्ष की तरफ से पेश हुआ था. इसलिए अब मैं इस मामले से हटना चाहता हूं.’

इसके बाद चीफ जस्टिस ने कहा कि सभी जजों का मत यही है कि इस मामले में जस्टिस ललित का सुनवाई करना सही नहीं होगा. और इसके बाद जस्टिस यूयू ललित बेंच से हट गए. अब बेंच का गठन नए सिरे से किया जाएगा. चीफ जस्टिस नई बेंच गठित करेंगे. 29 जनवरी को अगली सुनवाई नई बेंच ही करेगी. 10 जनवरी को सुनवाई टलने की एक और वजह रही. कोर्ट में 13,860 पन्ने के दस्तावेज रखे जाने थे. इन कागजों में अरबी, फारसी, संस्कृत, उर्दू और गुरमुखी में लिखे गए काजग थे, जिनका ट्रांसलेशन होना था. अब ट्रांसलेशन हुए हैं या नहीं और जो हुए हैं, वो कितने सही हैं, इसकी जांच होनी है. इसके लिए भी कोर्ट को वक्त चाहिए था. और इसके लिए 29 जनवरी, 2019 की तारीख तय हो गई.

सुप्रीम कोर्ट ने 1994 के फैसले पर फैसला दिया है.
सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मसले पर सुनवाई 29 जनवरी तक के लिए टाल दी है.

अब इतना सब हो गया. कोर्ट में सुनवाई के लिए अगली तारीख भी तय हो गई. लोग टीवी से हट गए. और पहुंच गए गूगल पर. ये खोजने कि ये जस्टिस यूयू ललित कौन हैं. तो हम आपको बता रहे हैं कि ये जस्टिस यूयू ललित कौन हैं.

मुंबई के रहने वाले जस्टिस उदय उमेश ललित वकीलों के परिवार से ताल्लुक रखते हैं. उनके पिता जस्टिस यू.आर. ललित एक क्रिमिनल लॉयर थे. उन्हें बाद में बॉम्बे हाई कोर्ट का एडिशनल जज बनाया गया. अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए यूयू ललित भी पहले वकील और फिर जज बने.

जब वकील बने तो ये नामी केस हैंडल किए

जस्टिस यूयू ललित जस्टिस बनने से पहले वकील थे.
जस्टिस यूयू ललित जस्टिस बनने से पहले वकील थे.

1. क्लाइंट का नाम- अमित शाह

केस- सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस और तुलसीराम प्रजापति 

2. क्लाइंट का नाम- सलमान खान

केस- ब्लैक बक और चिंकारा

3. क्लाइंट का नाम- जनरल वीके सिंह

केस- थल सेनाध्यक्ष की उम्र पर विवाद

4. क्लाइंट का नाम- बिनायक सेन

केस- देशद्रोह का केस

5. क्लाइंट का नाम- हसन अली खान

केस- मनी लॉन्ड्रिंग 

6. क्लाइंट का नाम- स्पेशल प्रोसिक्यूटर

केस- 2जी स्पेक्ट्रम

देश के लिए दिए कई अहम फैसले

जस्टिस यूयू ललित.

1. जस्टिय यूयू ललित उस बेंच का हिस्सा थे, जिन्होंने तीन तलाक पर फैसला दिया था और इसे असंवैधानिक ठहराया था.

2. जस्टिस यूयू ललित की बेंच ने ही एससी-एसटी एक्ट पर जांच से पहले एफआईआर दर्ज न करने का फैसला दिया था, जिसके बाद पूरे देश में हंगामा हो गया था.

3. जस्टिस यूयू ललित की बेंच ने ही महिलाओं के उत्पीड़न के लिए बनी आईपीसी की धारा 498 A के गलत इस्तेमाल पर रोक लगाने का फैसला दिया था.

4. जस्टिस यूयू ललित की बेंच ने ही हिंदू मैरिज एक्ट पर आदेश दिया था कि अगर रजामंदी से तलाक के केस में समझौते की गुंजाइश न हो, तो छह महीने का वेटिंग पीरियड खत्म हो सकता है.


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Ayodhya Case : All about Justice UU Lalit who quit himself from the constitutional bench

कौन हो तुम

चिन्नास्वामी स्टेडियम में हुई वो घटना जो आज भी इंडिया-पाकिस्तान WC मैच की सबसे करारी याद है

जब आमिर सोहेल की दिखाई उंगली के जवाब में वेंकी ने उन्हें उनकी जगह दिखाई थी.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.