Submit your post

Follow Us

यूपीः पशुपालन विभाग में फर्जीवाड़े की ये कहानी 'फिल्मी' लगती है!

यूपी में पशुपालन राज्यमंत्री के ऑफिस से ही फर्जीवाड़े का बड़ा मामला सामने आया है. कमाल की बात यह कि पूरे फर्जीवाड़े को लखनऊ स्थित विधानसभा परिसर के भीतर ही अंजाम दिया गया. मामला इतना फिल्मी है कि जांच के लिए पहुंची पुलिस भी चकरा गई. जांच से पता चला कि फर्जीवाड़े का ये दफ्तर विधानसभा में पिछले दो साल से चल रहा है. इसे पुलिस ने 2018 के धोखाधड़ी मामले में जून में एफआईआर होने के बाद अब बंद कराया है.

इंदौर के बिजनेसमैन से ठगे नौ करोड़ रुपए

एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश ने मामले की जानकारी देते हुए पत्रकारों को बताया कि 2018 में इंदौर के एक व्यापारी मंजीत भाटिया को करोड़ों का ठेका दिलवाने के लिए बाकायदा मंत्री की गाड़ी में बिठाकर विधानसभा परिसर में लाया गया. वहां कुछ लोग उसे मौजूदा पशुधन राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद के निजी सचिव के कमरे में ले गए. इस दौरान कमरे के बाहर पशुपालन विभाग के डायरेक्टर एसके मित्तल की तख्ती भी लगा दी गई. आशीष राय नाम का शख्स डायरेक्टर बनकर कुर्सी पर बैठ गया. सब कुछ इतना असली था कि व्यापारी भी झांसे में आ गया. उसने डील के तहत 9.72 करोड़ रुपए की पहली किस्त की रकम भी कमीशन के तौर पर दे दी.

मंजीत से पूरा सौदा 15 करोड़ रुपये में तय हुआ था. 9.72 करोड़ रुपये मिलने के बाद उसे फर्जी वर्क आर्डर भी थमा दिया गया था. जब मंजीत के सामने इस कारनामे का भांडा फूटा, तो उसने अपने पैसे वापस मांगे, लेकिन धमकी दी जाने लगी. मंजीत लगातार इस मामले में कार्रवाई को लेकर दौड़ते रहे, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई. उन्होंने जून, 2020 में मुख्यमंत्री तक पहुंचाने की कोशिश की, जिसके बाद मामले में तेजी आई. जांच में पता चला कि इस कारनामे में पशुधन, मत्स्य एवं दुग्ध विकास राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद का प्रधान निजी सचिव रजनीश दीक्षित, सचिवालय का संविदा कर्मी धीरज कुमार देव, कथित पत्रकार एके राजीव और खुद को पशुपालन विभाग का डायरेक्टर बताने वाले आशीष राय के अलावा कुछ पुलिसवाले भी शामिल हैं.

बिना पास के ही विधानसभा परिसर में कराते थे एंट्री

जब भी कोई शख्स विधानसभा जैसी महत्वपूर्ण जगह पर एंट्री करता है, तो उसके पास या तो एंट्री करने के लिए वैलिड आईकार्ड होता है या फिर एंट्री के लिए पास बनवाना पड़ता है. पास उस शख्स का ही बनता है, जिसे विधानसभा परिसर के भीतर काम करने वाला कोई अधिकृत करे. लेकिन फर्जीवाड़ा करने वालों की विधानसभा में सेटिंग इतनी तगड़ी थी कि बिना पास बनवाए ही किसी की एंट्री करा देते थे.

ठगी के शिकार मंजीत के अनुसार, लखनऊ पहुंचने के बाद वे विधानसभा गेट नम्बर नौ पहुंचे, जहां एक चपरासी बिना पास बनवाए सचिवालय के अंदर लेकर चला गया. एक बड़े कमरे में बैठे एके मित्तल बन कर बैठे आशीष राय से मिलवाया. बातचीत करने के बाद वर्क ऑर्डर रिसीव करवाया और बाकी के रुपए देने के लिए कहा. मंजीत ने यह आरोप भी लगाया है कि उन्हें लखनऊ में ही नाका हिंडोला कोतवाली ले जाकर पुलिसवालों ने जान से मारने की धमकी दी.

दो साल से चल रहा था धोखाधड़ी का ऑफिस

पुलिस के लिए भी यह बात हैरान करने वाली रही है कि पूरे मामले को जिस ऑफिस में अंजाम दिया गया, वह दो साल से विधानसभा परिसर में चल रहा था और किसी को भनक तक नहीं लगी. जब मामले ने तूल पकड़ा, तो 13 जून को ठगी के शिकार मंजीत ने 11 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई. इनमें धीरज कुमार, उमेश मिश्रा, कथित पत्रकार संतोष मिश्रा, एके राजीव, अनिल राय, अमेठी निवासी अमित मिश्रा, कानपुर निवासी उमाशंकर तिवारी, लखनऊ निवासी रजनीश, डीबी सिंह और मुम्बई निवासी अरुण राय शामिल हैं. मामले में दिलबहार सिंह यादव नाम के एक पुलिसवाले का नाम भी आया है, जिसने पैसे वापस मांगने पर मंजीत को एनकाउंटर करने की धमकी दी थी. पुलिसवाले को सस्पेंड कर दिया गया है. फिलहाल पुलिस पत्रकार अनिल राय, मंत्री के प्रधान सचिव रजनीश दीक्षित, धीरज कुमार, आशीष राय, एके राजीव, रूपक राय और उमाशंकर त्रिवेदी को गिरफ्तार कर चुकी है.

प्रियंका योगी सरकार पर हमलावर

चूंकि फर्जीवाड़े को विधानसभा परिसर में ही अंजाम दिया गया, ऐसे में यूपी की बीजेपी सरकार पर भी उंगली उठने लगी है. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया, “यूपी की भाजपा सरकार में प्रदेश का सबसे बड़ा दफ्तर सचिवालय भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया है. पशुपालन विभाग के घोटाले ने सरकार के पूरे भ्रष्ट तंत्र की कलई खोल दी.”

हालांकि पूरे मामले में किसी को भी न बख्शने के सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद से ही तेजी आई है. इसके बाद ताबड़तोड़ गिरफ्तारियां भी हुई हैं. सूत्रों का कहना है कि चूंकि ये ऑफिस दो साल से चल रहा था, ऐसे में इस तरह की धोखाधड़ी के शिकार दूसरे लोग भी सामने आ सकते हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.