Submit your post

Follow Us

अयोध्या में मंदिर और मस्जिद के विवाद की कहानी यहां से शुरू हुई थी

बाबरी मस्जिद का मसला. 1992 में कारसेवकों ने मस्जिद गिरा दी. लेकिन उसके काफी समय पहले से – लगभग 106 साल पहले से – बाबरी मस्जिद का विवाद कोर्ट में है. ज़मीन की मिल्कियत को लेकर. तीन पक्ष. निर्मोही अखाड़ा, रामलला विराजमान और सुन्नी वक्फ बोर्ड.

Ayodhya Banner Final
अयोध्या का पूरा सच जानने के लिए क्लिक करें.

लेकिन मिल्कियत के मामले से ज्यादा हल्ला मस्जिद के विध्वंस को लेकर उड़ा. भाजपा और विश्व हिन्दू परिषद् के कई नेताओं का नाम सामने आया. लेकिन इस सब के पहले भी अयोध्या में मौजूद बाबरी मस्जिद पर हमला किया गया था.

कब? साल 1934 में. देश को आज़ादी नहीं नसीब हुई थी. अयोध्या से थोड़ी दूर मौजूद शाहजहांपुर. तारीख 27 मार्च 1934. इस दिन के बारे में वकील परमानंद सिंह ने अपनी किताब में लिखा है. कहा है कि इस दिन बक़रीद का त्यौहार था. और शाहजहांपुर में बक़रीद मनाने के लिए गाय की क़ुरबानी दी गयी.

शाहजहांपुर और अयोध्या में दूरी होने के बावजूद अयोध्या में गाय काटने की बात को लेकर अच्छा ख़ासा बवाल खड़ा हुआ. दोनों समुदाय एक दूसरे के सामने आ गए. और गुस्से में हिन्दू समुदाय ने बाबरी मस्जिद को नुकसान पहुंचाया. बाबरी मस्जिद के चारों ओर की दीवार और मस्जिद के एक गुम्बद को गुस्साई भीड़ ने तोड़ दिया.

लेकिन मामला शांत हुआ. एक ठेकेदार ने ब्रिटिश सरकार से पैसे लेकर मस्जिद की मरम्मत की. और तभी से बाबरी मस्जिद सरकार की निगाह में आ गयी. साल 1936. वक्फ कमिश्नर ने एक जांच शुरू की. यूपी मुस्लिम वक्फ एक्ट के तहत. इस जांच का भी मकसद यही था कि मस्जिद की मिल्कियत साबित हो सके. जांच पूरी हुई. कहा गया कि 1528 में बाबर ने मस्जिद का निर्माण करवाया, जो खुद सुन्नी मुस्लिम था. और मार्च 1946 में बाबरी मस्जिद को सुन्नी मस्जिद घोषित कर दिया गया.

लेकिन अयोध्या में हिन्दू मुसलमान का ये पहला झगड़ा नहीं था. इसके पहले भी कई मौके पर ऐसे झगड़े होते रहे थे. पुरानी खबरें बताती हैं कि 1855 में एक मुस्लिम समूह ने हनुमानगढ़ी मंदिर पर धावा किया. कहा कि हनुमानगढ़ी मंदिर मस्जिद को तोड़कर उस पर बनाया गया है. और मुस्लिम समूह उस हिस्से का अधिग्रहण करने की मांग करने लगा.

उस समय भी दोनों पक्षों के बीच हिंसा हुई. हिन्दू पक्ष ने मुस्लिमों को हनुमानगढ़ी से बाहर कर दिया. हिंसा में कई जानें भी गयीं. लेकिन इस घटना से 1992 के विध्वंस का रास्ता खुला. कहा जाता है कि 1857 की क्रान्ति के बाद हनुमानगढ़ी के महंत ने बाबरी मस्जिद के परिसर में एक चबूतरे का निर्माण करा दिया. और कहा जाता है कि ऐसे ही प्रकाश में आया राम चबूतरा और पूरे मामले का आधार.


वीडियो : अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दिन के पीछे की क्या गणित है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.